Motivational

Khuda Shayari: Best 52+ खुदा पर शायरी Collection

Khuda Shayari: Assalamu Alaikum dosto, aaj ki ye shayari post behad hi khas hai. ye post khaskar Khuda ki rehmat hum sab par barsti rahe, isliye unki shan e shaukat me likhi gyi hai.

Khuda par nayab shayariya pesh karne ka humara ye prayas aapko jaroor acccha lagega. Wo kahte hai n ke “मैं अगर सात समंदर भी निचोडु राहत आपके नाम की एक मीम नही लिख सकता” thik issi tarah hum samjhte hai. Kuch chand sher pesh karne ki iccha ko pura karne hetu iss post ka badi sahejta se likha gya hai.

Table of Content



  1. Khuda Shayari Collection
  2. Unique Khuda ki Shayari Urdu
  3. Top Khuda par Shayari in Hindi
  4. Khuda ke upar Shayari
  5. Best Khuda pe Shayari
  6. Summary

Listen to Khuda Shayari by Ravindra Menon


Khuda Shayari Collection

khuda shayari
khuda shayari
1)

तेरी रहमतों के साए में
हम इंसान मचलते रहे..

इस चमकते आफताब की तरह
उधर डूबते रहे, इधर निकलते रहे..

-Sagar

teri rahamaton ke saaye mein
ham insan machalte rahe..
is chamakte aftab ki tarah
udhar doobte rahe, idhar nikalte rahe..


💕 Listen Uninterrupted Shayari 💕
🙏After Small Advertisement🙏



2)

मेरी इतनी अर्जी मान ले ए खुदा..

मेरा यार ना हो कभी मुझसे जुदा..

-Anamika

meri itni arji man le ae khuda..
mera yaar na ho kabhi mujhse judaa..

3)

ढूंढता हूं मैं तुझे हर जगह
मगर मिलता ही नहीं हैं..

खुदा तू छिपा कहा हैं
ढूंढू फिर भी मिलता नहीं हैं..

-Vrushali

dhundhta hun main tujhe har jagah
magar milta hi nahin hai..
khuda tu chhipa kahan hai
dhundhu fir bhi milta nahin hai..



Also Read: Ramzan Ka Pehla Jumma Mubarak Shayari

4)

खुदा ही मेरा मददगार है..

बस उसी पे मुझे ऐतबार है..

-Santosh

khuda hi mera madadgaar hai..
bas usipe mujhe aitbaar hai..

5)

गरूर करने वालों से क़यादत छीन लेता है
बिन माँगे ही, वो ज़रूरत से सिवा देता है..

हादसे नहीं करते कभी रुख उस चौखट का
जिस घर में ज़िक्र खुदा का सदा रहता है..

-Moeen

garoor karne walon se qayadat chhin leta hai
bin mange hi, wo jarurat se siva deta hai..
haadse nahin karte kabhi rukh us chaukhat ka
jis ghar mein zikr khuda ka sada rahata hai..

Also Read : Eid Shayari



6)

मेरे दिल की इल्तिजा सुनता है मेरा खुदा..

उसके बगैर लगती जैसे जिस्म से जान जुदा..

-Sapna

mere dil ki iltija sunta hai mera khuda..
uske bagair lagti jaise jism se jaan juda..

7)

इंसानियत की गिरा कर दीवार
इंसान से इंसान हुआ है जुदा..

डूबती इंसानियत की इस नैय्या को
अपनी रहमत से पार लगा दे खुदा..

-Sagar

insaniyat ki gira kar deewar
insan se insan hua hai juda..
dubti insaaniyat ki is naiyya ko
apni rahamat se paar laga de khuda..

8)

अपनी रहमतों से मेरे ऐब छुपाने वाला
मुझे हर परेशानी से है वो बचाने वाला..

मुख़ालीफ लहरों में डूबने नहीं देता मुझे
मेरे लबों पर ज़िक्र अपना सजाने वाला..

