Sad

Uljhan Shayari: दिल की उलझन शायरी सुनाकर सुलझाना चाहोगे!

uljhan shayari: जब भी आप अपने दिलबर के बारे में सोचते हैं, और उसकी यादों को महसूस करते हैं, तो आपको uljhan shayari कि मदद जरूर लग सकती है. क्योंकि आपके दिल में अपने यार के लिए कई तरह की शायरियां सुनने की ख्वाहिश पैदा हो सकती है.

और आपकी ये ख्वाहिशें हम shayari sukun के इस मंच पर जरूर पूरी कर सकते हैं. यहां पर हम आपको uljhan meaning बताना चाहते हैं. इसका मतलब किसी तरह की कोई बाधा, कठिनाई या फिर समस्या हो सकती है. हमें पता है कि इन शायरियों को लिखते हुए भी हमें कई तरह की समस्याओं का सामना करने की आशंकाएं आ सकती है.


Listen to Uljhan Shayari | Voice-Over: Manpreet Kaur




लेकिन फिर भी zindgi ki uljhan shayari को हमने जिस तरह से दिया है उससे तो शायद uljhan shayari लिखना काफी बेहतर और आसान हो गया है. लेकिन अब आपको चिंता करने की या फिर किसी भी तरह की कोई आशंका है जताने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है.


💕 Listen Uninterrupted Shayari 💕
🙏After Small Advertisement🙏



1)

मुझमें तू खो गई थी 
या मैं तुझ में बसा था..

उलझन ही थी दिल में 
या मेरा कोई नशा था..

mujhme tu kho gayi thi
ya mai tujhme basa tha
uljhan hi thi dil me
ya mera koi nasha tha

क्योंकि हम shayari sukun के इस बेहतरीन और नायाब शायरियों के मंच पर आपके लिए हर तरह की शायरियों का नजराना लाए हैं. यह सुनकर आप अपने दिल को जरूर सुकून दिला सकते हैं.



Shayari on Uljhan | Uljhan Shayari
Shayari on Uljhan | Uljhan Shayari

उलझन शायरी को अपने जज्बातों में जरूर लाना चाहोगे…

आप तो अपने दिलबर से कई तरह की आशा और उम्मीद लगाए बैठे हैं. आपको हमेशा लगता है कि आपका यार ही आपकी सारी समस्याओं को सुलझा कर आप को सुकून दिला सकता है. लेकिन अब तो आपके सामने किसी भी तरह की uljhan suljhe na कुछ ऐसा ही दिखाई दे रहा है.

2)

दिल तोड़ कर मेरा फंसा दिया है 
तुमने उलझन में..

अब तो बस काटनी है 
जिंदगी मुझे अकेले तनहाई में..

dil tod kar mera fansa diya hai
tumne uljhan me..
ab to bas katni hai
jindagi mujhe akele tanhai me

क्योंकि उसने आपके सामने सभी तरह की आशंकाओं को इस शायरी में जैसे बांध लिया है. और इसी वजह से आप जिस रास्ते को हर वक्त अपना समझ कर उस पर चलते रहते हैं. वह रास्ता तो जैसे आपकी किसी भी dhund uljhan suljhe na rasta sujhe na दिखाई देता है.

आपको तो आप हमेशा ऐसे लगता है जैसे कई तरह की बाधाओं ने जैसे आप का रास्ता ही रोक लिया हो. और अब आप जैसे दिन और रात के भी सुलझने का इंतजार कर रहे हो.uljhan shayari से उनकी मुस्कुराहट को ही बयां करना चाहोगे..



3)

दिल्लगी में गर की हो शरारत 
तो बात ये लोग सब जाने..

दिल को बेवफाई की उलझन में 
क्यों डाला यह तो रब जाने..

dillagi me gar ki ho shararat
to baat ye log sab jaane
dil ko bewafai ki uljhan me
kyo dala yeh to rab jaane

आपकी महबूब की एक मुस्कुराहट भी आपके दिल को चुराने के लिए काफी है. जिस तरह से आप को देख कर मुस्कुराते हैं तो आप बस अपना दिल एक ही पल में उनके सामने हार जाते हो. वह आपके सामने आकर जैसे आपको उलझन शायरी की याद ही दिलाते हो.

4)

कश्मकश अजब सी है जिंदगी में 
बेवजह अब तो हमारे..

