Best 10+ Attaullah Khan Sad Shayari (अत्ताउल्लाह खान शायरी)

Attaullah Khan Sad Shayari: दोस्तों अत्ताउल्लाह खान साहब या अताउल्लाह ख़ान ईसाखेलवी को आज जमाने में कौन नहीं जानता है! 19 अगस्त 1951 को पाकिस्तान में जन्मे इस गायक का शुरुआती सफर बहुत कठिनाइयों भरा रहा था. उनके घर से ही गायकी को लेकर उन्हें कड़ा विरोध था. लेकिन फिर भी अताउल्लाह खान साहब ने अपना रास्ता ना छोड़ते हुए गायकी के लिए अपना घर ही छोड़ दिया. और 50,000 से भी ज्यादा गाने गाकर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कर दिया.

‘इश्क में हम तुम्हें क्या बताएं’, ‘अच्छा सिला दिया तूने मेरे प्यार का’ जैसे गानों ने 1990 के दशक के लोगों के टूटे दिल को मरहम लगाया था. ‘मुझको दफनाकर वो जब वापस जाएंगे’ जैसे गाने आज भी टूटे हुए दिल के आशिकों के लिए अपने बेवफा सनम की याद दिलाने के लिए काफी है. हम भी आज Attaullah Khan Ki Shayari की मदद से आपको उनके जज्बातों की पहचान कराने की कोशिश कर रहे हैं.

Table of Content

  1. Attaullah Khan Ki Shayari – अत्ताउल्लाह खान की शायरी
  2. Attaullah Khan Shayari In Hindi – अत्ताउल्लाह खान शायरी इन हिंदी
  3. Attaullah Khan Shayari Image – अत्ताउल्लाह खान शायरी इमेज
  4. Attaullah Khan Shayari – अत्ताउल्लाह खान शायरी
  5. Attaullah Khan Sad Shayari – अत्ताउल्लाह खान सैड शायरी
  6. Conclusion

Friends if your loved one broke your heart. You might have remember Attaullah Khan Shayari In Hindi. Because when you listen and read Attaullah Khan Sad Shayari. You will come to know the pain as well as relief to your broken heart.


💕 Listen Uninterrupted Shayari 💕
🙏After Small Advertisement🙏




Listen to Attaullah Khan Shayari | Voice-Over: Mannali Raheja


तो चलिए दोस्तों आज की Dard Bhari Dastan को हमारे बेहतरीन वॉइस ओवर आर्टिस्ट की आवाज में सुने. हमें यकीन है कि आपको हमारी आज की अत्ताउल्लाह खान शायरी बहुत पसंद आएगी.

Attaullah Khan Ki Shayari – अत्ताउल्लाह खान की शायरी

Attaullah Khan Shayari Image
Attaullah Khan Shayari Image
1)

रास्ते खुद ही तबाही के निकाले हम ने
कर दिया दिल किसी पत्थर के हवाले हम ने..

हम को मालूम हैं क्या शय हैं मुहब्बत लोगों
अपना घर फूँक के देखे हैं उजाले हम ने..

raste khud hi tabahi ke nikale hum ne
kar diya dil kisi patthar ke hawale humne..
humko maloom hai kya shay hai mohabbat logo
apna ghar phunk ke dekhe hain ujale humne..

2)

देख ले आ के ज़रा चैन से सोने वाले
कैसे रोते हैं तेरी याद में रोने वाले..

नहीं आया मेरी मैय्य त पे कोई भी अपना
मेरे काती ल हैं मेरी ला श पे रोने वाले..

dekh le aa ke jara chain se sone wale
kaise rote hain teri yaad mein rone wale..
nahin aaya meri mai yat pe koi bhi apna
mere ka til hai meri laa sh pe rone wale..

Attaullah Khan Ki Shayari की मदद से अताउल्लाह खान साहब आशिक के दिल का सच्चा दर्द बताना चाहते हैं. और अपने यार के याद में अपने आंसू बहाने वाला आशिक महबूबा को याद कर रहा है. कुछ इस तरह के हालातों को बयां करते हुए वे अपने कलाम हमारे सामने रखते हैं.

Attaullah Khan Shayari In Hindi – अत्ताउल्लाह खान शायरी इन हिंदी

3)

हम से किसी के बख्त का तारा नहीं मिला
बिछड़ा जो एक बार, दोबारा नहीं मिला..

चाहा नहीं किसी को कभी आप की तरह
दुनिया में आप सा कोई प्यारा नहीं मिला..

humse kisi ke bakht ka tara nahin mila
bichhada jo ek bar, dobara nahin mila..
chaha nahin kisi ko kabhi aap ki tarah
duniya mein aap sa koi pyara nahin mila..

4)

दिल के मामलात से अंजान तो ना था
इस घर का फर्द था, कोई मेहमान तो ना था..

थी जिन के दम से रौनकें शहरों में जा बसे
वरना हमारा गाँव इतना वीरान तो ना था..

dil ke mamlaat se anjan to na tha
is ghar ka fard tha, koi mehman to na tha..
thi jinke dam se raunke shahron mein ja base
varna hamara gaon itna veeran to na tha..