-Moeen

apni rahamaton se mere aib chupane wala
mujhe har pareshani se hai vo bachane wala..
mukhalif laharon mein dubne nahin deta mujhe
mere labon per zikr apna sajane wala..

9)

मेरा खुदा तो मेरे सामने हैं
हर इंसान में उसका अंश हैं..

जरूरत क्या हैं उसे ढूंढने की
कुदरत में खुदा खुद बसा हैं..

-Vrushali

mera khuda to mere samne hai
har insan mein uska ansh hai..
jarurat kya hai use dhundhne ki
qudrat mein khuda khud basaa hai..



khuda pe shayari
khuda pe shayari
10)

खुदा ने मेरे दिल की बात है शायद सुन ली..

महबूब को मिलाकर मेरी है लाज रख ली..

-Anamika

khuda ne mere dil ki baat hai shayad sun li..
mehboob ko milakar meri hain laaj rakh li..

Also Read : Insaniyat Shayari

Unique Khuda ki Shayari Urdu

11)

हालात जमाने के
जब भी होते मुश्किल..

मेरे मौला तुझे ही याद
करते रहता मेरा दिल..

-Sagar

halat zamane ke
jab bhi hote mushkil..
mere maula tujhe hi yad
karte rahta mera dil..

12)

बदल दे मेरे हालात कहता है ज़माना करीम तुझे
बख्श दे मेरी ख़ताएँ कहता है ज़माना रहीम तुझे..

सरापा खतावार हुँ मैं, उठते नहीं है हाथ दुआ को
सुन ले मेरी सदा कहता है ज़माना अलीम तुझे..

-Moeen

badal de mere haalat kahta hai jamana karim tujhe
baksh de meri khataye kahta hai jamana raheem tujhe..
sarapa khatawar hun main, uthate nahin hai hath dua ko
sun le meri sada kahta hai jamana aleem tujhe..



13)

खुदा से मोहब्बत करने वाला
खुद उसका अंश बन जाता हैं..

मज़ार पर बैठे फकीर में भी
वो खुदा को देख पाता हैं..

-Vrushali

khuda se mohabbat karne wala
khud uska ansh ban jata hai..
mazar per baithe faqir me bhi
vo khuda ko dekh pata hai..

14)

जिंदगी की सारी ख्वाहिशें
तुझसे है, मेरे खुदा..

लाखों बार करता हूं
मैं तेरा शुक्रिया अदा..

-Santosh

jindagi ki sari khwahishen
tujhse hai, mere khuda..
lakhon bar karta hun
mai tera shukriya ada..

15)

अँधेरी रात की कोख से सूरज निकालता कौन है
डूबने वालों को मँझधार में सदा संभालता कौन है..

उस के बन्दों को जब डुबाती है लहरें हालात की
समंदर को हुक्म दे कर उन्हें उछालता कौन है..

-Moeen

andheri raat ki kokh se suraj nikalta kaun hai
doobne walon ko manjdhar mein sada sambhalta kaun hai..
uske bandon ko jab doobati hai laharen halat ki
samundar ko hukm dekar unhen uchhalta kaun hai..

khuda par shayari
khuda par shayari

Also Read : Struggle Motivational Quotes in Hindi



16)

मौला के बिना अधूरी मेरी कहानी है..

खुदा की रहमत से ही तो जिंदगानी है..

-Anamika

maula ke bina adhuri meri kahani hai..
khuda ki rehmat se hi to zindagani hai..

17)

जब जिस्म मुझे लगता है बेजान..

मैं फिर जी उठता हुँ, सुन कर अज़ान..

-Sagar

jab jism mujhe lagta hai bejaan..
main fir ji uthta hoon, sunkar azaan..

18)

वो परवरदिगार जो तेरे साथ है..

बंदे, तुझे डरने की क्या बात है..!

-Santosh

vo parwardigaar jo tere sath hai..
bande, tujhe darne ki kya baat hai..

