Kismat Shayari : 50+ Taqdeer Likhne Wale Fortune Statuses

Kismat Shayari : दोस्तों हमें अपनी किस्मत पर कभी भी भरोसा नहीं करना चाहिए. क्योंकि जो अपनी मेहनत और अपनी लगन पर यकीन करते हैं. उन्हें सफलता तो खुद भगवान ही प्रदान करते हैं. मगर जब बात मोहब्बत की होती है. तब अपने यार पर आपका बस कुछ हद तक ही चल सकता है. कुछ बातें आपके बस में बिल्कुल भी नहीं होती है. और तब इंसान अपनी किस्मत, अपने नसीब पर भरोसा करने लगता है. लेकिन ऐसा करने से कई बार वह अंदर ही अंदर जैसे टूट जाता है. और कुछ उसी तरह के खयालात हम Taqdeer Likhne Wale Khayal की मदद से आपके सामने लेकर आए हैं.

We don’t have to rely only our fortune or luck. Because once in a while luck will be better for us. But for next time it will surely collapse all our dreams. So with the help of Waqt Aur Kismat Shayari, you will know the importance of hard work. And you don’t want to rely on your luck anymore.

✤ शायरी सुनने के लिए ✤
♫ Player लोड होने दें ♫


Voice-Over: Kalyani Shah

तो चलिए दोस्तों बिना देर किए हमारे Bad Kismat Shayari के ख्यालात सुने. हमें यकीन है कि आप हमारे मुकद्दर स्टेटस को सुनकर नसीब के भरोसे ना रहते हुए, अपने काम और मेहनत पर जरूर ध्यान दोगे. अगर आपको हमारी आज की Naseeb Shayari पसंद आई हो. तो हमारे फेसबुक एवं ट्विटर हैंडल को जरूर फॉलो करें…

You may like this :
Sad Shayari In Hindi For Girlfriend

Table Of Content

  1. Bad Kismat Shayari Ki Madad Se Apne Nasib Par Bharosa Rakhna Chhod Doge
  2. Kismat Shayari In Hindi Ke Sath Apne Bhagya Ka Sujhav Khud Karna Chahoge
  3. Kismat Sad Shayari Ko Sunkar Apne Badkismati Ka Khayal Jarur Chhodna Chahoge
  4. Kismat Shayari Ki Madad Se Apne Aap Ko Muqaddar Ka Vaasta Jarur Dena Chahoge
  5. Kismat Naseeb Shayari Ki Madad Se Apni Futi Kismat Par Rona Chhod Doge
  6. Conclusion

Bad Kismat Shayari Ki Madad Se Apne Nasib Par Bharosa Rakhna Chhod Doge – बदकिस्मत शायरी की मदद से अपने नसीब पर भरोसा रखना छोड़ दोगे

Bad Kismat Shayari Ki Madad Se Apne Nasib Par Bharosa Rakhna Chhod Doge-2
Bad Kismat Shayari Ki Madad Se Apne Nasib Par Bharosa Rakhna Chhod Doge | बदकिस्मत शायरी की मदद से अपने नसीब पर भरोसा रखना छोड़ दोगे
1)

पूछता है दिल, किस्मत में
क्यों न थे तुम..

बस सपनों की तस्वीरों में
रह गए हो तुम..

puchta hai dil, kismat mein
kyon na the tum..

bus sapnon ki tasviron mein
rah gaye ho tum..

2)

चाहत का बीता ज़माना फिर याद आ रहा हैं
चांदनी रातों की तन्हाई में हमें तड़पा रहा हैं..

हम बहोत पीछे छोड़ आए हैं जिन लम्हों को
किसमत का वहीं मोड़ हमें फिर बुला रहा हैं..

-Moin

chahat ka bita zamana fir yad aa raha hai
chandni raaton ki tanhai mein hamen tadpa raha hai..

ham bahut piche chhod aaye hain jin lamhon ko
kismat ka vahi mode hamen fir bula raha hai..

3)

जब किसी से मिलना
क़िस्मत में लिखा होता हैं..

तो अजनबी इंसान भी हमें
अपना लगने लगता हैं..

-Vrushali

jab kisi se milana
kismat mein likha hota hai..

to ajnabi insan bhi hamen
apna lagne lagta hai..

4)

मंजिल तक पहुंचने वाले
रास्ते साथ कभी देते नहीं..

