Most Romantic 30+ Jaan Shayari Collection For Your Partner!

हर इंसान के लिए अपनी जान सबसे प्यारी होती है. हमारी Jaan Shayari आज आपको अपनी जान से भी प्यारी लगने वाली चीज से रूबरू कराएगी. हमारी आज की शायरियां आपको उस बात से बाकी कराएगी जिसे कुछ लोग जानते हैं और कुछ लोग नहीं. आप भी सोच रहे होंगे जान से प्यारा क्या हो सकता है..?

पर ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो हमें जान से प्यारी होती है. जैसे मां, हमारा परिवार, हमसफर, हमारी मंजिल, हमारा काम तो कभी हमारा देश हमें जान से प्यारा होता है. जान पर शायरी को आप अपने महबूब से जरूर सांझा करना चाहोगे. क्योंकि आप उसे अपनी जान से भी ज्यादा चाहते हो.


Listen to Jaan Shayari by Vanshika Navlani
इस जा न को बस तेरी फिक्र हैं
सदा बस तेरा ही गीत गाती हैं..

प्यार भरा खत लिखते हुए वो
खुद ही नज़्म बनके गुनगुनाती हैै..

-Vrushali

is jaa n ko bus teri fikra hai
sada bus tera hi geet gati hai..
pyar bhara khat likhate huye vah
khud hi nazm ban ke gungunati hai..

Jaan Shayari Status
Jaan Shayari Status | Shayari for Jaan

इन जान शायरियों को Shraddha Jain इनकी आवाज़ में सुनकर आपको अपने जान से प्यारे सनम की याद आएगी!



वह के पास हो तो बहुत अच्छी बात है और नहीं है तो उसे इन शायरियों के जरिए आप वापस बुलाने की कोशिश कर सकते हो. हमारी आज की शायरियां आपके लिए खास पेशकश हैं. दोस्तों हमारी आज की शायरी हमको अपने दोस्तों के साथ जरूर सांझा करें.

तेरी चाहत से हम ने क्या पाया
हँसी से रहे महरूम नींदों को गँवाया

मुझे बुलाती थी जो जान कहे कर
हँसाते हँसाते उसी ने फिर मुझे रुलाया

*महरूम: वंचित

-Moeen

Teri Chahat se humne kya Paya
Hansi se rahe Muharum nindon ko gawaya
Mujhe bulati thi Jo Jaan kahe kar
Hasate hasate usi ne fir Mujhe rulaye

जान पर शायरी में यह बताया गया है की, गलत इंसान को चाहने से हमें जिंदगी भर के लिए सुख से वंचित रहना पड़ता है. हम उस इंसान से भले ही कितना प्यार क्यों ना करें, उसे हमें छोड़ना होगा तो वह छोड़ कर चला जाएगा. इसीलिए हमेशा अच्छी है संगत रखें. ताकि हमारी जान पहचान भी किसी गलत इंसान से ना हो.

कैसे कहते हो अब की
आप हमारी जान नहीं है

सिद्दत से मैंने तुझको
हरपल बेशुमार चाहा है

kaise kahte ho ab ki
aap humari jaan nhi hai
shiddat se maine tujhko
har pal beshumar chaha hai

ओ मेरी जा न, इतना दौड़ा ना कर
थक जायेगी तू, रुक जाया कर..

तुझ से ही तो चलती मेरी धड़कने है
कभी उनकी ही थोड़ी सी फिकर कर..

-Vrushali

o meri jaa n itna dauda na kar
thak jayegi tu ruk jaya kar..
tujhse hi to chalti meri dhadkane
kabhi unki hi thodi si fikar kar..

Shayari for Jaan | Meri Jaan Shayari
Shayari for Jaan | Meri Jaan Shayari | Romantic Shayari For Jaan

Listen to Shayari for Jaan in Hindi

Dr. Rupeshkumar की इस आवाज को सुनकर अपनी जान से ज्यादा चाहनेवाले ने दिये जख़्म फिर एकबार हरे हो जाएंगे!

कैसी वीरान अब शहर की रात हैं
तन्हाई में सिर्फ तेरी यादें साथ हैं

जान लिखती थी मुझे पैगाम में वो
अभी गुज़रे दिनों की ये बात हैं

-Moeen

Kaisi viran ab Shahar ki Raat hai
Tanhai mein sirf Teri yaden Saath hain
Jaan likhti thi Mujhe paigam mein woh
Abhi gujre Dinon ki baat hai

सागर के गहराई में
जान को छुपा रखा है

मेरे सनम मैंने आपके लिए
सब्र का इम्तेहान ले रखा है

sagar ke gaharai me
jaan ko chupa rakha hai
mere sanam maine aapke liye
sabra ka imtehaan le rakha hai

आज इस भरी महफ़िल में
अपने प्यार का इजहार करता हूं..