उलझन में पड़े हैं अब भी 
क्यों ना हो सके हम तुम्हारे..

kashmakash ajab si hai jindgi me
bewajah ab to humare..
uljhan me pade hai ab bhi
kyo na ho sake hum tumhare

या फिर अगर आपको किसी भी तरह से कोई रास्ता ना सुलझे तो आप दिमाग को एकदम शांत रखकर सोच सकते हैं. या फिर अगर आपको अपने दिल को बहलाना है तो आप इन दर्दभरी और sadness से भरी शायरियों को अपने करीबी दोस्त या चहेते को जरूर भेज सकते हो. क्योंकि जब कभी आप अपने यार या फिर अपने चहेते इंसान पर अपना विश्वास रखते हो. आप खुद को ही उनकी यादों में जैसे झोंक देते हो.



Shayari Sukun से अगर आप जुड़े हैं, तो इस उलझन शायरी को जरूर महसूस करेंगे..

आपके दिल को अपने महबूब से ना मिलने पर ही कई तरह की बाधाओं का और समस्याओं का सामना करना पड़ता है. और जब यह सारी बाधाएं और समस्याएं आपके सामने एक साथ आ जाती है. तब आप खुद को और भी अकेला महसूस करते हो. क्योंकि जब आपका यार आपके साथ होता था, तो कितनी भी सारी कठिनाइयां आपके जीवन में आई थी. उन सबका आपने डटकर सामना किया था.

5)

जुल्फें सँवारता मैं उलझी हुई तेरी 
बस इतना तो हक देती..

याद कर रोता है दिल क्यों हमेशा 
मुझ पर तुम शक लेती..?

julfe sanvarta mai uljhi huyi teri
bas itna ho hak deti..
yad kar rota hai dil kyo humesha
mujh par tum shak leti..?

uljhan-shayari-in-hindi-urdu-thoughts-poetry
Uljhan Shayari Image

लेकिन अब तो आपका यह अकेलापन ही आपको उलझन शायरी को सुनने पर और उसे महसूस करने पर मजबूर कर रहा है. और आपको जरूर पता होगा कि यह बात ‘shayari sukun‘ इस नायाब शायरियों के मंच से जुड़े रहने पर तो आपको जरूर महसूस हो सकती है.

6)

उलझन भरी जिंदगी कर देती है 
शरारतें हमारी दूर..

इसी वजह से समझदार इंसान भी 
हो जाता है मजबूर..

uljhan bhari jindgi kar deti hai
shararate humari dur..
isi wajah se samjhdar insan bhi
ho jaata hai majbur



uljhan shayari in hindi urdu thoughts poetry

7)

सुलझने को बेकाबू थे
तेरी बातों से मेरे हर जज़्बात..

खैर अब तो उलझन से
घिरे पड़े है दिन और रात..

suljhane ko bekabu the,
teri baton se mere har jazbaat..
khair ab to uljhan se 
ghire pade hain din aur raat…

best sad Uljhan Shayari collection in hindi urdu

8)

उलझन सी होती है
तेरी एक मुस्कुराहट से..

बताओ सुलझन कैसे होगी
बातों बातों पर रूठने से..?

uljhan si hoti hai,
teri ek muskurahat se..
batao suljhan kaise hogi 
baton baton par ruthne se..?

9)

मुझसे बातें करे बगैर
उलझन का हो रहा अभिशाप..

महफ़िल ए शायरी सुकून से
रूबरू तो नहीं हुए आप..?

mujhse baat kare bagair
uljhan ka ho raha abhishap..
mahfil e shayari sukun se 
rubaru to nahin huye aap..?

meri-uljhan-shayari-quotes-lyrics
Uljhan Shayari Photo
10)

चाहता हूं मैं तुझे भूलना 
लेकिन नहीं भुला पाता हूं..

उलझन ये कोई करें मेरी दूर 
मन ही मन रोए जाता हूं..

chahta hu mai tujhe bhulana
lekin nahi bhula pata hu
uljhan ye koi kare meri dur
man hi man roye jata hu




1)

मोहब्बत के लिए उम्मीद ना रही तेरी..

प्यार में अब उलझने ही बढ़ रही है मेरी..

-Dipti

mohabbat ke liye ummid na rahi teri..
pyar mein ab uljhane hi badh rahi hai meri..

2)

ना चाहते हुए भी तन्हाई का
ये गम हमें सहना पड़ता है..

जिंदगी में बढ़ती उलझनों को
यारों सुलझाना पड़ता है..

-Santosh

na chahte hue bhi tanhai ka
ye gam hamen sahna padta hai..
jindagi mein badhati uljhanon ko
yaaron suljhana padta hai..

3)

सोचता रहता हूं रात दिन तुमसे
बढ़कर मुझे यारा कौन चाहेगा..

मोहब्बत की इन उलझनों को
दिलरुबा भला कौन सुलझाएगा?

