30+ Maikhana Shayari: मयखाने पर लिखी हुए बेहतरीन शायरियां

Maikhana is an Urdu word and it means a bar or Ta-vern. Many times we have seen that you like to listen or read Maikhana Shayari when you are feeling down. If you navigate through this blog post then you will find Saqi Maikhana Shayari, which is sometimes compared with a girlfriend.

मैख़ाने पर लिखी कुछ चुनिंदा शायरियों से आप अपने दिल का हाल बयान कर पाओगे, जब आप अपनी प्रेमिका से बिछड़ते हो, तो आपको मैख़ाने की ही याद आती है. और तब आपको एक उम्दा मैखाना शायरी सुनने को या पढ़ने को मिल जाये तो फिर इससे बेहतर क्या हो सकता है? तो आइये पढ़ते है महशहूर मैख़ाने से जुड़े शेरो शायरी.

Table of Content



  1. Maikhana Shayari
  2. Saqi Maikhana Shayari
  3. Shayari on Maikhana
  4. Conclusion

Maikhana Shayari

Maikhana Shayari Images
Maikhana Shayari Images
1)

मयखाने में बैठकर मैं पीता हूं
यह जाम तेरे हाथ से साकी..

जिंदगी में मेहबूब के अलावा
अब नहीं है कोई याद बाकी..

-Vrushali

maykhane mein baith kar main pita hun
yah jaam tere hath se saki..
jindagi mein mahbub ke alava
ab nahin hai koi yad baki..


💕 Listen Uninterrupted Shayari 💕
🙏After Small Advertisement🙏



2)

मयखाने का जाम आज लगता जहरीला है..

उसके शहर का पानी भी यारों नशीला है..

-Kavya

maykhane ka jaam aaj lagta jahrila hai..
uske shahar ka pani bhi yaaro nashila hai..

3)

मयखाना मेरी दुनिया का बन गया है..

जब से हर जाम में तू बसने लगा है..

-Vrushali

maykhana meri duniya ka ban gaya hai..
jab se har jaam mein tu basne laga hai..



4)

कमबख्त, इस दुनिया ने
बवाल मचा दिया..

मयखाने में जो मैंने जाम
होठों से लगा लिया!

-Santosh

kambakht, is duniya ne
baval macha diya..
maykhane mein jo maine jaam
hothon se laga liya!

5)

मयखाना अब मुझे
जन्नत सा लगता है..

हर जाम के साथ तेरा
एहसास मिटता जाता है..

-Vrushali

maykhana ab mujhe
jannat sa lagta hai..
har jaam ke sath tera
ehsaas mitata jata hai..

6)

बदल गई जो दुनिया मेरी,
किसी से शिकायत नहीं..

निगाहें मिली है उससे तो,
मयखाने की जरूरत नहीं..

-Gauri

badal gayi jo duniya meri,
kisi se shikayat nahin..
nigahen mili hai usse to,
maykhane ki jarurat nahin..

7)

कैफ़ियत-ए-मयखाना
मैं तुझे क्या सुनाऊं साकी..

ज़िंदगी में मोहब्बत के बिना
कोई जाम नहीं होता काफ़ी..

-Vrushali

kaifiyat-e-maykhana
mai tujhe kya sunaun saki..
jindagi mein mohabbat ke bina
koi jaam nahin hota kafi..



8)

यारों, मयखाने को भी भूल जाता हूं..

मैं जब दिलबर की बाहों में होता हूं..

-Kavya

yaaron, maykhane ko bhi bhul jata hun..
main jab dilbar ki bahon mein hota hun..

9)

जब तेरी याद आती है
तो मैं मयखाने में जाता हूं..

हर जाम के साथ मैं तुझे
भुलाने की कोशिश करता हूं..

-Vrushali

jab teri yad aati hai
to main maykhane mein jata hun..
har jaam ke sath main tujhe
bhulane ki koshish karta hun..

10)

मेरी प्यारी दिलरुबा का
जब मुझे दीदार हुआ..

मयखाना ही जैसे मेरे
सामने साकार हुआ..

-Gauri

meri pyari dilruba ka
jab mujhe didar hua..
maykhana hi jaise mere
samne sakar hua..