तेरी प्यारी सी मुस्कान के नाम
आज मैं अपनी जा न करता हूं..

-Vrushali

aaj is bhari mahfil mein
apne pyar ka izhaar karta hun..
teri pyari si muskan ke naam
aaj main apni jaa n karta hun..

दोस्तों जब हमारा हमसफर हमसे दूर हो जाता है तो हमें हर जगह वीरान लगती है. कहीं पर भी हमारा मन नहीं लगता. हम उसी की यादों में खोए खोए रहते हैं. वह हमें भले ही अपनी जान से बढ़कर चाहता हो, लेकिन जब दिन गुजर जाते हैं तो हमें अपनी अहमियत का अंदाजा हो जाता है.

ढूँढता हुँ खोया हुआ कुछ अंधियारों में
तलाश करता हुँ कुछ चमकते तारों में

जो जान बना कर जान ले गई
शामील थी कभी वो मेरे तलबगारों में

-Moeen

Dhoondhta Hu khoya hua kuchh andhiyaro mein
Talash karta hun kuchh chamakte Taron mein
Jo Jaan banakar Jaan le gai
Shamil thi kabhi vah mere talabgaron mein

प्यार में.. वो मेरा
इम्तेहान ले रही है..

कैसे बताऊं की वो
मेरी जान ले रही है…!

pyar mein.. vo mera
imtihaan le haan rahi hai..
kaise bataun ki vo
meri jaan le rahi hai…!

Romantic Shayari for Jaan
Romantic Shayari for Jaan | Shayari for Jaan Images

जान पर लिखी हुयी शायरी को सुनिए

दोस्तों खोई हुई चीज हमें ढूंढने पर मिल ही जाती है. लेकिन खोया हुआ इंसान मिलना मुश्किल है. उसे घर वापस आने का रास्ता मालूम होता है फिर भी वह लापता रहना चाहता है, ऐसे में हम उसे कैसे ढूंढ सकते हैं..? Jaan Shayari की मदत से आप समझोगे की, हमें वह इंसान अपनी जान बनाकर हमारी जान ले जाता है. हमें बहुत दुख होता है. लेकिन हालातों पर हमारा बस नहीं चलता है.

वो गुनगुनाती थी महफिलों में हमारी गज़ल
हारा मैं… लेकिन मेरी ना हारी गज़ल

कागज़ अपनी जान पर सितम करता हैं
तेरी बेवफाई की जब से उतारी गज़ल

-Moeen

vah gungunati thi mehfilon mein hamari ghazal
Hara mein lekin meri na Hari ghazal
Kagaj apni Jaan per Sitam karta hai
Teri bewafai ki jab se utari gazal

दास्तां मेरी मोहब्बत की ऐसी है..

वो मेरी जान चाहती है.. और
मै उसे जान से ज्यादा चाहता हूं..

dastan meri mohabbat ki aisi hai..
vo meri jaan chahti hai aur
main use jaan se jyada chahta hun…

हमारी कला को पसंद करने वाले भले ही हमें पसंद ना करें लेकिन हमारी कला को पसंद करते हैं. हमारे अपने यानी हमारा हमसफर हमारी लिखावट को पसंद करता है तो हमारे लिए अच्छी बात है. Jaan Shayari में कुछ इस प्रकार से बताया गया है की, कभी वह हमें छोड़कर चला जाए तो हमारी याद में हो हमारी लिखी हुई हर पेशकश को याद करेगा. हम भी उसकी याद में न जाने कितना दर्द कागज पर उतार देंगे.

Jaan Shayari Image
Jaan Shayari Image | love shayari for jaan in hindi
पेट की खातिर महफिल में गीत सुनाते हैं
अजीब लोग हैं…. हवाओं में महल बनाते हैं

जानों को जिन की अहमियत नहीं देता ज़माना
मरते मरते वो जीने का हुनर सिखाते हैं

-Moeen

Pet ki khatir mehfil mein geet sunate Hain
Ajeeb log hai hawaon mein Mahal banate hain
Janon Ko jinki ahmiyat nahin deta jamana
Marte marte vo jeene ka hunar sikhate Hain

इस जा न की सांसें
तेरी धड़कनों से चलती है..

तू दूर हो जाए थोड़ी
तो बैचेनी सी लगती है..