किस्मत में ना हो मिलना तो
अपने भी हाथ देते नहीं..!

manzil tak pahunchne wale
raste kabhi sath dete nahin..

kismat me na ho milna to
apne bhi hath dete nahin..!

5)

खूब पढ़ाई करके सोचा था
चमकाऊंगा मैं मेरी किस्मत..

लेकिन हासिल कुछ न हुआ
क्योंकि इंटरव्यू में चली थी रिश्वत..

-Sagar

khoob padhaai karke socha tha
chamkaaunga mein meri kismat..

lekin hasil kuch na hua
kyunki interview mein chali thi rishwat..

6)

किस्मतों से मिलती है ज़िन्दगी इसे यूँ ही मत गवाईये
बेरुखियाँ बेज़ारियाँ जो भी मिले बस अपनाते जाइये..

वक्त को पलटने की हिम्मत रख बढ़ते रहिये राहों पर
खुदा की खुदी पर भरोसा कीजिये और चलते जाइये..

-Ketki

kismato se milati hai jindagi ise yun hi mat gavayiye
berukhiyan bejariya jo bhi mile bas apna te jaayiye..

waqt ko palatne ki himmat rakh badhati rahiye rahon per
khuda ki khudi per bharosa kijiye aur chalte jaaiye..

7)

हमने की वफा जिनसे, आज
वह बेवफा हो गए..

किस्मत की बात है, चाहने वाले
जो खफा हो गए..!

humne ki wafa jinse, aaj
vo bewafa ho gaye..

kismat ki baat hai, chahne wale
jo khafa ho gaye..!

8)

क़िस्मत में हमारी मुलाकात लिखी हैं
अब चाहें जितने रास्ते क्यों ना बदल लो..

मिलना तो तय हो चुका हैं हमारा
तुम चाहो तो आजमाकर देख लो..

-Vrushali

kismat mein hamari mulakat likhi hai
ab chahe jitne raste kyon na badal lo..

milana to tay ho chuka hai hamara
tum chaho to aazma kar dekh lo..

You may like this :
Sad Shayari In Hindi For Girlfriend
9)

आंखों में प्यार तुम्हारे सच्चा
था ही नहीं, हम क्या करते..

किस्मत में मिलना था ही
नहीं हमारा, तुम क्या करते..!

aankhon mein pyar tumhare saccha
tha hi nahin, ham kya karte..

kismat me milna tha hi
nahin hamara, tum kya karte..!

10)

हात पर हात रखकर
नहीं बदलेगी तेरी किस्मत..

मंज़िल हासिल करने के लिए
करनी पड़ती रोज मेहनत..

-Sagar

hath per hath rakhkar
nahin badlegi teri kismat..

manjil hasil karne ke liye
karni padti roj mehnat..

Kismat Shayari In Hindi Ke Sath Apne Bhagya Ka Sujhav Khud Karna Chahoge – किस्मत शायरी इन हिंदी के साथ अपने भाग्य का सुझाव खुद करना चाहोगे

Kismat Shayari In Hindi Ke Sath Apne Bhagya Ka Sujhav Khud Karna Chahoge-3
Kismat Shayari In Hindi Ke Sath Apne Bhagya Ka Sujhav Khud Karna Chahoge – किस्मत शायरी इन हिंदी के साथ अपने भाग्य का सुझाव खुद करना चाहोगे
11)

जिंदगी बन गई है
अब और भी बदतर..

क्योंकि मैं रहा सिर्फ
भरोसे अपने मुकद्दर..

jindagi ban gai hai
ab aur bhi badatar..

kyunki mai raha sirf
bharose apne mukaddar..

12)

याद कर मेरी चाहत को पहरों रोया करोगे
जब याद आऊँगा मैं दामन अपना भिगोया करोगे..

क़िसमत जब मिलाएगी तुझे मेरे हमनाम से
फिर अश्कों से तुम चेहरा अपना धोया करोगे..

-Moin

yad kar meri chahat ko pahro roya karoge
jab yad aaunga main daman apna bhigoya karoge..

kismat jab milayegi tujhe mere ham naam se
fir ashqon se tum chehra apna dhoya karoge..

Listen to this post :
Kumar Vishwas Shayari
13)

किस्मतों के भरोसे ज़िन्दगी नही चलती
मेहनत के आगे कोई बिसात नही चलती..

मज़ा तब आये जब किस्मत आगे बढ़ने से रोके
पर मेहनत तुझे आगे बढ़ाने से नही डरती..