-Supriya

sochta rahta hoon raat din tumse
badhkar mujhe yara kaun chahega..
mohabbat ki in uljhanon ko
dilruba bhala kaun suljhayega?

4)

तुम्हारे सच्चे प्यार में महबूबा
मैं खुद का नाम भूल चुका हूं..

मोहब्बत की उलझन में यारा
अब खुद ही उलझ चुका हूं..

-Dipti

tumhare sacche pyar mein mehbooba
main khud ka naam bhul chuka hun..
mohabbat ki uljhan mein yara
ab khud hi ulajh chuka hun..



5)

मेरे इस सच्चे दिल पर भरोसा
तुम्हारे सिवा जानम कौन करें?

दिल की उलझनों का समाधान
तुम्हारे सिवा अब कौन करें?

-Santosh

mere is sacche dil par bharosa
tumhare siva jaanam kaun kare?
dil ki uljhanon ka samadhan
tumhare siva ab kaun karen?

6)

एक बार जानम मोहब्बत का
मतलब तुम समझाओ..

मेरे दिल की ये अजीब सी
उलझन यारा सुलझाओ..

-Supriya

ek baar janam mohabbat ka
matlab tum samjhao..
mere dil ki ye ajeeb si
uljhan yara suljhao..

7)

अपने दिल में कितनी है आज
मोहब्बत दिखा नहीं सकता..

न जाने क्यों तुम्हारे दिल की
उलझन मैं सुलझा नहीं सकता..

-Dipti

apne dil mein kitni hai aaj
mohabbat dikha nahin sakta..
na jaane kyon tumhare dil ki
uljhan main suljha nahin sakta..

8)

मेरी ये जिंदगी मोहब्बत के दीवानेपन से है..

इस दिल को चाहत तुम्हारी उलझन से है..

-Santosh

meri ye jindagi mohabbat ke deewanepan se hai..
is dil ko chahat tumhari uljhan se hai..

9)

एक तुझे याद करते हुए अब
ये मोहब्बत तुम्हारी हो गई है..

न जाने कैसे यह जिंदगी अब
प्यार की उलझन में खो गई है..

-Supriya

ek tujhe yad karte hue ab
ye mohabbat tumhari ho gai hai..
na jaane kaise yah jindagi ab
pyar ki uljhan mein kho gai hai..

10)

दुआओं में हाथ उठाकर
करता हूं इक तेरी बंदगी..

अजीब उलझन में फंस
गई है यारों मेरी जिंदगी..

-Dipti

duaon mein hath utha kar
karta hun ek teri bandagi..
ajeeb uljhan mein fans
gayi hai yaaron meri jindagi..

11)

मेरी चाहत का सफर यारा
तुम्हारे साथ अधूरा रह गया..

एहसासों का ख्वाब जानम
उलझनों में बाकी रह गया..

-Santosh

meri chahat ka safar yaara
tumhare sath adhura rah gaya..
ehsaason ka khwab janam
uljhan mein baki rah gaya..

12)

शायद ही हम खुद की
जिंदगी को सुलझा सकेंगे..

न जाने हम तमन्नाओं में
कब तक उलझे रहेंगे..

-Supriya

shayad hi ham khud ki
jindagi ko suljha sakenge..
na jaane ham tamannaon mein
kab tak uljhe rahenge..

13)

सच्चे होते हैं हमेशा दिल की
बातों का जो जिक्र करते हैं..

कुछ लोग मुस्कुरा कर भी
अब खुद में उलझे होते हैं..

-Dipti

sacche hote hain hamesha dil ki
baton ka jo zikr karte hain..
kuchh log muskura kar bhi
ab khud mein uljhe hote hain..

14)

महबूबा तेरे जिस्म की खुशबू महकती रहेगी..

जिंदगी की सांसे उलझनों तक चलती रहेगी..

-Santosh

mehbooba tere jism ki khushbu mehakti rahegi..
jindagi ki saanse uljhanon tak chalti rahegi..

15)

तू मेरे दिल में तमन्ना की तरह सुलझ गई है..

खुशियों भरी चाहत जिंदगी ये उलझ गई है..

-Supriya

tu mere dil mein tamanna ki tarah sulajh gai hai..
khushiyon bhari chahat jindagi ye ulajh gai hai..

16)

किसी की मोहब्बत को
अपना कह गया हूं मैं..

अब तो खुद की गलती में
यारों उलझ गया हूं मैं..

-Dipti

kisi ki mohabbat ko
apna kah gaya hun main..
ab to khud ki galti mein
yaaron ulajh gaya hun main..

17)

उसकी तस्वीर मेरे दिल के
आईने में यूं बनती गई है..

प्यार के इंतजार में अब तो
उलझनें और बढ़ती गई है..