-Vrushali

is j aan ki saanse
teri dhadkanon se chalti hai..
tu dur ho jaaye thodi
to bechaini si lagti hai..

करूँ जो ज़िक्र तेरा अलफ़ाज़ मेरे गज़ल हो जाए
तेरे वजूद से मेरा गरीब खाना ताजमहल हो जाए..

तेरी सोहबत से सफर की मुसा फत घटे जानाँ
सदीयों का सफर भी घट कर पल दो पल हो जाए..

-Moeen

karu jo zikr tera alfaaz mere gazal ho jaaye
tere wajood se mera garib khana tajmahal ho jaaye..
teri sohbat se safar ki musa fat ghate ja na
sadiyon ka safar bhi ghat kar pal do pal ho jaye..

बेजान धड़कन में जान भर दें..

शोना मेरे.. तू सिर्फ एकबार
मुझे अपनी जान कह दें…!

bejan dhadkan me jaan bhar de..
shona mere.. tu sirf ek bar
mujhe apni jaan keh de…!

Meri Jaan Shayari Hindi Image
Meri Jaan Shayari Hindi Image

Meri Jaan Shayari | सुनिए मेरी जान शायरी

Jaan Shayari को पढ़कर आपको महसूस होगा की, दोस्तों कुछ लोग अपना पेट पालने के लिए कुछ ना कुछ काम करते हैं. लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो सिर्फ हवाओं में महल बनाते हैं. उनकी इस नादानी की वजह से उनके अपनों को जिल्लत उठानी पड़ती है. लेकिन उन्हें उनकी जान की परवाह नहीं होती. वह तो बस अपनी दुनिया में खोए रहते हैं.

जब खुशीयाँ सारी अपनी मर जाए
तन्हाईयों के सन्नाटे हैं किधर जाए

ये जान थी कभी किसी की अमानत
चलों हम भी वादों से मुकर जाए

-Moeen

Jab khushiyan sari apni mar jaaye
Tanhaiyon ke sannate hai kidhar jaaye
Yah Jaan thi kabhi kisi ki Amanat
Chalo ham bhi wado se mukar jaaye

मेरे दिल में बस अब तेरा ही खयाल है
रब से मांगी दुआ पर तेरा ही नाम है..

ये मेरी जा न तुझ पर निसार करता हूं
मेरी जिंदगी की डोर तेरे ही साथ है..

-Vrushali

mere dil mein bas ab tera hi khayal hai
rab se mangi dua per tera hi naam hai..
yah meri jaa n tujh par nisar karta hun
meri jindagi ki dor tere hi sath hai..

संम्भल के रखा है जान को
मेरे शोना सिर्फ आपके ही लिए..

इतना भी प्यार कैसे हो गया
दिन कम पड़ते है सोचने के लिए..

sambhal ke rakha hai jaan ko
mere shona sirf aapke hi liye..
itna bhi pyar kaise ho gaya
din kam padte hain sochne ke liye…

तेरी सादगी भी दीवानों के होश उड़ाती हैं
तेरी यादें चाहने वालों की नींदें चुराती हैं..

लोग कहते हैं मेरे मुँह से फूल झड़ते हैं
मेरे लबों पर जानाँ जब तेरी बात आती हैं..

-Moeen

teri sadgi bhi deewanon ke hosh udaati hai
teri yaden chahane walon ki ninde churati hai..
log kahate hain mere munh se phool jhadhate hain
mere labon per jana jab teri baat aati hai..

Love You Jaan Shayari
Love You Jaan Shayari
गुजरता हूं तेरी गलियों से तो
छुप कर देखना गलत है मान लो..

मोहल्ले में होगी शुरू फिर से
बातें हमारी, ये तुम जा न लो..

guzarta hoon teri galiyon se to
chup kar dekhna galat hai man lo..
mohalle mein hogi shuru fir se
baten hamari, yeh tum jaa n lo..

तेरी चाहत के सागर में सदा मैं डूबा रहूँ
शबाना रोज़ बस तेरे खयालों में खोया रहूँ..

वो मासूम लड़की जा न हैं मेरी, उसे कहना
बन भी जाऊँ सागर तो तेरी चाहत का प्यासा रहूँ..

-Moeen

teri chahat ke sagar mein sada mein duba rahun
shabana roj bas tere khayalon mein khoya rahun..
vah masoom ladki jaa n hai meri
use kahana ban bhi jaau sagar tu teri chahat ka pyasa rahun..

करते हो इतना मजबूर की
साँसे भी फीकी पड़ती है..