-Ketki

kismaton ke bharose jindagi nahin chalti
mehnat ke aage koi bisat nahin chalti..

maja tab aaye jab kismat aage badhane se roke
per mehnat tujhe aage badhane se nahin darti..

14)

हाथों की लकीरों में
मत ढूंढ तू किस्मत..

कठिनाइयों में ही
रखनी होती है हिम्मत..

-Sagar

hathon ki lakiron mein
mat dhoond tu kismat..

kathinaiyon mein hi
rakhni hoti hai himmat..

15)

कहां दरबदर भटके
हम अब साहिबा..

जब दे गया है
धोखा हमारा नसीबा..

kahan dar badar bhatke
ham ab sahiba..

jab de gaya hai
dhokha hamara naseeba..

16)

मैं दुनिया की भीड़ में गम सुनाता रहा तनहा
सड़क खामोश थी... मैं गुनगुनाता रहा तनहा..

हमारी किसमत में ना था शायद विसाले यार
यादों के सहारे मैं शामें बिताता रहा तनहा..

-Moin

mai duniya ki bheed mein gam sunata raha tanha
sadak khamosh thi.. main gungunata raha tanha..

hamari kismat mein na tha shayad visale yaar
yaadon ke sahare main shame bitata raha tanha..

17)

शायद पूरी तरह से खफा है हमसे..

लोग कहते हैं अपनी किस्मत जिसे..

shayad puri tarah se khafa hai humse..

log kahate hain apni kismat jise..

18)

हमारी क़िस्मत ने ही तो
हमें मिलवाया था

फिर हमें जुदा करने में
किसका हाथ था...?

-Vrushali

hamari kismat ne hi to
hamen milvaya tha..

han hamen judaa karne mein
kiska hath tha..?

19)

किसमत के हर मोड़ पर एक हादसा हैं
मेरा हर ख्वाब साबीत हुआ कच्चा घड़ा हैं..

मुद्दतों से ना हुई मेरी कोई दुआ क़बूल
शायद मुझ से रूठा हुआ मेरा खुदा हैं..

-Moeen

kismat ke har mod per ek hadsa hai
mera har khwab sabit hua kaccha ghada hai..

muddaton se na hui meri koi dua qabool
shayad mujhse rutha hua mera khuda hai..

20)

दुनिया का अक्सर
दस्तूर ही उल्टा होता है..

दिल से हो जो अच्छा
नसीब उसका फूटा होता है..

duniya ka akshar
dastoor hi ulta hota hai..

dil se ho jo achcha
naseeb uska phoota hota hai..

Kismat Sad Shayari Ko Sunkar Apne Badkismati Ka Khayal Jarur Chhodna Chahoge – किस्मत सैड शायरी को सुनकर अपने बदकिस्मती का ख्याल जरूर छोड़ना चाहोगे

Kismat Sad Shayari Ko Sunkar Apne Badkismati Ka Khayal Jarur Chhodna Chahoge
Kismat Sad Shayari Ko Sunkar Apne Badkismati Ka Khayal Jarur Chhodna Chahoge – किस्मत सैड शायरी को सुनकर अपने बदकिस्मती का ख्याल जरूर छोड़ना चाहोगे
21)

होती है खुदा की हम पर रहमत..

जब एकसाथ मिले प्यार और किस्मत..

-Sagar

hoti hai khuda ki ham per rahamat..

jab ek sath mile pyar aur kismat..

22)

यूं बार-बार हमारा एकदुसरे से
टकराना इत्तफाक तो नहीं..

तुझे देखकर मेरी धड़कनें बढ़ना
कहीं क़िस्मत का इशारा तो नहीं..

-Vrushali

yu baar baar hamara ek dusre se
takrana ittefaq to nahin..

tujhe dekh kar meri dhadkane badhana
kahin kismat ka ishara to nahin..

23)

खुद के लिए भी तो अब तक
अजनबी सा हूं मैं..

शायद इसीलिए किसी की
किस्मत में नहीं हूं मैं..

khud ke liye bhi to ab tak
ajnabi sa hu main..

shayad isiliye kisi ki
kismat me nahin hun main..

24)

कुछ लोग दुआ की तरह हमारी किस्मत में आते हैं
हाथों की लकीरों में ज़िद से अपना नाम लिखाते हैं..

उनका ज़िन्दगी में सिर्फ होना भी आशीर्वाद होता है
कुछ इस तरह खूबसूरती से वो हमारी ज़िंदगी बनाते है..