19)

खुदा ने तोहफ़े दिए हैं जिसे हजार..

वो अंधा इंसान अब भी हैं बेजार..

-Vrushali

khuda ne tohfe diye hain jise hajar..
vo andha insan ab bhi hai bezar..



20)

खुदा की हो रहमत तो मिल जाए मकाम..

मौला ही है मेरी इब्तिदा, मौला ही अंजाम..

इब्तिदा : आरंभ, शुरुआत

-Sapna

khuda ki ho rahamat to mil jaaye makam..
maula hi hai meri ibtida, maula hi anjam..

2 Line Khuda Shayari
2 Line Khuda Shayari

Also Read : Suvichar Shayari

Top Khuda par Shayari in Hindi

21)

दिल से पढूं अगर मैं कुरान
तो तेरी खुदाई समझती है..

इंसानियत के दुश्मनों की कोई
तरकीब फिर कहाँ चलती है...

-Sagar

dil se padhoo agar main quran
to teri khudai samajhti hai..
insaniyat ke dushman ki koi
tarkeeb fir kahan chalti hai..

22)

तू ही है मेरी जिंदगी, तू ही है धरम..

या मेरे मौला, सारा है तेरा ही करम..

-Anamika

tu hi hai meri jindagi, tu hi hai dharam..
ya mere maula, sara hai tera hi karam..

23)

वो खुदा को कैसे देख लेते
जो आदमियत ना समझ पाएं..

खुदा कैसे मिल जाता उन्हें
जो उसके बंदे ना बन पाएं..

-Vrushali

vo khuda ko kaise dekh lete
jo aadamiyat na samajh paye..
khuda kaise mil jata unhen
jo uske bande na ban paye..

24)

उसके बिना दिल को
मेरे ना कोई चाह है..

मेरा मसीहा, मेरा
साथी, बस अल्लाह है..

-Santosh

uske bina dil ko
mere na koi chaah hai..
mera masiha, mera
sathi, bas allah hai..

25)

कायनात का ज़र्रा ज़र्रा लेता है नाम तेरा
बन्दों की मुसीबत टाल देना है काम तेरा..

उसी के हुक्म से है गर्दिशें सितारों की
खलकत को है काफी सिर्फ पैगाम तेरा..

-Moeen

qaynaat ka zarra zarra leta hai naam tera
bandon ki musibat taal dena hai kaam tera..
usi ke hukm se hai gardishen sitaron ki
khalkat ko hai kafi sirf paigam tera..

khuda ki rehmat shayari
khuda ki rehmat shayari

Also Read : Kismat Shayari

26)

खुदा की बदौलत है मुझ पर रहमत..

हरदम करता रहूं मैं उसी की इबादत..

-Sapna

khuda ki badolat hai mujh per rahamat..
hardam karta rahoon main usi ki ibadat..

27)

उस के नामलेवा ज़माने में परेशान नहीं होते
उस की हम्द पढ़ने वाले दिल वीरान नहीं होते..

ज़माने ने चाहा सदा मिटाना तेरे परस्तारों को
इस निशानी के संग कभी बेनिशाँ नहीं होते..

-Moeen

uske naamleva zamane mein pareshan nahin hote
uski hamd padhne wale dil veeran nahin hote..
jamane ne chaha sada mitana tere parstaron ko
is nishani ke sang kabhi benishan nahin hote..

28)

खुशियां दी है हमेशा,
दर्द को किया है जुदा..

करता हूं हमेशा आपकी
इबादत, या मेरे खुदा..

-Anamika

khushiyan di hai hamesha,
dard ko kiya hai juda..
karta hun hamesha aapki
ibadat, ya mere khuda..

29)

वो माँगने से पहले ही झोलीया भर देता है
दूर हर परेशानी को, राहों से कर देता है..

मिटा कर देखो कभी खुद को उस राह में
कभी ना जो ख़त्म हो ऐसा वो समर देता है..

