Latest Posts

Eid Shayari: The 45+ blessings Shayari on Eid Mubarak Status

Eid Shayari: As you celebrate Eid, your heart fills with happiness and feelings of warmth in unexpected moments. Share these feelings with friends, family and community with Eid Shayari.

दोस्तों Shayari on Eid Mubarak की मदद से आप अपनी ईद को और खास बना सकते है. ईद सबको पसंद है. उस दिन शीर खुरमा जो होता है. सब नए कपड़े पहन कर एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद देते हैं. ईद के दिन सभी लोग बहुत ज्यादा खुश होते हैं. सभी रिश्तेदार एक साथ मिलकर ईद मनाते हैं. एक दूसरे के घर जाते हैं. यह बहुत ही अच्छी बात होती है.

दोस्तों देखा जाए तो हर त्योहार खुशी का त्योहार होता है. ईद भी उन्हीं में से एक है. Eid Shayari आपके लिए ख़ास पेशकश है. ईद का चांद बहुत ही सुंदर दिखता है. उसे देखकर ईद मनाई जाती है.

Listen to Eid Shayari


ईद मुबारक शायरियों को Vanshika Navlani इनकी आवाज़ में सुनकर आपको ईद की मुबारकबाद आसानी होगी

कितना खास पल होता है वह सभी के लिए. ईद का चांद देखना महबूब को देखने के बराबर है.बहुत सारे आशिक चांद में अपना महबूब देखते हैं. जो अपने महबूब से दूर है वह चांद को देखकर अपनी ईद मनाते हैं.

Eid Shayari in Hindi

Hate to find yourself without a Shayari for Eid? Get Eid Shayari for your dear ones of their status and share it on social media.

1)

खुदा फरमान है हम सबका मुर्शीद..

आप सभी को मुबारक हो ये ईद..

मुर्शिद : गुरु, पथप्रदर्शक

-Sagar

khuda farman hai ham sabka murshid..
aap sabhi ko mubarak ho ye eid..

2)

हम सबके जीवन में आज
खुशियों की सौगात आई..

ईद के त्योहार पर देता हूं
आपको ढ़ेर सारी बधाई..

-Smita

ham sabke jivan mein aaj
khushiyon ki saugat aayi..
eid ke tyohar per deta hun
aapko dher sari badhai..

3)

सदा हंसते रहो तुम
क्योंकि आया हैं ईद का मौसम..

भुला दो इस चांद में
आप अपने सभी गम..

-Vrushali

sada haste raho tum
kyunki aaya hai eid ka mausam..
bhula do is chand mein
aap apne sabhi gam..

4)

छोटे बच्चों के साथ-साथ
बड़े भी अड़े है जिद पर..

आओ हम सभी एक दूजे के
खुशी की दुआ मांगे ईद पर..

-Neha

chhote bacchon ke sath sath
bade bhi ade hai jidd per..
aao ham sabhi ek duje ke
khushi ki dua mange eid per..

5)

मुबारक हो आपको अपनी ये ईद..

कुबूल होगी सबकी, मत रहो नाउम्मीद..

-Sagar

mubarak ho aapko apni ye eid..
qubool hogi sabki, mat raho naummid..

6)

हर तरफ खुशहाली छाएं,
आप हमेशा सफलता पाएं..

ईद पर देता हूं मैं आपको
ढेर सारी शुभकामनाएं..

-Santosh

har taraf khushhali chhaye,
aap hamesha safalta paaye..
eid par deta hun main aapko
dher sari shubhkamnayen..

7)

दुआ करते हैं खुदा से हम ईद के
चांद में हमें कोई ऐसा मिल जाएं..

खुशियों की सौगात के साथ हमें
अपना प्यारा हमसफ़र मिल जाएं..

-Vrushali

dua karte hain khuda se ham eid ke
chand mein hamen koi aisa mil jaaye..
khushiyon ki saugat ke sath hamen
apna pyara humsafar mil jaaye..