२ दिन बात न करूँ आपसे
तो सचमे जान निकल जाती है..

karte ho itna majbur ki
sanse bhi fiki padati hai..
do din baat na karu aapse
to sach mein jaan nikal jaati hai…!

शर्मिंदगी सी महसूस करता है
ये इश्क, जाना मेरा हाल देखकर..

जी जा न से मर मिटा हूं फिर भी,
हैरान है वो मुझे जिंदा देखकर..

sharmindagi mahsus karta hai
yah ishq, jana mera hal dekh kar..
ji jaa n se mar mita hun fir bhi
hairan hai vah mujhe jinda dekhkar..

You can share this Jaan Shayari with your Girlfriend
You can share this Jaan Shayari with your Girlfriend

दोस्तों इंसान जब खुश होता है तो उसकी जिंदगी आसानी से कट जाती है. पर जिस दिन उसकी खुशियां मर जाती है तो वह अकेला हो जाता है. जो इंसान उसकी जान को अपनी अमानत मानता है वही उसे छोड़कर चला जाए तो उसके जीने की कोई वजह नहीं रहती. फिर उसने भले ही किसी को वादा किया हो अपना ख्याल रखने का लेकिन वह अपने वादे से मुकर जाता है. यही बात आपको इस Jaan Shayari की मदत से समझने में आसानी होगी.

बुझी हुई आँखें तकती हैं रस्ता तेरा
ज़माने में कौन हैं तेरे सिवा मेरा

अब पैगामों में जान लफ्ज़ नहीं होता
सवेरा ढल चूका दूर तक हैं अँधेरा

-Moeen

Bujhi Hui Aankhen takati hai rasta Tera
Jamane mein Kaun hai tere Siva Mera
Ab paigamon mein jaan lafj nahin hota
Savera Dhal chuka dur tak hai andhera

सुना है दिलकी धड़कन
धक् धक् सुनाई देती है..

मैंने आज करीब से सुना
वो तो बाबू, शोना, जान
ऐसा ही सुनाई देती है..

suna hai dil ki dhadkan
dhak dhak sunai deti hai..
maine aaj kareeb se suna
vo to babu, shona, jaan
aisa hi sunai deti hai…

तेरी ज़ुल्फों को देख कर ये घटा शरमाएँ
तेरे हुस्न से मुँह चुराए, ये आईना शरमाएँ..

जो देख ले कभी कयामत खेज़ी उन आँखों की
खुदा की कसम जानाँ फिर मय कदा शरमाएँ..

-Moeen

teri zulfon ko dekh kar yah ghata sharmaye
tere husn se munh churay, ye aaina sharmaye..
jo dekh le kabhi qayamat kheji un aankhon ki
khuda ki kasam jana fir may kada sharmae..

मेरे सीने में धड़कता दिल,
मेरी जिंदगी है तू नादान..

सच कहूं तो मेरे लिए, खुद से भी
बढ़कर है तू, मेरी जाँ..

Love You Jaan..!

mere seene mein dhadakta dil
meri jindagi hai tu nadan..
sach kahun to mere liye khud se
bhi badhkar hai to meri jaa n..

तुझ तक पहुँचा हूँ किसमत से नज़रें चुरा कर
मुझे तुम रखना नैनों में अपना ख्वाब बना कर..

हम ने पाई हैं जीला जानाँ तेरी चौखट पर
लम्हों में सदीयों को जीया तेरी महफील में आ कर..

-Moeen

tujh tak pahuncha hu kismat se nazre chura kar
mujhe tum rakhna naino mein apna khwab banakar..
humne paayi hai jila jana teri chokhat per
lamhon mein sadiyon ko jiya teri mehfil mein aakar..

Sad Shayari for Jaan
Sad Shayari for Jaan

मेरी जान शायरी में यह बताया गया है की, दोस्तों जमाने में हमारा कोई एक ही रिश्तेदार हो या फिर अपना हो तो हम तो उसी के सहारे जीते हैं. हर शाम उसी के आने का इंतजार करते हैं. क्योंकि उसी के सिवा हमारा दुनिया में कोई नहीं होता. तो फिर हम किसका इंतजार करेंगे..? उसी का इंतजार करेंगे. वह भी हमसे मुंह फेर लेगा तो हमारी जिंदगी में तो बस अंधेरा ही रह जाएगा. हम अकेले हो जाएंगे.