-Santosh

uski tasvir mere dil ke
aaine mein yun banti gai hai..
pyar ke intezar mein ab to
uljhane aur badhati gai hai..

18)

इक तुम्हारी चाहत को ही
जानम याद कर पाऊंगा..

मोहब्बत में न जाने कैसे
उलझनों को मैं भूलूंगा..

-Supriya

ek tumhari chahat ko hi
janam yad kar paunga..
mohabbat mein na jaane kaise
uljhanon ko main bhoolunga..

19)

तनहाई में खुद के दिल पर
अब ना भरोसा आ रहा है..

उलझन में उलझा हूं बस
यही पछतावा हो रहा है..

-Dipti

tanhai mein khud ke dil per
ab na bharosa aa raha hai..
uljhan mein uljha hun bus
yahi pachtawa ho raha hai..

20)

दीदार की तमन्ना पल पल मेरे
दिल को तड़पा जाती है..

हर वक्त तुम्हारे प्यार की
उलझने मुझे याद आती है..

-Santosh

deedar ki tamanna pal pal mere
dil ko tadpa jaati hai..
har waqt tumhare pyar ki
uljhane mujhe yad aati hai..

21)

किस कदर मेरा दिल उलझनों में है डूबा..

अपनी हकीकत अब क्या बताऊं महबूबा..

-Supriya

kis kadar mera dil uljhanon mein hai dooba..
apni haqeeqat ab kya bataun mehbooba..

22)

तुम जो देखो शरमा कर मुझे,
चाहत की कलियां खिलती है..

तुम्हारे प्यार भरी बात से भी
दिल की उलझन बढ़ती है..!

-Dipti

tum jo dekho sharma kar mujhe,
chahat ki kaliyan khilti hai..
tumhare pyar bhari baat se bhi
dil ki uljhan badhati hai..!

23)

मेरे दिल में हर वक्त मेरी
जानम छुपा रखा है तुझे..

कैसे बताऊं सनम तेरी इन
उलझनों ने बांध रखा है मुझे..

-Santosh

mere dil mein har waqt meri
jaanam chhupa rakha hai tujhe..
kaise bataun sanam teri in
uljhanon ne bandh rakha hai mujhe..

24)

वास्ता नहीं है किसी से मेरा,
कहता है खुदा का नेक बंदा..

इश्क की उलझने आज भी
जानम मेरे दिल में है जिंदा..

-Supriya

wasta nahin hai kisi se mera,
kahta hai khuda ka nek banda..
ishq ki uljhane aaj bhi
janam mere dil mein hai zinda..

25)

तुमसे ही करूंगा मोहब्बत यारा,
एक तुम्हें ही अपना बनाऊंगा..

चाहे हो उलझने कितनी दिल में,
मगर तुमसे रिश्ता निभाऊंगा..

-Dipti

tumse hi karunga mohabbat yara,
ek tumhen hi apna banaunga..
chahe ho uljhane kitni dil mein,
magar tumse rishta nibhaunga..

26)

चाहत भरी है दिल में कितनी,
मन ही मन ये बात कहता हूं..

तुम्हें पसंद हूं या नहीं इसी
उलझन में हमेशा रहता हूं..

-Santosh

chahat bhari hai dil mein kitni,
man hi man ye baat kahta hun..
tumhen pasand hun ya nahin isi
uljhan mein hamesha rahata hun..


YOU MAY LIKE THESE POSTS:

  1. Zindagi Dard Bhari Shayari: 135+ दर्द भरी जिंदगी मशहूर शायरी
  2. Struggle Motivational Quotes in Hindi: 50+ Inspiring Status

दोस्तों अगर हमारी Uljhan Shayari को सुनकर अगर आपके दिल की उलझने भी बढ़ गई हो, तो हमें कमेंट सेक्शन में कमेंट करते हुए जरूर बताइएगा.

शायरी सुकून का Whatsapp चैनल ज्वॉइन करने के लिए ‘START’ यह मैसेज +91 90495 96834 इस वॉट्सएप नंबर पर सेंड कीजिए, आपकी सेवा 24 घंटो के भीतर चालू होगी.

आपके Twitter पर हमारी हसीन शायरी अपडेट्स पाने के लिए हमारे शायरी सुकून केे अकाउन्ट को जरूर Follow करें.

2 Comments

  1. बहुत उमदा शायरीयां!! शानदार पेशकश मनप्रीत जी!!
    टूटे हुए दिल का दर्द बहुत गहराई से जाहीर किया है आपने.. स्क्रिप्ट भी बेहतरीन!!
    शुभेच्छा!
    – कल्याणी

Leave a Reply

Your email address will not be published.