अब ईद का चाँद नज़र आए तो क्या
बहारें साथ अपने खुशीयाँ लाए तो क्या

जिस के दिदार से होती थी ईद अपनी
वो छोड़ गया… अब ईद आए तो क्या

Moeen

Ab Eid ka Chand najar aaye to kya
Baharen Saath Apne khushiyan le aaye to kya
Jiske Deedar se Hoti thi Eid apni
Vah chhod gaya ab Eid aaye to kya

Eid Shayari में यह बताया गया है की, दोस्तों हम कोई भी त्योहार अपनों के साथ मनाते हैं. अपनों के अलावा कोई त्योहार मनाना हमें अच्छा नहीं लगता. जिसके साथ हम त्यौहार मनाते हैं वहीं अगर हमें छोड़कर चला जाए तो त्यौहार आने से खुशियां नहीं आती. हम ईद तभी मनाते हैं जब घर में खुशियां हो.

ज़माने को ईद के चाँद का इंतज़ार हैं
कैसी उदास ये चाँद रात की बहार हैं

वो खुश हैं गैरों संग चाँद देख कर
बिछड़ने वाले से अब भी मुझे प्यार हैं

Moeen

Jamane Ko Eid ke Chand ka intezar hai
Kaisi udas ye chand raat ki bahar hai
Vah khush hai gairon sang Chand dekh kar
Bichadne wale se ab bhi Mujhe pyar hai

Eid Shayari की मदत से आप समझोगे की, हमारे घर में दुख हो तो जमाना दुखी नहीं होता. कोई हमें छोड़कर चला जाए तो कोई और क्यों नाराज होगा. बाकी सब लोग तो ईद के चांद का इंतजार करते हैं और ईद भी मनाते हैं. हम अपनों को गैरों के संग खुश देख कर अपनी ईद मना लेते हैं. अपनों के बिछड़ जाने के बाद उनसे प्यार करते हैं.

Eid Shayari Image

Eid Shayari Image
Eid Shayari Image

Eid Shayari for Lovers

8)

दुआ है सारी तमन्नाए हो
पूरी अल्लाह के बंदों की..

मुबारकबाद देते हैं हम
सभी को इस ईद की..

-Neha

dua hai sari tamannayen ho
puri allah ke bandon ki..
mubarakbaad dete hain ham
sabhi ko is eid ki..

9)

चांद को देखकर मनाते है ईद..

खुदा की रहमत है बड़ी फरीद..

फरीद: यूनीक

-Sagar

chand ko dekhkar manate hain eid..
khuda ki rehmat hai badi fareed..

10)

दुआ करता हूं यह साल
आपके लिए समृद्ध हो..

खुशहाली छाए जिंदगी में
जो भी मनाता ईद हो..

-Smita

dua karta hun yah saal
aapke liye samriddh ho..
khushhali chhaye jindagi mein
jo bhi manata eid ho..

11)

मिलकर मनाते हैं
हम ईद और दीवाली..

यारों, आओ मिलकर
गाते हैं हम कव्वाली..

-Vrushali

milkar manate hain
ham eid aur diwali..
yaaron, aao milkar
gaate hain ham kavvali..

12)

अपने दिल के विचार
रखना सभी सीध में..

तमन्ना आपकी ना
रहेगी अधूरी ईद में..

सीध : शरीफ़, सरल

-Neha

apne dil ke vichar
rakhna sabhi sidh mein..
tamanna aapki na
rahegi adhuri eid mein..

13)

चाहें बच्चे हो या फिर हो राशिद..

सब मिलकर मनाते है प्यारी ईद..

राशिद: एडल्ट

-Sagar

chahe bacche ho ya fir ho raashid..
sab milkar manate hain pyari eid..

14)

ईद का चांद जब दिख जाएगा..

खुशियों का रास्ता खुल जाएगा..

-Santosh

eid ka chand jab dikh jayega..
khushiyon ka rasta khul jayega..

ईद का चाँद उसे कुछ याद दिलाता होगा
रात के पिछले पहेर मेरा पैगाम सुनाता होगा

शोहरत मिली तेरे हुस्न को मेरी गज़लों से
वो तन्हाई में मेरी गज़ले गुनगुनाता होगा

Moeen

Eid ka Chand use kuchh yad dilata hoga
Raat ke pichle pehar Mera paigam sunata hoga
Shohrat Mili tere husn ko meri gazalon se
Voh tanhai mein meri gazale gungunata hoga

दोस्तों हम अपने महबूब के साथ बिताया हुआ हर पल याद रखते हैं. जैसे हमें कई बातें बीते हुए पलों की याद दिलाती है वैसे ही उसे भी कई बातें हमारी याद दिला ती होंगी.