*समर : फल

-Moeen

vo mangne se pahle hi jholiyan bhar deta hai
dur har pareshani ko, rahon se kar deta hai..
mita kar dekho kabhi khud ko us raah me
kabhi na jo khatm ho aisa vo samar deta hai..

30)

जो चाहे मांगो उससे, हमेशा खुशी से..

खुदा कभी ना कतराता, कुछ भी देने से..

-Santosh

jo chahe mango usse, hamesha khushi se..
khuda kabhi na katrata, kuchh bhi dene se..

khuda par sher
khuda par sher

Khuda ke upar Shayari

31)

उसी के हुक्म से चलता है कायनात का निज़ाम
करता है रौशन राहे ज़माने की उस का पयाम..

वो बख्श देता है सरापा गुनाहगारों को भी
जब्बार है वो, रहीम है उसी का एक नाम..

-Moeen

usi ke hukm se chalta hai qaaynat ka nizam
karta hai roshan raahe zamane ki uska payaam..
vo baksh deta hai sarapa gunahgaron ko bhi
jabbar hai vo, rahim hai usi ka ek naam..

32)

सबसे ऊंची है मेरे खुदा की शान..

किए उसी ने पूरे मेरे सारे अरमान..

-Sapna

sabse unchi hai mere khuda ki shaan..
kiye usi ne pure mere sare armaan..

33)

दर बदर भटकने वाले पाते है पनाह तेरे दरबार में
नहीं कोई अदना आला, उस मुक़द्दस सरकार में..

जहा बरसती है नूर की घटा हर घडी शबाना रोज़
मुझ फ़क़ीर का हो क़याम चंद रोज़ उस दियार में..

-Moeen

dar badar bhatakne wale paate hain panaah tere darbar mein
nahin koi adnaa aala, us muqaddas sarkar mein..
jahan barasti hai noor ki ghata har ghadi shabana roj
mujh fakir ka ho qayaam chand roj us deeyar mein..

34)

खुदा अगर हो साथ तो बेखयाली नहीं होती..

खुदा की महफिल कभी भी खाली नहीं होती..

-Anamika

khuda agar ho sath to bekhayali nahin hoti..
khuda ki mehfil kabhi bhi khali nahin hoti..

35)

ज़माने में बुलंद होती अल्लाहु अकबर की सदाएँ
मेरी ज़िन्दगी में भी खैर से कभी वो दिन आए..

चल कर सर के बल अकीदत की ज़मीन पर
किसी रोज़ हम रूसिया भी तैबा नगरी को जाए..

-Moeen

zamane mein buland hoti allahu akbar ki sadayen
meri zindagi mein bhi khair se kabhi vo din aaye..
chal kar sar ke bal aqeedat ki zameen par
kisi roz ham rusiyaa bhi taiba nagari ko jaaye..

khuda status
khuda status
36)

खुदा के दरबार में आए जो भी सवाली..

पूरी होती तमन्नाएं, जाता नहीं कभी खाली..

-Santosh

khuda ke darbar mein aaye jo bhi sawali..
puri hoti tamannaye, jata nahin kabhi khali..

37)

तेरी राह में बसर हो मेरी ये ज़िन्दगी
तेरे करम की है मोहताज हर ख़ुशी..

भरते है जो औरों की ज़िंदगी में रंग
उन ही की तक़्दीरों में लिखता है वो बुलंदी..

-Moeen

teri rah me basar ho meri ye jindagi
tere karam ki hai mohtaj har khushi..
bharte hain jo auron ki jindagi mein rang
un hi ki takdiro mein likhta hai vo bulandi..

38)

मुकद्दर में जो है वो मिला करता है..

खुदा हमेशा खाली झोली भरता है..

-Sapna

muqaddar mein jo hai vo mila karta hai..
khuda hamesha khali jholi bharta hai..