ज़ालीम ज़माने में वो मेरा सहारा था
अंजाम से बेखबर इश्क़ हमारा था

जान लबों तक आई थी बिछड़ते वक्त
लब रहे खामोश आँखों ने पुकारा था

-Moeen

Jalim jamane mein wo Mera Sahara tha
Anjam se bekhabar Ishq hamara tha
Jaan Labo tak aayi thi bichadte waqt
Lab rahe Khamosh aankhon ne pukara tha

Jaan Par Likhi huyi Shayariya Suniye!

इस जान शायरी को Aditi Kshirsagar इनकी आवाज में सुनकर दिल में अपने यार के लिए चाहत जरूर जागेगी

मेरी अधूरी जिंदगी की ख्वाहिश,
मेरा अरमान हो तुम..

बताऊं कैसे तुम्हे, मेरे इश्क की पहचान,
मेरी जा न हो तुम..

Miss You Jaanu..

meri adhuri jindagi ki khwahish,
mera armaan ho tum..
bataun kaise tumhen, mere ishq ki
pahchan, meri jaa n ho tum..

Romantic Shayari for Jaan
Romantic Shayari for Jaan

हमारा सहारा कोई छीन ले तो हमें बहुत दुख होता है. जैसे कोई हमारी जान हमसे ले रहा हो ऐसा लगता है. हमारी आंखों से आसू जलक ने लगते हैं. वह हमारी हालत को नहीं जानता हो तो हम उसे रोक नहीं पाते. हम अपने अल्फाजों से भले ही उन्हें रोकना चाहते हैं लेकिन ऐसा कर नहीं पाते. क्योंकि वह हमारे दिल में छुपे प्यार को नहीं जानता. लेकिन हमारी आंखें सब कुछ बयां कर देती है.

तेरे खयालों की भीड़ में मैं खोया करूँ
तेरी ज़ुल्फों की घनी छाँव में उलझा करूँ..

तेरी चाहत को जा न लिखा हैं गज़लों में
तू हो सामने और मैं आखरी सजदा करूँ..

-Moeen

tere khayalon ki bheed me main khoya karun
teri zulfon ki ghani chhav mein main uljha karu..
teri chahat ko j aan likha hai gazalon mein
tu ho samne aur mein aakhri sajda karo..

रो रो कर परिंदे यही कहते हैं
बिन मेरे वो अब खुश रहते हैं

खत में मुझे जान लिखने वाले लोग
अश्क बन कर आँखों से बहते हैं

-Moeen

Ro ro kar parinde yahi kahate Hain
Bin mere vah ab Khush rahte hain
Khat mein Mujhe Jaan likhane wale log
Ashq Bankar aankhon se bahate Hain

सजदों में गिर कर तेरे मिलन की दुआ करेंगे
टुटती आखरी साँस तक जानाँ वफा करेंगे..

जिस डगर से घबराते हैं मजनू, राँझा और फरहाद
उस राह पर भी जानाँ तुझे हम मिला करेंगे..

-Moeen

sajdon mein girkar tere milan ki dua karenge
tutati aakhri saans tak jana wafa karenge..
jis dagar se ghabrate hain majnu, ranjha aur farhad
use rah per bhi jana tujhe ham mila karenge..

Romantic Shayari on Jaan
Romantic Shayari on Jaan | love shayari for my jaan
तेरे काँपते हाथों की लिखावट पहचानता था
तू जान थी… तुझे खुदा मानता था

कहती थी जब वो…. मैं खुश हुँ
हँसी में छुपे उसके गम पहचानता था

-Moeen

Tere kapte hathon ki likhawat pahchanta tha
Tu Jaan thi tujhe khuda manta tha
Kahati thi jab vah main Khush hun
Hasi mein chupe uske gam pahchan ta tha

यूँही जारी मुलाकातों का सिलसिला रहने दे
मुझे तू अपनी दीद का सदा प्यासा रहने दे..

तुझे कभी सिर्फ अपना, कभी जा न लिखता हूँ
तुझे मेरा और मुझे तेरा लिखा रहने दे..

-Moeen

yun hi jari mulaqaton ka silsila rahane de
mujhe to apni deed ka sada pyaasa rahane de..
tujhe kabhi sirf apna, kabhi j aan likhta hun
tujhe mera aur mujhe tera likha rahane de..

Love Shayari for Your Jaan in Hindi
Love Shayari for Your Jaan in Hindi
गुस्सा करती हो जब भी मुझपर, 
इजहार नजर आता है..

तेरी आंखों में हमेशा जाँ मेरी,
मुझे प्यार नजर आता है..

I Love You Jaan..!

gussa karti ho jab bhi mujh per,
izhar najar aata hai..
teri aankhon mein hamesha jaa meri,
mujhe pyar najar aata hai..