Eid Shayari में कुछ इस प्रकार से बताया गया है की, जब हमने साथ में ईद का चांद दिखा तो आज वही ईद का चांद उसे हमारी याद दिलाता होगा. जब वह अकेला होता होगा तो हमारी लिखी गजल भी गुनगुनाता होगा. क्योंकि वह सारी गजलें हमने उसी के हुस्न की तारीफ में लिखी थी.

इस ईद तेरे आशिक फिर तुझे याद करेंगे
तेरे लौटने की रो रो कर फरियाद करेंगे

कभी होती थी ईद उस के दिदार से
किसे खबर थी वो मुझे यूँ बरबाद करेंगे

Moeen

Is Eid tere Aashiq fir tujhe yad karenge
Tere Lautane ki ro ro kar fariyad karenge
Kabhi hoti thi Eid us ke Deedar se
Kise khabar thi vah Mujhe Jo barbad karenge

Eid Shayari को पढ़कर आपको महसूस होगा की, आशिक अपने महबूब का इंतजार हमेशा करता है. त्योहार के दिन तभी उसे देखने का मौका मिलता था हमें इसलिए हम हर रोज ईद का भी इंतजार करते हैं. ताकि ईद के चांद के साथ-सथ हमें अपने महबूब का भी दीदार हो. चांद में अक्सर हम अपना खोया हुआ महबूब देखने की कोशिश करते हैं..

Shayari for Eid

15)

ईद के चांद उन तक
हमारा सलाम पहुंचा देना..

अपनी रौशनी के साथ
ज़रा हमारी मोहब्ब्त भी देना..

-Vrushali

eid ke chand un tak
hamara salam pahuncha dena..
apni roshni ke sath
jara hamari mohabbat bhi dena..

16)

जब भी कभी देखूं ये
ईद का रोशन चांद मैं..

या अल्लाह, तेरा ही
खयाल आता इस दिल में..

-Smita

jab bhi kabhi dekhun ye
eid ka roshan chand main..
ya allah, tera hi
khayal aata is dil mein..

17)

अल्लाह को पुकारता है साजिद..

मिले सबको ख़ुशियाँ इस ईद..

साजिद: the one who worships god

-Sagar

allah ko pukarta hai saajid..
mile sabko khushiyan is eid..

18)

नमाज़ अदा करने
जाता हूं मैं मस्जिद..

प्यार से मिलकर
मनाएंगे हम ये ईद..

-Santosh

namaz ada karne
jata hun main masjid..
pyar se milkar
manayenge ham ye eid..

19)

मुबारक हो आपको
ये खुशियां सारी..

ईद के दिन मिल जाएं
आपको दुआएं प्यारी..

-Vrushali

mubarak ho aapko
ye khushiyan sari..
eid ke din mil jaaye
aapko duaayen pyari..

20)

मेरे दिल में मुकम्मल
है प्यार तुम्हारा..

ईद के चांद सा चेहरा
है रोशन तुम्हारा..

-Neha

mere dil mein mukammal
hai pyar tumhara..
eid ke chand sa chehra
hai roshan tumhara..

21)

तू ही मेरा चांद सनम,
तू ही मेरी मांगी हुई दुआ..

तेरे सिवा मेरा कोई भी
ख्याल कभी पुरा ना हुआ..

-Santosh

tu hi mera chand sanam,
tu hi meri mangi hui dua..
tere siva mera koi bhi
khyal kabhi pura na hua..

अजीब आशिक हैं खुदा को दुखड़ा सुनाता हैं
ईद की खबर सुन कर आँसू बहाता हैं

कहता था जो सारे ज़माने को ईद मुबारक
अब मोहरम की तरह वो ईद मनाता हैं

Moeen

Ajeeb Aashiq hai khuda Ko dukhda sunata hai
Eid ki khabar sunkar Aansu Bahata hai
Kahata tha Jo sare jamane Ko Eid Mubarak
Ab mohharam ki tarah vah Eid manata hai

दोस्तों जब हम नाराज हो जाते हैं जब अकेले पड़ जाते हैं तो खुदा को याद करते हैं. उसे अपनी दुख भरी कहानी सुनाते हैं. कोई त्यौहार भी आए तो उसे ख़ुशी नहीं होती. वह त्यौहार के दिन भी आंसू बहाता है.