-Ketki

kuch log dua ki tarah hamari kismat mein aate hain
hathon ki lakiron main jid se apna naam likhate hain..

unka jindagi mein sirf hona bhi aashirwad hota hai
kuchh is khubsurti tarah vah hamari jindagi banate hain..

25)

आसान अगर होता जीतना किस्मत से..

तो क्यों होती लड़ाई कमबख्त दुनिया से..

agar aasan hota jitna kismat se..

to kyon hoti ladai kambakht duniya se..

26)

तेरी मौजूदगी का होता है
जब महफिल में मुझे अहसास..

किस्मत चमकने लगेगी मेरी
बोलेगी तू ढाई अक्षर वाली बात..

-Sagar

teri maujoodgi ka hota hai
jab mehfil mein mujhe ehsaas..

kismat chamakne lagi meri
bolegi tu dhai akshar wali baat..

27)

आपकी किस्मत हो जब साथ..

तो किसी से डरने की क्या बात..!

aapki kismat ho jab sath..

to kisi se darne ki kya baat..!

28)

सदीयों की ख़ामोशी हैं मगर बात नहीं होती
सूरज निकल आता हैं मगर रात नहीं होती..

देखा हैं ज़माने में किसमतों को बनते बिगड़ते
मिलते हैं बेशुमार लोग मगर मुलाक़ात नहीं होती..

-Moin

sadiyon ki khamoshi hai magar baat nahin hoti
suraj nikal aata hai magar raat nahin hoti..

dekha hai jamane mein kismatan ko bante bigadte
milte hain beshumar log magar mulakat nahin hoti..

29)

अपनी क़िस्मत पे यूँ ना इतराया कीजिये
लाख शिद्दत से हमे पाने की साज़िश कीजिये..

हाथों से फ़िसलती वो रेत की तरह हैं हम साहब
यूँ लगे कि मुट्ठी में है, पर पल भर में गवा दीजिये..

-Ketki

apni kismat par yun na itraya kijiye
lakh shiddat se hamen paane ki sajish kijiye..

hathon se fisalti vah ret ki tarah hai ham sahab
yu lage ki mutthi mein hai, per pal bhar mein gava dijiye..

30)

देखते हैं सपना जागते सोते..

वह कभी तो मेरा नसीब होते..

dekhte hain sapna jagte sote..

vah kabhi to mera naseeb hote..

Kismat Shayari Ki Madad Se Apne Aap Ko Muqaddar Ka Vaasta Jarur Dena Chahoge – किस्मत शायरी की मदद से अपने आप को मुकद्दर का वास्ता जरूर देना चाहोगे

Kismat Shayari Ki Madad Se Apne Aap Ko Muqaddar Ka Vaasta Jarur Dena Chahoge - किस्मत शायरी की मदद से अपने आप को मुकद्दर का वास्ता जरूर देना चाहोगे
Kismat Shayari Ki Madad Se Apne Aap Ko Muqaddar Ka Vaasta Jarur Dena Chahoge – किस्मत शायरी की मदद से अपने आप को मुकद्दर का वास्ता जरूर देना चाहोगे
31)

दो वक्त की रोटी और
सुकून भरी जिंदगी हो..

खुदा करें ऐसी किस्मत
हर एक के नसीब हो..

-Sagar

do waqt ki roti aur
sukun bhari jindagi ho..

khuda kare aisi kismat
har ek ke naseeb ho..

32)

करोड़ों की भीड़ में एक सहारा नहीं मिलता
किसमत के मारों को कभी किनारा नहीं मिलता..

कैसे ठुकरा देते हैं लोग प्यार किसी का यहाँ
बिछड़ जाए अगर इश्क़ फिर दोबारा नहीं मिलता..

-Moin

karodon ki bheed mein ek sahara nahin milta
kismat ke maro ko kabhi kinara nahin milta..

kaise thukra dete hain log pyar kisi ka yahan
bichad jaaye agar ishq fir dobara nahin milta..

33)

मंजिल तक नहीं
चाहिए तुम्हारा साथ..

बस किस्मत तक भी
चलो तो काफी है..

manjil tak nahin
chahie tumhara sath..

bus kismat tak bhi
chalo to kafi hai..

34)

इश्क का गुनाह किया था मैंने
सरेआम मुजरिम मुझे करार दिया..

इल्जाम जो लिया मैने मेरे सर पे
किस्मत ने भी अपना रुख मोड़ दिया..