11)

तू जो नहीं मेरे पास
तो मुझे मयखाना अपना लगता है..

तेरे होने का एहसास
हर जाम के साथ मुझे मिलता है..

-Vrushali

tu jo nahin mere pass
to mujhe maykhana apna lagta hai..
tere hone ka ehsas
har jaam ke sath mujhe milta hai..



Saqi Maikhana Shayari

Saki Maikhana Shayari
Saki Maikhana Shayari
12)

मोहब्बत की प्यास का
एहसास कर रहा हूं मैं..

अब मयखाने सा नशा
महसूस कर रहा हूं मैं..

-Santosh

mohabbat ki pyas ka
ehsas kar raha hun main..
ab maykhane sa nasha
mahsus kar raha hun main..

13)

मयखाने पर मैं आज
लिख रही हूं शायरी..

साथ है तेरी याद
तो लगती है कम ये डायरी..

-Vrushali

maykhane per main aaj
likh rahi hun shayari..
sath hai teri yad
to lagti hai kam ye diary..

14)

रात दिन मैंने खुद को बस
उसी की यादों में भुलाया है..

मयखाने की क्या है जरूरत
जब महबूबा ने मुझे बुलाया है..

-Gauri

raat din maine khud ko bas
usi ki yadon mein bhulaya hai..
maykhane ki kya hai jarurat
jab mehbooba ne mujhe bulaya hai..

15)

बैठकर मयखाने में
साकी से तेरी शिकायत करता हूं..

इश्क में तड़प रहा हूं
यही बात रोज उसे कहता हूं..

-Vrushali

baithkar maykhane mein
saki se teri shikayat karta hun..
ishq mein tadap raha hun
yahi baat roj use kahta hun..



16)

मयखाने का नशा अभी थोड़ा बाकी है..

वो मेरा यार, वही तो मेरा साकी है..

-Kavya

maykhane ka nasha abhi thoda baki hai..
vo mera yaar, vahi to mera saki hai..

17)

जब भी यार की कातिल निगाहें देखता हूं..

मयखाने की शराब पिए बिना बहकता हूं..

-Gauri

jab bhi yaar ki katil nigahen dekhta hun..
maykhane ki sharab piye bina bahakta hun..

18)

अहमियत क्या बताऊं उसकी
वो मेरे जिंदगी का पैमाना है..

नशा नहीं उतरता उसका,
नजरों में ऐसा मयखाना है..

-Kavya

ahmiyat kya bataun uski
vo mere jindagi ka paimana hai..
nasha nahin utarta uska,
najron mein aisa maykhana hai..

19)

अपने कमाए हुए पैसों को
हम शराब पर उड़ाते हैं..

बिगड़े हुए नवाब है हम,
मयखाने में ही मिलते हैं..!

-Santosh

apne kamaaye hue paison ko
ham sharab per udate hain..
bigde hue nawab hai ham,
maykhane mein hi milte hain..!



20)

कईयों ने नाम रखे हैं अलग-अलग
बहुत से लोग हमें खराब कहते हैं..

बदनाम ऐसा हुआ है मयखाना
के पानी पियो तो शराब कहते हैं..!

-Kavya

kaiyon ne naam rakhe hain alag-alag
bahut se log hamen kharab kahte hain..
badnaam aisa hua hai maykhana
ke pani piyo to sharab kahte hain..!

21)

मयखाने से मोहब्बत का
स्वाद रसीला हो गया..

जानेमन ने छू लिया तो
पानी भी नशीला हो गया..

-Gauri

maykhane se mohabbat ka
swad rasila ho gaya..
jaaneman ne chhu liya to
pani bhi nashila ho gaya..

22)

दिल में अपने अरमान नए
जगाना अच्छा लगता है..

मयखाने में बैठकर शराब
पीना अच्छा लगता है..

-Santosh

dil mein apne armaan naye
jagana achcha lagta hai..
maykhane mein baith kar sharab
peena achcha lagta hai..

Shayari on Maikhana

Shayari on Maikhana
Shayari on Maikhana
23)

महबूबा की आंखें कभी हमें भी
इस मयखाने का नशा दिलाएं..