39)

सारी कायनात पर तेरी हुक्मरानी चलती है
तेरे ही हुक्म से रातें करवट बदलती है..

जो गुज़ार देते है उम्र अपनी तेरी राह में
देख कर उन्हें मुश्किलें, रास्ता बदलती है..

-Moeen

sari kaynat par teri hukmrani chalti hai
tere hi hukm se raaten karwat badalti hai..
jo gujar dete hain umra apni teri raah mein
dekh kar unhen mushkilen, rasta badalti hai..

40)

जब जब होता हूं मैं गमजदा..

बस तुझे याद करता, ऐ खुदा..

गमजदा : दुखी, गमगीन

-Anamika

jab jab hota hun main gamzada..
bus tujhe yaad karta, aye khuda..

khuda shayari urdu
khuda shayari urdu

Best Khuda pe Sher

41)

तेरे नाम से जागू, तेरे नाम से सोया करूँ
अश्कों से मैं गुनाहों को अपने धोया करूँ..

इंसानियत का ऐसा दर्द अता कर मुझे मौला
जो देखू किसी को तड़पता तो पहरों रोया करुँ..

-Moeen

tere naam se jagoo, tere naam se soya karun
ashqo se main gunaho ko apne dhoya karun..
insaaniyat ka aisa dard ata kar mujhe maula
jo dekhoon kisi ko tadpata to paharon roya karun..

42)

एक दुआ इस गरीब की
कर ले ख़ुदा तू कुबूल..

तुझे ही मानता हूं मैं
मसीहा, तू ही है रसूल..

-Santosh

ek dua is garib ki
kar le khuda tu qubool..
tujhe hi manta hun main
masiha, tu hi hai rasool..

43)

जब आन पड़ी मुश्किलें नाम तेरा लेते रहे
मुसीबतें हटती गई, हम वास्ता तेरा देते रहे..

जब फेंके गए इलज़ाम के पत्थर हम पर
"खुदा सब जानता है" बस यही कहते रहे..

-Moeen

jab aan padi mushkilen naam tera lete rahe
musibaten hatati gai, ham wasta tera dete rahe..
jab fenke gaye ilzaam ke patthar ham per
“khuda sab jaanta hai” bus yahi kahate rahe..

44)

मानता हूं मैं जिंदगी का मखदूम अपना..

या खुदा तेरे बिन ग़मगीन है हर सपना..

मखदूम : ख़िदमत के योग्य, पूजनीय

-Sapna

manta hun main jindagi ka makhdoom apna..
ya khuda tere bin gamgin hai har sapna..

45)

तू है कादिर, हम ने शान तेरी निराली देखी
पल भर में बदहाली की जगह खुशहाली देखी..

गुनाहगारों को देता है पनाह अपनी बारगाह में
हम ने जोश में आते अकसर उसकी खुदाई देखी..

-Moeen

tu hai kadir, humne teri nirali dekhi
pal bhar mein badahaali ki jagah khushhali dekhi..
gunahgaron ko deta hai panaah apni baargah mein
humne josh mein aate aksar uski khudai dekhi..

khuda shayari hindi
khuda shayari hindi
46)

जिंदगी में अल्लाह की इबादत
बिना कोई काम ना हो..

खुदा के सिवा मेरे लबों पर
और कोई नाम ना हो..

-Anamika

zindagi me allah ki ibadat
bina koi kam na ho..
khuda ke siva mere labon per
aur koi naam na ho..

47)

मुसीबतों में ढाँप लिया उस की रहमतों ने
हमें क़यामत में बचा लिया उनके अश्कों ने..

दमे आखिर यही सोच कर अफ़सोस करता रहा
सजदे में झुकने ना दिया कभी ज़रूरतों ने..

-Moeen

musibaton mein dhaanp liya uski rehmato ne
hamen qayamat mein bacha liya unke ashkon ne..
dame akhir yahi soch kar afsos karta raha
sajde mein jhukne na diya kabhi jaruratone..