-Sagar

ishq ka gunah kiya tha maine
sare aam mujrim mujhe karar diya..

ilzaam jo liya maine mere sar pe
kismat ne bhi apna rukh mod diya..

35)

बिछड़ना हमारी क़िस्मत नहीं
और हमें जुदा करना आसान नहीं..

यूं तो बिछड़ते होंगे कई लोग
मगर हमारा बिछड़ना मुमकिन नहीं...

-Vrushali

bichhadna hamari kismat nahin
aur hamen judaa karna aasan nahin..

yun to bichadte honge kai log
magar hamara bichhadna mumkin nahin..

36)

कभी करना दिल की बातें किसी से..

किस्मत का साथ भी भूल जाओगे..!

kabhi karna dil ki baten kisi se..

kismat ka sath bhi bhul jaaoge..!

37)

आलसी स्वभाव से अपने
इंसान अच्छे अवसर खो देते है..

बादमें फिर खाली बैठकर
उसी अवसर के बारे में सोचते है..

-Sagar

aalsi swabhav se apne
insan acche avsar kho dete hain..

bad mein fir khali baith kar
usi avsar ke bare mein sochte hain..

38)

शिकवा नहीं है के मेरे वजूद का हिस्सा तू अब नहीं
उस रब दी रज़ा के आगे ये इंसानी परिंदा कुछ नहीं..

किस्मत को मेरी उसी ख़ुदा ए पाक ने नवाज़ा है
जिसके दर रहमतों की बरसात है कोई कमी नहीं..

-Ketki

shikva nahin hai ki mere wajood ka hissa to ab nahin
us rab de raza ke aage yah insan ne parinda kuchh bhi nahin..

kismat ko meri usi khuda a pak ne nawaza hai
jis kadar rahamaton ki barsat hai koi kami nahin..

39)

काश जिंदगी में
एक ऐसी शाम भी होती..

जब तू और मेरी
किस्मत दोनों साथ होती..

kash jindagi mein
ek aisi sham bhi hoti..

jab tu aur meri
kismat donon sath hoti..

40)

असफल इंसान हमेशा अपनी
बदकिस्मती को कोसते है...

अपने हात होती है किस्मत लेकिन
वो हमेशा श्रम करने से कतराते है..

-Sagar

asafal insan hamesha apni
badkismati ko koste hain..

apne hath hoti hai kismat lekin
vo hamesha shram karne se katraate hain..

Kismat Naseeb Shayari Ki Madad Se Apni Futi Kismat Par Rona Chhod Doge – किस्मत नसीब शायरी की मदद से अपनी फूटी किस्मत पर रोना छोड़ दोगे

Kismat Naseeb Shayari Ki Madad Se Apni Futi Kismat Par Rona Chhod Doge - किस्मत नसीब शायरी की मदद से अपनी फूटी किस्मत पर रोना छोड़ दोगे
Kismat Naseeb Shayari Ki Madad Se Apni Futi Kismat Par Rona Chhod Doge – किस्मत नसीब शायरी की मदद से अपनी फूटी किस्मत पर रोना छोड़ दोगे
41)

फूल ख़ुशीयों के अब खिलते नहीं गुलशन में
ग़मों की तेज़ बारीश होती हैं रोज़ आँगन में..

किसमत ने दिए तोहफे गरीब-उल-वतनी के
मेरी यादें बसती हैं अब मेरे सुने नशेमन में..

-Moin

phool khushiyon ke ab khilte nahin gulshan mein
gamon ki tej barish hoti hai roz angan mein..

kismat ne diye tohfe garib ul watani ke
meri yaadein basti hai ab mere sune nasheman mein..

42)

जानता हूं मेरे किस्मत में तू नही है
फिर भी मन्नत के धागे रोज बांधता हूं..

इस बेइंतेहा चाहत के बदले मैं सिर्फ
तेरे चेहरे पर मुस्कान देखना चाहता हूं..

-Sagar

jaanta hoon mere kismat mein tu nahin hai
fir bhi mannat ke dhage roj bandhata hun..

is be intehaa chahat ke badle mein sirf
tere chehre per muskan dekhna chahta hun..

You may like this post : 
Mohabbat Shayari In Hindi
43)

बिखर चुके हैं टूट कर अब तो..

शायद किस्मत ने भी साथ छोड़ा..

bikhar chuke hain tut kar ab to..

shayad kismat ne bhi sath chhoda..

44)

रोज़ी की तलाश में घर छोड़ना दुशवार था
मैं क्या करता किसमत के हाथों लाचार था..