दोस्तों हम अपने करीबी इंसान को बहुत अच्छे से जानते हैं. उसकी लिखावट से लेकर उसकी झूठी हंसी तक सब कुछ पहचानते हैं. वह इंसान हमसे कुछ भी छुपा नहीं पाता. वह दुखी हो जाता है तो हम पहचान लेते हैं. हमसे कोई बात छुपाना उसके लिए मुमकिन नहीं होता. क्योंकि जब हम किसी से प्यार करते हैं तो उसकी हर एक बात को जानने लगते हैं.

Jaan Shayari Status
Jaan Shayari Status
ज़माने पर गिराती हैं बिजलीया वो गुलाबी आँखें
होशवाले देख कर बहकते हैं वो श राबी आँखें..

इधर मेरे लबों पर मचलते हैं सवाल जानाँ
सवाल तोड़ते हैं दम देख कर वो जवाबी आँखें..

-Moeen

jamane per girati hai bijaliyan vah gulabi aankhen
hosh wale dekh kar bahakte hain vah shara bi aankhen..
idhar mere labon per machalte hain sawal jana
sawal todte hain dam dekhkar vah jawabi aankhen..

तेरे लबों को चुम कर सादा पानी श राब बने
तेरे कदमों से लिपट कर ज़र्रे भी आफताब बने..

तू हैं जा न मेरी तुझ से चलती हैं ये साँसें
तुझ से हो मुलाक़ात तो ये लम्हे ख्वाब बने..

-Moeen

tere labon ko chumkar sada pani sha rab bane
tere kadmo se lipat kar jarre bhi aftab bane..
tu hai jaa n meri tujh se chalti hai yah sanse
tujhse ho mulakat to yah lamhe khwab bane..

1)

समंदर की लहरें मुझे याद दिलाती है
मेरे महबूब की काली घनी जुल्फें..

मेरी जान इंतजार कर थोड़ा सा और
उसकी कश्ती ले आएगी ये लहरें..

-Vrushali

samandar ki lahren mujhe yaad dilati hai
mere mehbub ki kali ghani julfen..
meri jaan intezar kar thoda sa aur
uski kashti le aayegi ye lahren..

2)

उसके बिना एक पल भी मैं
ना सोता और ना ही जागता..

मेरी जान के बिना मेरा दिल
बिल्कुल नहीं लगता..

-Santosh

uske bina ek pal bhi mai
na sota aur na hi jagta..
meri jaan ke bina mera dil
bilkul nahin lagta..

3)

इत्मीनान रख मेरी जान
ये हवा भी गुजर जाएगी..

जो दूर है तुझसे उस तक
ये तेरा पैगाम जरूर पहुंचाएगी..

-Vrushali

itminan rakh meri jaan
ye hawa bhi gujar jayegi..
jo dur hai tujhse us tak
ye tera paigam jarur pahuchayegi..

4)

चाहे जमाने की दास्तान में
मेरे प्यार का जिक्र नहीं..

मेरी जान है मेरे साथ इसीलिए
अब मुझे कोई फिक्र नहीं..

-Kavya

chahe jamane ki dastan mein
mere pyar ka jikr nahin..
meri jaan hai mere sath isiliye
ab mujhe koi fikr nahin..

5)

महलों की मोहब्बत
कई आशिकों की जान ले चुकी है..

जानता हूं मैं मगर ये जान
अब किसी और की अमानत हो चुकी है..

-Vrushali

mahalon ki mohabbat
kai aashiqon ki jaan le chuki hai..
janta hun main magar ye jaan
ab kisi aur ki amanat ho chuki hai..

6)

मेरी आंखों में हमेशा
उसीकी तस्वीर है होती..

मेरी जान की चाहत
हमेशा मेरे साथ है होती..

-Gauri

meri aankhon mein hamesha
usiki tasvir hai hoti..
meri jaan ki chahat
hamesha mere sath hai hoti..

7)

मेरी जान का सौदा ए कातिल
तू मुझसे ना कर..

मेरे महबूब को तू यूं
मुझसे जुदा ना कर..

-Vrushali

meri jaan ka sauda e katil
tu mujhse na kar..
mere mehbub ko tu yun
mujhse juda na kar..

8)

ए बहती हुई हवा जरा धीरे बहना..

चाहती है जान मेरी बाहों में सोना..

-Santosh

ae bahati hui hawa zara dheere bahna..
chahti hai jaan meri bahon mein sona..