Attaullah Khan Shayari In Hindi की मदद से अताउल्लाह खान साहब आशिक के बेचैन दिल का हाल बताना चाहते हैं. और जिस तरह से अपने यार के छोड़ जाने से प्रेमी निराश हो गया है. इसी बात को अपने विचारों से बताना चाहते हैं.

Attaullah Khan Shayari Image – अत्ताउल्लाह खान शायरी इमेज

5)

मेरी फुरकत में तुम तड़पा करोंगे
अकेले बैठ कर रोया करोंगे..

तुम अपनी आँख के अश्कों से अकसर
मेरे घर का पता पूछा करोंगे..

meri furqat mein tum tadpa karoge
akele baith kar roya karoge..
tum apni aankh ke ashko se aksar
mere ghar ka pata poochha karoge..

6)

इस जहाँ में कोई भी उस के सिवा अपना ना था
हाल मेरा पूछने वो बेवफा आया ना था..

सुन कर मेरे प्यार की रूदाद वो भी रो दिया
मैं ने जिस की आँख में आँसू कभी देखा ना था..

is jahan mein koi bhi uske siwa apna na tha
hal mera puchne vah bewafa aaya na tha..
sunkar mere pyar ki rudad vah bhi ro diya
maine jiski aankh mein aansu kabhi dekha na tha..

Attaullah Khan Shayari Image को सुनकर आशिक के सच्चे प्यार की दिल से निकली हुई सदा ही हमें दिखाई देगी. क्योंकि प्रेमी अपने महबूब की आंखों में दिल टूटने के बावजूद भी आंसू नहीं देखना चाहता है.

Attaullah Khan Shayari – अत्ताउल्लाह खान शायरी

7)

जब मिला वो खफा मिला हम को
बख्त क्या चाँद सा मिला हम को..

चंद रंगीन तोहमतों के सिवा
तेरी चाहत से क्या मिला हम को..

jab mila woh khafa mila humko
bakht kya chand sa mila humko..
chand rangin tohamaton ke siva
teri chahat se kya mila humko..

8)

ख़्वाबों में कोई आन कर यादें हज़ार दे गया
मिल कर बिछड़ गया कोई और इंतज़ार दे गया..

आज वो मुझ से दूर हैं, दिल के मगर क़रीब हैं
बन कर वो एक अजनबी सदीयों का प्यार दे गया..

khwabon mein koi aan kar yaadein hazar de gaya
milkar bichhad gaya koi aur intezar de gaya..
aaj vah mujhse dur hai, dil ke magar kareeb hai
bankar vo ek ajnabee sadiyon ka pyar de gaya..

अताउल्लाह ख़ान इनकी शायरी की मदद से आशिक अपने बेवफा महबूब की मोहब्बत को दिल से दुहाई देना चाहता है. और अपने मजबूर दिल का हाल ही जमाने को दिखाना चाहता है.

Attaullah Khan Sad Shayari – अत्ताउल्लाह खान सैड शायरी

Attaullah Khan Sad Shayari
Attaullah Khan Sad Shayari
9)

ले गए वो साथ अपने... ज़िंदगी की रौनकें
अपना ये आलम हैं उन के रूठ कर जाने के बाद..

जैसे देहात के स्टेशनों पर दिन ढले
एक सुकुते बेकराँ गाड़ी गुज़र जाने के बाद..

*देहात : छोटासा गांव
*सुकुते बेकराँ : बेकरार ख़ामोशी

le gaye vo sath apne… zindagi ki raunake
apna yah alam hai unke ruth kar jaane ke bad..
jaise dehat ki stationon per din dhale
ek sukute bekaraan gadi gujar jaane ke bad..

10)

तुम्हारे शहर का मौसम बड़ा सुहाना लगे
मैं एक शाम चुरा लू अगर बुरा ना लगे..

नजाने क्या हैं किसी की उदास आँखों में
वो मुंह छुपा के भी जाए तो बुरा ना लगे..

tumhare shehar ka mausam bada suhana lage
mein ek sham chura lu agar bura na lage..
na jaane kya hai kisi ki udaas aankhon mein
vo munh chhupa ke bhi jaaye to bura na lage..

अताउल्लाह ख़ान इनकी शायरी की मदद से अपने उदास दिल का हाल प्रेमी दिखाना चाहता है. ताकि दुनिया को भी बसा बसाया हुआ गांव कैसे वीरान हो जाता है. इस बात का अंदाजा जरूर आ सकेगा.

YOU MAY LIKE THESE POSTS:

Conclusion

अत्ताउल्लाह खान शायरी को सुनकर आप अपने मोहब्बत की बेवफा सफर को जरूर याद कर पाओगे. क्योंकि अताउल्लाह खान साहब अपनी शायरियों में आशिकों के दिल के जज्बात ही बयां कर देते हैं.

आपके Twitter पर हमारी हसीन शायरी अपडेट्स पाने के लिए हमारे शायरी सुकून केे अकाउन्ट को जरूर Follow करें.

2 Comments

  1. Vinita February 8, 2022
  2. Kalyani Shah February 8, 2022

Add Comment