Naseeb -1: Sad Shayari अपने नसीब Fortunate से भरोसा उठ जाएगा

naseeb shayari : वैसे तो आपका nasib पर कोई भरोसा नहीं था, लेकिन आपके महबूब का आपसे मिलना भी तो कोई इत्तेफाक नहीं था. वो आपसे आपका नसीब बनकर ही तो मिला था. क्योंकि आपको इस बात पर इतना यक़ीन ही नहीं था कि आपसे इतना प्यार करने वाला कोई महबूब मिल जाएगा.

काश अपना ऐसा नसीब होता
वो मेरे मैं उसके करीब होता

गैरों की तरह सताता क्यों हैं
अच्छा होता तू मेरा रकीब होता

– Moeen

kash apna aisa naseeb hota
wo mere mai uske kareeb hota
gairo ki tarah satata kyo hai
accha hota tu mera raqib hota

शायरी सुनने के लिए
✤ Player लोड होने दें ✤

इन दर्द से भरी शायरियों को Aniruddh Narkhedkar इनकी आवाज़ में सुनकर अपने नसीब की रेखाओं को बार बार देखना चाहोगे!

लेकिन nasib की भी शायद कोई हद होती है. और आपके दिलबर के जाने के बाद आपको यह हद अब समझ आ रही है. आप समझते थे कि प्यार भी nasib वालों को ही मिलता है. अगर आपका नसीब ही फूटा हुआ है, तो उसमें आपकी कोई गलती नहीं थी.

जो था ही नहीं नसीब में
उस से मोहब्बत कमाल की थी

तेरा छोड़ जाना तो बहाना था
वो शुरुआत मेरे ज़वाल की थी

[*ज़वाल = पतन]

– Moeen

jo tha hi nhi mere naseeb me
usse mohabbat kamal ki thi
tera chor jana to bahana tha
wo shurvat mere javaal ki thi

और आपका सनम आपको छोड़ कर चला जा रहा है इस वजह से अब आप अपने नसीब को ही दोष रहे हो. आपको दुख इस बात का नहीं है कि आपका चहेता महबूब आपको छोड़कर जा रहा है. बल्कि आपके दिल को दर्द बस यही है कि आपकी किस्मत, आपकी जिंदगी को फिर से बेकार करार दे रहा है.

और इसी वजह से अब आप अपनी तक़दीर को बार-बार कोसने लगे हो.

वो लोग थे सब नसीब वाले
जितने भी थे तेरे क़रीब वाले

मेरा मोहब्बत भरा दिल तोडा और
तोहफे सब कबूल किए रकीब वाले

– Moeen

wo log the sab naseeb wale
jitne bhi the tere karib wale
tera mohabbat bhara dil toda aur
tohfe sab kabul kiye raqib wale

नसीब में इतने गम लिखे हैं की उन्हें सहने की ताकत खत्म हो गई है अब..

जब से आप का दिल भर आपके दिल का आशियाना तोड़कर चला गया है, तब से आपको हर वक्त बस गम ही सताने लगे हैं. आप तो इसी उल्फ़त में पड़ गए हो की शायद आपका दिलबर फिर से आकर उन गमों से आपको बाहर निकाले.

वो कुछ सुनता तो कुछ कहता
वो मुझे चुनता तो कुछ कहता

तेरा बिछड़ना तो खैर नसीब था
मेरे ख्वाब बुनता तो कुछ कहता

– Moeen

wo kuch sunta to kuch kahta
wo mujhe chunta to kuch kahta
tera bichdna to khair naseeb tha
mere khwab bunta to kuch kahta

लेकिन दूसरी तरफ से अब आपको इस बात का भी यकीन हो चुका है कि आपका दिलबर अब वापस कभी लौट कर आने वाला नहीं है. लेकिन फिर भी आपका दिल इस बात को मानने के लिए तैयार नहीं हो रहा है. और अब इसी वजह से आपके पास अब अल्लाह से दुआएं करने के अलावा और कोई चारा नहीं है.

आप अपने किस्मत से ही अब यह दुआ मांगना चाहती हो कि आपकी जिंदगी में कितने गम है ये बता दे, या तो मिटा दें. क्योंकि अब आप जिंदगी से इतना ऊब गए हो कि जैसे आप गम के ही मारे हो चुके हो.

नसीब ने दिए थे जिंदगी के मौके कई, लेकिन उन्हें जीने का तरीका नहीं था…

वैसे तो जिंदगी ने मुझे कई बार नसीब का लालच दिया है. ताकि मैं अपने होशो हवास ना होते हुए कल की जीने की आशा पर टीका रहूं. लेकिन इतनी तक़दीर वाला तो मैं कभी था ही नहीं. क्योंकि जो जिंदगी मुझे किस्मत का लालच बताती थी, वो ही मुझसे उसे छीन कर भी लेती थी.