एक आशिक जब अपने महबूब को खो देता है तो उसका यही हाल होता है. वह सब कुछ भूल कर बस उसी की याद में खो जाता है. Eid Shayari यही बात आपको इस शायरी की मदत से समझने में आसानी होगी,

ईद की सुबह हो और तू लौट आए
खुदा मुझे ज़िंदगी में वो दिन भी दिखाए

अब लौट आ तेरे सिवा कुछ नहीं भाता
ये ईद भी ना गुज़र जाए बिन मुस्कुराए

Moeen

Eid ki subah ho aur tu Laut aaye
Khuda Mujhe jindagi mein vah din bhi dikhayen
Ab Laut aa tere Siva kuchh nahin Bhata
Ye Eid bhi na gujar jaye bin muskuraye

Eid Shayari में यह बताया गया है की, दोस्तों ईद की होती है हमारा बिछड़ा हुआ महबूब लौट आए तो हमें कितना सुकून मिलेगा. खुदा ईद के दिन हमें तो फिर मैं हमारा बिछड़ा हुआ महबूब दे दे. ताकि इस साल की ईद पर हम मुस्कुरा सके.

Eid Shayari को पढ़कर आपको महसूस होगा की, नहीं तो यह ईद भी बिना मुस्कुराए ही गुजर जाएगी.दोस्तों हम त्योहार के दिन अपनों का इंतजार करते हैं. अपनों के बिना खुशियां नहीं होती.त्योहार कितना भी बड़ा क्यों ना हो उसमें अपने नहीं होंगे तो क्या मजा. हम उसे खुशी-खुशी नहीं मना सकते.

Shayari for Eid Mubarak

22)

मोहब्बत है मुझे तुमसे
आखरी खयालात की तरह..

मेरे दिल में बस गई हो
तुम ईद के चांद की तरह..

-Neha

mohabbat hai mujhe tumse
aakhri khayalat ki tarah..
mere dil mein bus gai ho
tum eid ke chand ki tarah..

23)

मेरे यार का बस एक
बार दीद हो जाए..

ख़ुदा कसम, खुशहाल
मेरी ईद हो जाए..!

दीद : देखना, दर्शन

-Santosh

mere yaar ka bus ek
bar deed ho jaaye..
khuda kasam, kushhal
meri eid ho jaaye..!

24)

वादा है मेरा तुम ही
रहोगे साथ उम्र भर..

मनाएंगे इस बार
ईद हम दोनों मिलकर..

-Smita

vaada hai mera tum hi
rahoge sath umra bhar..
manayenge is bar
eid ham donon milkar..

25)

मेरे दिल में रखकर हमेशा के लिए
जानम, सिर्फ तुम्हारा बनना चाहूं..

ईद के इस पाक मौके पर मैं
तुमसे मुलाकात करना चाहूं..

-Santosh

mere dil mein rakhkar hamesha ke liye
janam, sirf tumhara banna chahun..
eid ke is paak mauke per main
tumse mulaqat karna chahun..

26)

दिल की हसरत मेरी
दुआओं में नजर आई है..

इस ईद के चांद में भी
ख़ुदा, तेरी सूरत समाई है..

-Neha

dil ki hasrat meri
duaon mein najar aayi hai..
is eid ke chand mein bhi
khuda, teri surat samayi hai..

27)

मेरे महबूब की अदाओं का
नज़ारा बड़ा तीखा लगे..

उसके रोशन चेहरे के सामने
ईद का चांद भी फीका लगे..!

-Santosh

mere mehboob ki adaon ka
najara bada teekha lage..
uske roshan chehre ke samne
eid ka chand bhi fika lage..!

28)

महबूब से करते जो सच्चा प्यार,
उन्हें अपना यार मुबारक..

जिनके साथ अपना यार ना हो,
उन्हें भी ये ईद मुबारक..!

-Neha

mehboob se karte jo sachha pyar,
unhen apna yaar mubarak..
jinke sath apna yaar na ho,
unhen bhi ye eid mubarak..!