9)

जान मेरी कैद है
तेरे दिल के पिंजड़े में..

ए मेरे सनम महफूज़ रख
तू मुझे अपनी बाहों में..

-Vrushali

jaan meri kaid hai
tere dil ke pinjde mein..
ae mere sanam mehfuz rakh
tu mujhe apni bahon mein..

10)

जानता हूं उसके दिल में भी
मेरे लिए प्यार सचमुच है..

सबको बताऊंगा मेरी जान ही
तो मेरे लिए सब कुछ है..

-Gauri

jaanta hun uske dil mein bhi
mere liye pyar sachmuch hai..
sabko bataunga meri jaan hi
to mere liye sab kuchh hai..

11)

जिसकी मुस्कुराहट में
बसती है मेरी जान..

वो सुहानी सी लड़की हैं
मेरी हमसफ़र मेरी जान..

-Vrushali

jiski muskurahat mein
basati hai meri jaan..
vo suhani si ladki hai
meri humsafar meri jaan..

12)

जज्बातों की कहानी
बयां करना चाहता हूं..

मेरी जान मैं तुम्हे दिल की
बात बताना चाहता हूं..

-Kavya

jazbaaton ki kahani
bayan karna chahta hun..
meri jaan main tumhe dil ki
baat batana chahta hun..

13)

क्या बताऊं कि तुम
मेरे लिए क्या हो..

मेरी जान हो तुम,
मेरा पहला प्यार हो..

-Gauri

kya bataun ki tum
mere liye kya ho..
meri jaan ho tum,
mera pehla pyar ho..

14)

उसे प्यार किए बिना अब
मैं एक पल ना रहूंगा..

मेरी जान से अपने दिल की
बात जरूर शेयर करूंगा..

-Santosh

use pyar kiye bina ab
main ek pal na rahunga..
meri jaan se apne dil ki
baat jarur share karunga..

15)

उसकी मोहब्बत बिना अब
ना मेरी कोई बंदगी है यारों..

मेरे जान की वजह से ही
तो मेरी ये जिंदगी है यारों..

-Kavya

uski mohabbat bina ab
na meri koi bandagi hai yaaro..
meri jaan ki vajah se hi
to meri ye jindagi hai yaaro..

16)

मेरी दिलरुबा पर दिन-रात
शायरी लिख सकता हूं..

मेरे जान की खुशी के लिए
मैं कुछ भी कर सकता हूं..

-Gauri

meri dilruba per din-raat
shayari likh sakta hun..
mere jaan ki khushi ke liye
main kuchh bhi kar sakta hun..

17)

तेरा हाथ थाम कर मैं
कयामत तक साथ आऊंगा..

अपनी जान के बदले तेरी
आंखों में चमक छोड़ जाऊंगा..

-Santosh

tera hath tham kar main
qayamat tak sath aaunga..
apni jaan ke badle teri
aankhon mein chamak chhod jaunga..

18)

उसके होने से ही मेरी
ये दुनिया पूरी होती है..

मेरी जान दिल की बातें
बिन कहे समझ लेती है..

-Kavya

uske hone se hi meri
ye duniya puri hoti hai..
meri jaan dil ki baten
bin kahe samajh leti hai..

19)

तू ही मेरी मंजिल महबूबा,
मैं हूं तुम्हारा मुसाफिर..

मेरा दिल, मेरी जान बस
तुम्हारे लिए है हाजिर..

-Gauri

tu hi meri manzil mehbooba,
main hoon tumhara musafir..
mera dil, meri jaan bus
tumhare liye hai haajir..

20)

दिल में हमसफर नजर आता है
तेरे साथ हर पल गुजर जाता है..

मेरी आंखों में, जान हमेशा बस
तुम्हारा ही चेहरा नजर आता है..

-Santosh

dil mein humsafar najar aata hai
tere sath har pal gujar jata hai..
meri aankhon mein, jaan hamesha bus
tumhara hi chehra najar aata hai..

21)

अधूरा छोड़ देती है हमेशा
दिल के अरमान को..

बेसब्री से तड़पाती रहती है
आखिर क्यों मेरी जान को..

-Kavya

adhura chhod deti hai hamesha
dil ke armaan ko..
besabri se tadpati rahti hai
aakhir kyon meri jaan ko..

22)

बेवजह ही कभी-कभी
वो फिदा होती है मुझ पर..

मेरी जान गुस्सा भी करती है
कभी कभी बड़ा मुझ पर..

-Gauri

bewajah hi kabhi kabhi
vo fida hoti hai mujh per..
meri jaan gussa bhi karti hai
kabhi kabhi bada mujh per..