48)

या खुदा, रखना मुझे भी मेहेरनज़र में..

दरबदर भटकता आया हूं तेरे दरबार में..

-Santosh

ya khuda, rakhna mujhe bhi mehernajar mein..
darbadar bhatakta aaya hun tere darbar mein..

49)

तेरी हम्द बयाँ करते करते मेरी उम्र बीत जाए
जाऊँ मैं बैतुल्लाह, खुदा करे वो दिन भी आए..

तेरी रहमतों को कब गवारा हाथ फैलाए कही हम
हो तेरा करम जो खुदाया मुसीबतें भी नज़र चुराए..

-Moeen

teri hamd baya karte karte meri umra beet jaaye
jaaun mein baitullah, khuda kare wo din bhi aaye..
teri rahamaton ko kab gawara hath failayen kahin ham
ho tera karam jo khudaya musibaten bhi najar churaaye..

khuda shayari image
khuda shayari image
50)

तेरी ही इनायत में हमेशा पला बढ़ा हूं..

या ख़ुदा कतार में, मैं भी खड़ा हुआ हूं..

-Sapna

teri hi inayat me hamesha pala badhaa hun..
ya khuda qataar me, main bhi khada hun..

51)

फकत नाम है काफी तेरा मेरी ज़िंदगी के लिए
तेरा करम हो और क्या चाहिए आदमी के लिए..

जब कभी मुँह मोड़ा किसी ने तेरी बारगाह से
फिर मुद्दतों भटका किया वो ख़ुशी के लिए..

-Moeen

faqat naam hai kafi tera meri jindagi ke liye
tera karam ho aur kya chahiye aadami ke liye..
jab kabhi munh moda kisi ne teri baargah se
fir muddaton bhatka kiya vo khushi ke liye..

52)

ए खुदा खुशियां मेरी
झोली में भले ही ना दे..

मेरे महबूब के मगर कभी
आंखों में आंसू ना दे..

-Anamika

ae khuda khushiyan meri
jholi mein bhale hi na de..
mere mahbub ke magar kabhi
aankhon mein aansu na de..

53)

जब कभी नाम मौला का लबों पर आ जाएगा
ग़म हो कितना ही गहरा, मुँह छुपाए चला जाएगा..

जो आ जाए कभी जोश में रहमत उस की
लाख हो कोई रुसवा मगर ज़माने पर छा जाएगा..

-Moeen

jab kabhi naam maula ka labon per aa jayega
gam ho kitna hi gehra, munh chhupaye chala jayega..
jo aa jaaye kabhi josh mein rahamat uski
lakh ho koi ruswa magar jamane per chha jayega..

54)

जिंदगी भर चमकती रहे
यूं ही हमारी किस्मत..

हम पर यूं ही बनी रहे
उस आका की रहमत..

-Santosh

jindagi bhar chamakti rahe
yun hi hamari kismat..
ham par yun hi bani rahe
us aaka ki rahmat..

55)

नाम तेरा, मेरा हर ग़म टाल देता है
ज़िक्र तेरा मुश्किलों में रास्ता निकाल देता है..

मेरे मौला, करूँ कैसे शुक्र मैं तेरा अदा
जो डूबता हूँ तो सागर उछाल देता है..

-Moeen

naam tera, mera har gam taal deta hai
zikr tera mushkilon mein rasta nikal deta hai..
mere maula, karu kaise shukr main tera ada
jo dubta hun to sagar uchhaal deta hai..

khuda aur mohabbat shayari
khuda aur mohabbat shayari

Summary

Dosto, humara ye Khuda par Shayari likhne ka prayas aapko kaise laga ye jarur batayiyega. agar iss post me galti se kuch khamiya reh gyi ho to hume jaroor comment karke batayiyega. hum uss galti ko jaroor sudharenge. Allah Hafiz!

Follow us on Facebook : Shayari Sukun

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.