हम ना होंगे तो हमारी याद सताएगी
हवाएँ मेरे होने का तुझे अहसास दिलाएगी

लौट आ छोड़ कर जाने वाले इस बार
वरना ये ईद भी उदास गुज़र जाएगी

Moeen

Ham Na honge to hamari yad satayegi
Hawaye mere hone ka tujhe ehsas dilayegi
Laut aa chhodkar jaane wale is bar
Varna ye Eid bhi udaas Gujar jayegi

दोस्तों, कोई हमें प्यार करें और हम उसके साथ ना हो तो उसे हमारी याद सताती है. हर चीज उसे हमारे होने का एहसास दिलाती है. हम दुआ करेंगे कि कम से कम आज के इस ईद के मौके पर तो वह लौट आए. ताकि यह ईद हमारी खुशी से भर जाए. ईद खुशी का त्योहार है. लेकिन अपनों के बिना खुशियां नहीं होती.

वो ईद पर मुझे अपनी मेहंदी दिखाती थी
उस की नज़रें मुझ से कुछ छुपाती थी

वो लड़की अपनी शादी में खूब रोई थी
जो मंदिर में मेरे लिए दीप जलाती थी

Moeen

Vo Eid per Mujhe Apni Mehandi dikhati thi
Uski nazre mujhse kuchh chupati thi
Vo ladki apni shaadi mein khoob roi thi
Jo Mandir mein mere liye deep jalati thi

दोस्तों अपने महबूब के हाथों पर लगी मेहंदी देखना तो बहुत खूबसूरत पल होता है. लेकिन वह मेहंदी जब किसी और के नाम की हो तो वहीं पल सबसे दुख भरा पल होता है. हमारी शादी यदि हमारे महबूब के अलावा किसी और से हो जाए तो हम कभी खुश नहीं रह सकते.

Eid Shayari की मदत से आप समझोगे की, जो लड़की हमें अपनी जिंदगी मानती हो वह किसी और से शादी करे तो भला वह खुश कैसे रह सकती है. जिस की सलामती के लिए हम मंदिर में दुआ मांगते हैं वही हमारे साथ में नहीं रहता.

Shayari on Eid Mubarak

29)

बस एक ही है हसरत, हर
रात में ईद का नज़ारा दिखे..

दुआ है मेरी, हमेशा मुझे
यार का चेहरा प्यारा दिखे..

-Smita

bus ek hi hai hasrat, har
raat mein eid ka najara dikhe..
dua hai meri, hamesha mujhe
yaar ka chehra pyara dikhe..

30)

ईद के चांद का दीदार हमेशा
इस दिल में रखना चाहूंगा..

मेरे दिलबर की एक झलक
ख्वाबों में देखना चाहूंगा..

-Santosh

eid ke chand ka deedar hamesha
is dil mein rakhna chahunga..
mere dilbar ki ek jhalak
khwabon mein dekhna chahunga..

31)

एहसानमंद रहूंगा, मेरे मन में
कोई हसरत ना अधूरी रखना..

मेरे खुदा, मेरे अपनों की सारी
तमन्नाएं ईद पर पूरी करना..

-Neha

ehsanmand rahunga, mere man mein
koi hasrat na adhuri rakhna..
mere khuda, mere apnon ki sari
tamannayen eid per puri karna..

32)

आंखों में जान उतारी है
तेरे एक दीद के लिए..

मिलने के अरमान पाले हैं
हमने इस ईद के लिए..

-Smita

aankhon mein jaan utari hai
tere ek deed ke liye..
milne ke armaan paale hain
humne is eid ke liye..

33)

ईद के चांद का आज दीदार हो जाए..

नजरों का यह मंजर पूरा हो जाए...

-Santosh

eid ke chand ka aaj deedar ho jaaye..
najron ka yah manzar pura ho jaaye..

34)

खुदा के दरबार जाकर
उसे करीब से देख आए..

चलो यारों, हम मिलकर
इस ईद का जश्न मनाए..

-Neha

khuda ke darbar jakar
use kareeb se dekh aayen..
chalo yaro, ham milkar
is eid ka jashn manaye..

35)

जिंदगी में रहो हंसते खिलखिलाते
आप, खुशहाल ये सारा मौसम रहे..