23)

करना चाहता हूं
उस पर जिंदगी कुर्बान..

इतनी नादान और
मासूम है मेरी जान..

-Santosh

karna chahta hun
us per jindagi kurban..
itni nadan aur
masoom hai meri jaan..

24)

इस दिल में ठिकाना
बना लिया है जब से..

मैंने तुम्हें अपनी जान
मान लिया है तब से..

-Kavya

is dil mein thikana
banaa liya hai jab se..
maine tumhe apni jaan
maan liya hai tab se..

25)

चाहता हूं मैं उम्र भर प्यार का
वादा बस मुझसे करोगी..

अब चाहे मुलाकात जब हो,
तुम बस मेरी जान रहोगी..

-Gauri

chahta hun main umra bhar pyar ka
vada bus mujhse karogi..
ab chahe mulakat jab ho,
tum bus meri jaan rahogi..

26)

प्यार का करता हूं ये
वादा मैं ईमान से..

चाहता हूं बस एक तुझे
मैं अपनी जान से..

-Santosh

pyar ka karta hun ye
vada main imaan se..
chahta hun bus ek tujhe
main apni jaan se..

27)

तुम ही मेरी हर ख्वाहिश,
तुम ही हो सुकून..

मेरी जिंदगी हो जानेमन,
अब सिर्फ तुम ही तुम..

-Kavya

tum hi meri har khwahish,
tum hi ho sukun..
meri jindagi ho jaaneman,
ab sirf tum hi tum..

28)

ले जाऊंगा दूर दुनिया की
नजरों से छुपा कर..

रखूंगा सीने में तुम्हें
अपनी जान बनाकर..

-Gauri

le jaunga dur duniya ki
najron se chhupa kar..
rakhunga seene mein tumhen
apni jaan banaa kar..

29)

पल पल उसकी यादें यारों
मुझे तड़पाती रहती है..

मेरी जान के बिना अब
मुझे नींद कहां आती है..

-Santosh

pal pal uski yaden yaaro
mujhe tadpati rahti hai..
meri jaan ke bina ab
mujhe nind kaha aati hai.

30)

वो ही मेरी माशूका, उसी में
महबूबा नजर आती है..

उसे देखे बगैर तो अब
मेरी जान चली जाती है..

-Kavya

vo hi meri mashuqa, usi mein
mehbooba najar aati hai..
use dekhe bagair to ab
meri jaan chali jaati hai..

31)

प्यार करता है सिर्फ तुमसे,
तुम्हें ही चाहता है यह दिल..

तुम्हें ही जान-ए-जिगर
अपनी मानता है यह दिल..

-Gauri

pyar karta hai sirf tumse,
tumhen hi chahta hai yah dil..
tumhen hi jaan-e-jigar
apni manta hai yah dil..

32)

माफ कर देना सनम अगर
कोई गलती हो गई हो हमसे..

अपनी जान से भी ज्यादा
मोहब्बत करते हैं हम तुमसे..

-Kavya

maaf kar dena sanam agar
koi galti ho gai ho humse..
apni jaan se bhi jyada
mohabbat karte hain ham tumse..

YOU MAY LIKE THESE POSTS:

दोस्तों कोई ना कोई इंसान होता ही है जो हमारे बिना खुश नहीं रह पाता. वो हमसे बहुत प्यार करता है. लेकिन जिस दिन वह हमसे बिछड़ कर खुश रहने लगता है उस दिन हम दुखी हो जाते हैं. Shayari for Jaan की मदत से आप समझोगे की, लेकिन उसे कभी अपने पास नहीं बुलाते. क्योंकि हमें पता चल जाता है वह हमारे बिना खुश है. बस उस इंसान की यादें हमारे आंखों से आंसू बनकर बहती रहती है.

अगर आप चाहते है की आपको फेसबुक पर शायरी सुकून अपडेट्स मिले, तो इस शायरी सुकून पेज को लाइक और शेयर जरूर करें.

11 Comments

  1. Aniruddh Narkhedkar May 17, 2021
  2. Shahin anwar May 17, 2021
  3. रीना पुरोहित May 17, 2021
  4. Vrushali May 17, 2021
  5. Aditi Kshirsagar May 17, 2021
  6. Vinita May 17, 2021
  7. Kalyani Shah May 17, 2021
  8. Ashok prajapati May 17, 2021
  9. Manpreet May 17, 2021
  10. Avalokita Pandey May 18, 2021
  11. Rahul January 30, 2022

Add Comment