मैं सजाए बैठा था सच्चे जज़बात की दूकान
मुझे हैरत से तकता हर गुज़रता खरीदार था..

-Moin

roji talash mein ghar chhodana dushwar tha
mein kya karta kismat ke hatho lachar tha..

main sajaaye baitha tha sacche jajbat ki dukaan
mujhe hairat se takta har gujarta kharidar tha..

45)

किस्मत और नसीब ये सब
बेकार की बातें होती है जनाब..

जो सवाल तू करेगा जिंदगी से
आखिर उसीका मिलेगा जवाब..

-Sagar

kismat aur naseeb yah sab
bekar ki baten hoti hai janab..

jo sawal tu karega jindagi se
aakhir usi ka milega jawab..

46)

बिन मेरे अब रहता हैं मेरा घर तनहा
मेरी ला श पर रोता रहा खं जर तनहा..

किसमत का सितारा भी डूब गया
रहा मुद्दतों तक़दीर का अंबर तनहा..

-Moin

bin mere ab rahata hai mera ghar tanha
meri la sh per rota raha khan jar tanha..

kismat ka sitara bhi doob gaya
raha muddaton takdeer ka ambar tanha..

47)

न जाने क्यों नहीं आया,
खत लेकर कासिद..

शायद नहीं जागेगा कभी,
अब मेरा नसीब..

na jaane kyon nahin aaya
khat lekar kasid..

shayad nahin jagega kabhi
ab mera naseeb..

48)

बिछड़ने वाला फिर कभी लौट कर नहीं आया
ज़िंदगी की राहों में सायादार शजर नहीं आया..

किसमत उन्हें खिंच लाई थी महफ़िल में
मगर भीड़ में दोस्तों की मैं उन्हें नज़र नहीं आया..

-Moin

bichadane wala fir kabhi laut kar nahin aaya
jindagi ki rahon mein sayadar shajar nahin aaya..

kismat unhen khinch layi thi mahfil mein
magar bheed mein doston ki main unhen najar nahin aaya..

49)

किस्मत के बारे में
मत सोच, ए सागर..

मुकम्मल होगा प्यार,
बेमतलब हो अगर..

-Sagar

kismat ke bare mein
mat soch, ae sagar..

mukammal hoga pyar
bematlab ho agar..

50)

खुशियां नहीं है शायद
अब मेरे नसीब में..

तू छोड़कर चला गया है
जब से अकेले में..

khushiyan nahin hai shayad
ab mere naseeb mein..

tu chhod kar chala gaya hai
jab se akele mein..

51)

त्योहार चाहे कोई भी हो
आपके नसीब में खुशहाली रहे..

आपकी सुरेली आवाज में
महफिल हमेशा चहकती रहे..

-Sagar

tyohar chahe koi bhi ho
aapke naseeb mein khushhali rahe..

aap ki surili awaaz mein
mahfil hamesha chahekati rahe..

52)

किस्मत में कहां लिखी थी,
हमारे मिलन की रात..

याद नहीं जाने कब हुई थी
हमारी आखरी मुलाकात..

kismat mein kahan likhi thi,
hamare milan ki raat..

yaad nahin jane kab hui thi
hamari aakhri mulaqat..

Conclusion

Taqdeer Likhne Wale Khayal सुनकर आपको भी किस्मत के भरोसे ना रहने की अच्छी आदत लगेगी. जिसके चलते आप खुद अपनी मेहनत पर जरूर भरोसा कर पाओगे. और आपको तो पता ही है दोस्तों, की मेहनत का फल ही सबसे मीठा फल होता है!

Kismat Shayari को सुनकर अगर आप भी अपनी किस्मत पर भरोसा करना छोड़ दो. तो हमें कमेंट्स करते हुए जरूर बताइए. हमारी पोस्ट को शेयर करने के लिए आपका तहे दिल से शुक्रिया!

शायरी सुकून का Whatsapp चैनल ज्वॉइन करने के लिए ‘START’ यह मैसेज +91 90495 96834 इस वॉट्सएप नंबर पर सेंड कीजिए, आपकी सेवा 24 घंटो के भीतर चालू होगी.

फेसबुक पर शायरी के अपडेट्स पाने के लिए इस शायरी सुकून पेज को Like जरूर करें.

मोटिवेशनल शायरियोंके स्टेटस देखने के लिए यहाँ Motivational Shayari क्लिक करें.

Rate this post

Leave a Comment