Best 7+ Collection of Sanam Shayari (सनम शायरी)

Sanam Shayari ko sunkar aapko apne sanam ki yaad jarur aayegi. Hum yakeen ke sath keh sakte hai ke aapko ye Shayariya behad pasand aayegi. Dosto, hum apne lover ko Sanam kehte hai, aur aise me unhe agar aap सनम शायरी website post ki shayariya unke sath share karte ho to unke chehre par smile jaroor aayegi.

Sanam Shayari ko behtreen andaz me pesh kiya hai, jab bhi aapka sanam ruth jaaye to use manane ke liye aapko yeh shayariya kafi helpful saabit hogi. Aapko bas ye post ke niche WhatsApp ka button hai uska upyog karke apne sathi ke sath ye post share karna hai.



Listen to Sanam Shayari by Vanshika Navlani [shayarisukun.com]

Sanam Shayari Urdu

Sanam Shayari Wallpaper (DP)
Sanam Shayari Wallpaper (DP)
तुझे हमसफ़र अपना… बना लिया मैं ने
तेरी चाहत में… ज़माना भुला दिया मैं ने
कभी संवारा था खुद को तेरी आँखों में
फिर ना देखा सनम कभी आईना मैं ने

-Moeen
कहानी मेरी होगी मगर हवाला तेरा होगा
तेरे आने से सनम मेरे घर उजाला होगा
तेरी चाहत पाक मेरा इश्क़ हो फरिश्तों सा
अपना रिश्ता सारे ज़माने से निराला होगा

-Moeen

सनम शायरी इन हिंदी

सनम शायरी इन हिंदी
सनम शायरी इन हिंदी
तेरी साँसों से सनम हसरतें मेरी पिघल जाए
तेरी ज़ुल्फ़ों के साये में… उम्र मेरी ये ढल जाए
शाम ढले जो बैठूँ मैं कभी तेरे पहलू में याराँ
रात के दामन से फिर… आफताब निकल जाए

-Moeen
सनम तुम यूं हमसे
रूठ जाया न करो 

जहर लगते हैं तुम्हारे आंसू
यू जहर पिलाया ना करो

-Vrushali

Sanam Shayari Hindi

Sanam Shayari Hindi
Sanam Shayari Hindi
रूठा है मेरा सनम मुझसे
खुदा मेरी जान को आज़ाद कर

फक़त उसे सीने से लगाना है
मरने से पहले मुझे बेजान ना कर

-Vrushali
सनम यह दिल नाराज नहीं है तुमसे
बल्कि बेबस है तुम्हारी आरजू को लेकर 

दुनिया मेरी बस्ती है जहां वह घर
तुम चाहती हो मैं आऊं उसे छोड़कर

-Vrushali
नामुमकिन लग रहा है यह सफर
सनम तुम दो कदम साथ चल दो 

जानता हूं फर्ज तुम्हारा है कहीं और
बस दिल को मेरे थोड़ा संभलने दो

-Vrushali
मेरे दिल के हालात
छिपे नहीं है तुमसे 

सनम फिर तुम क्यों
इतनी दूर हो हमसे

-Vrushali

Sanam Shayari Wallpaper (DP)

Sanam Shayari DP
Sanam Shayari DP
इश्क का दिया दिल में जला कर
तुम सनम हमें छोड़ कर चले गए 

हमारी नींद, हमारा सुकून और जिंदगी
सब कुछ तुम छीन कर चले गए

-Vrushali
सनम यह किस गुनाह की सजा
तुमने हमें जीते जी मार कर दी 

लफ्जों से हमें अपना गुनाह बता देते
खामोशी से यह चाल क्यों चल दी

-Vrushali

Conclusion

So, friends, agar aapko ye Sanam Shayari collection pasand aaya ho to hume niche comment box me comment karte huye bataye, agar agar aapko aise hi shayariya apne sanam ke sath share karni hai to aap ye Shayari ki Diary wali website post visit kar sakte ho.

Follow us on Facebook: Shayari Sukun


💕 Listen Uninterrupted Shayari 💕
🙏After Small Advertisement🙏



Add Comment