दुआ है हमारी, किस्मत आपकी
ईद के चांद की तरह रोशन रहे..

-Smita

jindagi mein raho hanste khilkhilate
aap, khushhal ye saara mausam rahe..
dua hai hamari, kismat aapki
eid ke chand ki tarah roshan rahe..

36)

या खुदा, इस जहां में
उसके जैसा कोई नहीं है..

इतना हसीन और खूबसूरत तो
ईद का चांद भी नहीं है..

-Neha

ya khuda, is jahan mein
uske jaisa koi nahin hai..
itna hasin aur khubsurat to
eid ka chand bhi nahin hai..

तेरे बाद ना फिर किसी से प्यार हुआ
करार तुझे मिला और मुकद्दर मेरा इंतज़ार हुआ

ज़माने वाले मुझे ना कहे अब ईद मुबारक
ईद उन्हें मुबारक हो जिन्हें तेरा दिदार हुआ

Moeen

Tere baad na fir kisi se pyar hua
Karar tujhe Mila aur mukaddar Mera intezar hua
Jamane wale Mujhe Na kahe ab Eid Mubarak
Eid unhen Mubarak ho jinhe Tera Deedar hua

दोस्तों जिंदगी में प्यार एक ही बार होता है. यू कहो एक ही इंसान से होता है. हम कभी भी एक इंसान को भूल कर दूसरे इंसान से प्यार नहीं कर सकते. हमें किसी और से लगाओ ह सकता है लेकिन प्यार नहीं हो सकता.

हमारी याद में हमारा प्यार हमेशा रहता है. उम्र भर हम उस इंसान का इंतजार कर सकते हैं जिस इंसान से हमने प्यार किया है. हमारा महबूब जिसकी किस्मत में लिखा हो उसका तो हर दिन ईद मनाने जैसा होगा. Eid Shayari यही बात आपको इस शायरी की मदत से समझने में आसानी होगी,

ईद का चाँद साथ अपने गम लाता हैं
चाँद रात कोई दर्द रात भर मुस्कुराता हैं

तेरी मेहंदी की महक हैं अब तक फिज़ा में
ईद का पैगाम तुझ बिन बहोत रुलाता हैं

Moeen

Eid ka Chand sath Apne gam Lata hai
Chand raat koi Dard raat bhar muskurata hai
Teri Mehandi ki mahak hain ab tak fiza mein
Eid ka paigam tujh bin bahut rulata hai

Eid Shayari Image

Eid Shayari Status
Eid Shayari Status

RELATED POSTS:

Conclusion

दोस्तों जब हमारा महबूब हमारे साथ नहीं होता है तो वह पल हमारे लिए दर्द भरा पल होता है. हम उसकी यादों में तड़पते रहते हैं. जब चांद आसमान में निकलता है तो हम उसे देख कर भी अपने महबूब को ही याद करते हैं.

चांद के रूप में जैसे महबूब का दर्द ही आसमान में निकल आता है. जो रात भर हमें सोने नहीं देता. महबूब का बिछड़ना हमें पल पल याद आता रहता है. ईद के मौके पर हम उसी चांद को देखते हैं लेकिन ईद का वह चांद भी जो पैगाम लेकर आता है वह हमें बहुत दर्द दे जाता है.

हमारी आजकी ये Eid Shayari पोस्ट को सुनकर एवं पढ़कर अगर आपको ईद मुबारक करने में आसानी हुयी हो, तो हमे निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करना न भूलियेगा

अगर आपको चाहिये कि अपने Twitter हैन्डल पर शायरी सुकून अपडेट्स मिले, तो हमें शायरी सुकून अकाउन्ट पर Follow जरूर करें.

5/5 - (1 vote)

7 thoughts on “Eid Shayari: The 45+ blessings Shayari on Eid Mubarak Status”


  1. Subscribe to Channel
  2. बेहद खूबसुरत पेशकश वंशिका जी !!
    अनेक शुभकामनाएं!
    – कल्याणी

  3. व्वाह!!! बढिया पेशकष वंशिका मॅम
    👌👌👌👌💐🌼💐🌼🌺💐

  4. Very Amazing and you expressed also very beautifully Vanshika ji👌👌👌

    Regards,
    Sameera urf Manpreet

Leave a Comment