अरमान हमारे दिल में है कि
साकी हमें नजरों से पिलाएं..!

-Kavya

mahbooba ki aankhen kabhi hamen bhi
is mainkhane ka nasha dilaye..
armaan hamare dil mein hai ki
saki hamen najron se pilaye..!



24)

बेवफा महबूब के प्यार में
धोखा खाकर आ रहे हैं..

कह दो लोगों से कि हम
मयखाने से होकर आ रहे हैं..

-Gauri

bewafa mehboob ke pyar mein
dhokha khakar aa rahe hain..
kah do logon se ki ham
maykhane se hokar aa rahe hain..

25)

मोहब्बत के प्याले में वह
मुझे कुछ ऐसे डुबो देता है..

मयखाने की शराब में यारों
नशा ही कुछ और होता है..

-Santosh

mohabbat ke pyale mein vah
mujhe kuch aise dubo deta hai..
maykhane ki sharab mein yaaro
nasha hi kuchh aur hota hai..

26)

उसकी मदमस्त निगाहों का
नशा चाहता हूं मैं चखना..

मयखाने का दरवाजा मगर
यारों, जरा खुला ही रखना..

-Kavya

uski madmast nigahon ka
nasha chahta hun main chakhna..
maykhane ka darwaja magar
yaaron, jara khula hi rakhna..

27)

मोहब्बत का मारा हुआ कहां
जिंदा लौट कर आया है..

मयखाने के नशे को आज तक
कौन समझ पाया है..

-Gauri

mohabbat ka mara hua kahan
jinda laut kar aaya hai..
maykhane ke nashe ko aaj tak
kaun samajh paya hai..

28)

कुछ इस कदर उसने घुंघट
अपना सरका दिया है..

हुस्न का मयखाना ही जैसे
उसने खुला किया है..!

-Santosh

kuchh is kadar usne ghunghat
apna sarka diya hai..
husn ka maykhana hi jaise
usne khula kiya hai..!

29)

मयखाने में तुम्हारे
हमें उम्र भर रहना है..

चाहत का जाम हमें
रात-दिन पीना है..

-Kavya

maykhane mein tumhare
hamen umra bhar rahna hai..
chahat ka jaam hamen
raat-din pina hai..

30)

बिना मांगे दिल का
नाज़ुक सा दर्द दे दिया..

मयखाने में साकी ने
ऐसा जाम पिला दिया..

-Gauri

bina mange dil ka
nazuk sa dard de diya..
maykhane mein saki ne
aisa jaam pila diya..

31)

शमा मयखाने की उसने
कुछ ऐसे बुझा दी..

कि हमने बिना सोचे ही
अपनी जान लुटा दी..

-Santosh

shama maykhane ki usne
kuchh aise bujha di..
ki humne bina soche hi
apni jaan luta di..

32)

तेरी ही जाम-ए-मोहब्बत के हम दीवाने हैं..

हम तो मयखाने में जलने वाले परवाने हैं..

-Kavya

teri hi jaam-e-mohabbat ke ham deewane hain..
ham to maykhane mein jalne wale parwane hain..

33)

बिन बुलाए अपने आप मैं
मयखाने की ओर चल पड़ा..

साकी के पैरों की पायल
सुनकर दिल मेरा बोल पड़ा..

-Gauri

bin bulae apne aap mai
maykhane ki or chal pada..
saki ke pairon ki payal
sunkar dil mera bol pada..

34)

मयखाने में उम्र बीती,
तेरे साथ अब जीना है..

हाथों से तेरे एक बार
ये जाम हमें पीना है..!

-Kavya

maykhane mein umra biti,
tere sath ab jina hai..
hathon se tere ek bar
ye jaam hamen pina hai..!

YOU MAY LIKE THESE POSTS:

Conclusion

So what? Do not plan to visit a bar if you recently broke up with your girlfriend. You should understand her situation and move forward without keeping you in a sad mood. Because the Maikhana is not the right place to forget your sorrow. All these Maikhana Shayari’s are written for just entertainment. We do not support Maikhana in any condition or matter. Follous on Facebook.



Add Comment