उसे नसीब में लिखा क्यों था
तुझ से ही गीला क्यों थे

वो नहीं था मेरा तो खुदा
बन कर अजनबी मिला क्यों था

– Moeen

use naseeb me likha kyo tha
tujhse hi gila kyo the
wo nhi tha mera to khuda
ban kar ajnabi mila kyo tha

मैं तो अनजान सा, नादान सा बस उसी nasib पर भरोसा करता रहा. कोई मेरी जिंदगी में भी सवेरा बनकर आएगा, इसी उम्मीद पर कायम रहते हुए जिंदगी के ऐसे गम को घुट-घुट कर यूं ही पीता रहा. बिना किसी वजह के ही अपनी जिंदगी में यूं ही भटकता रहा, चलता रहा.

शायद मैं जिंदगी को अपना ही मानकर कई सारे मौकों की तलाश में यूं ही जीता रहा. लेकिन वक़्त की बेबसी और मेरी नादानी की हद तो देखो, हमें कभी उस वक्त से और हमारी किस्मत से कभी जीतना आया ही नहीं. और इसी वजह से मैं हमेशा बस हारता ही गया.

नसीब ही अगर साथ ना दे तो जिंदगी में गम क्या और खुशी क्या मायने रखती है…

अपनी ही मोहब्बत के जाल में खुद ही फंसकर अब आपको बहुत पछतावा हो रहा है. अब आप क्या यार नहीं जवाब को छोड़ ही दिया है तो आपके जिंदगी में आप कोई सिला बाकी नहीं बचा है. अब तो आपके हाथ में अपने तकदीर को कोसते रहने के अलावा और बाकी बचा ही क्या है.

और इसी वजह से आप आपको किसी भी गम का पछतावा करने की जैसे आदत सी हो गई है. अब तो आप दुआओं में भी खुद के लिए बस गम ही मांगते हो. क्योंकि आपको अब किसी भी तरह से nasib पर कोई भरोसा ही नहीं रहा है.

आपको बस एक ही बात पर यकीन था कि जब तक आपका सनम आपके साथ था तब तक आपकी जिंदगी के सारे गाने को सहने की ताकत रखते थे. लेकिन जब से आपके यार ने आप से रुखसत ले ली है तो अब आपको किसी भी तरह के खुशी की कोई उम्मीद ही नहीं है.


nasib shayari in hindi urdu | whatsapp status lyrics

जिंदगी ये बता दें 
कितने गम बचे हैं मेरे नसीब में;

थक सा गया हूं मैं इन्हें,
संभालते, संभालते..!

jindagi ye bata de 
kitne gum bache hain
mere naseeb mein..
thak sa gaya hun main inhen
sambhalte, sambhalte..!



best sad shayari collection in hindi poetry quotes

नसीब का लालच दिखाकर ही तो 
जिंदगी हमें मौके देती रही..

लेकिन हम इतने नसीब वाले थे ही नहीं,
जो उन मौकों का फायदा उठा सकें…

nasib ka laalach dikha kar hi to
jindagi hamen mauke deti rahi..
lekin ham itne naseeb wale the hi nahin,
jo un mauko ka fayda utha sake…



nasib sad shayari urdu | whatsapp status, thoughts, lyrics

अब मेरी जिंदगी गर तूफानों से भी भरी हो, 
तो कोई बात नहीं..

क्योंकि नसीब पर तो भरोसा नहीं रहा,
जब तू ही मेरे साथ नहीं..

ab meri jindagi ghar tufano se bhi bhari ho,
to koi baat nahin..
kyunki nasib par to bharosa nahin raha,
jab tu hi mere sath nahin…

naseeb-1-sad-shayari-fortunate-hindi-quotes-2
naseeb-1-sad-shayari-fortunate-hindi-quotes-2


दोस्तों, हमारी इन नसीब के दर्द की याद दिलाने वाली शायरियों को सुनकर अगर आपका भी नसीब से भरोसा उठ गया हो, तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करते हुए जरूर बताएं.

अब आप इन सारी शायरी अपडेट्स को सीधे अपने Whatsapp पर प्राप्त कर सकते हैं. इसके लिए ‘START’ ये वॉट्सएप मेसेज +91 90495 96834 इस वॉट्सएप नं. पर भेज दीजिए. 24 घंटो के अंदर आपकी सेवा चालू हो जाएगी.

शायरी सुकून की बेहतरीन शायरियों को अपने फेसबुक पर प्राप्त करने के लिए इस शायरी सुकून पेज को Like और Share जरूर करें.

कुछ और दर्द भरी Quotes पढ़ने का मन हो रहा है, तो आप इस Sad Shayari कैटेगरी को पढ़ सकते हैं.

11 thoughts on “Naseeb -1: Sad Shayari अपने नसीब Fortunate से भरोसा उठ जाएगा”

  1. वाह अनिरुद्ध जी,
    बहोत खूबसूरती से गाना गाया आपने
    और आपकी आवाज़ तो हमेशा ही दर्द-ए-शायरी बताती हैं

  2. Bahot hi badhiya Anirudhajit ji…
    Lajawab awaj hai aapki.
    Aur utni ye shayariya aapk ki awaj me khas ban gai hai

Leave a Comment