Sad

Umar Qaid Shayari: उम्र कैद पर बेहतरीन शेरो शायरियां

Umar Qaid means a lifetime in prison. Whenever we are in a love relationship with our partner, we feel like we have got caged in her love. If you want to describe your love life in a similar kind of fashion, then read this Umar Qaid Shayari.

Umar Qaid Shayari is the romantic form of Hindi poetry, you can check the collection by scrolling through this complete blog post. So lets start reading उम्र कैद पर बेहतरीन शेरो शायरियां.

मेरी मोहब्बत को भले ही 
रखना तुम उम्र कैद में..

मत तरसाओ जानम अब 
ले लो ना मुझे बाहों में..

-Dipti

meri mohabbat ko bhale hi
rakhna tum umra qaid mein..
mat tarsao janam ab
le lo na mujhe bahon mein..




Listen to Umar Qaid Shayari | Voice-Over: Soumya Navghare


💕 Listen Uninterrupted Shayari 💕
🙏After Small Advertisement🙏




इन दिल तोड़ देने वाली उम्र कैद शायरी को Soumya Navghare इनकी आवाज में सुनकर प्यार में उम्र कैद की सज़ा पाना चाहोगे!


Umar Qaid Shayari in Hindi Urdu
Umar Qaid Shayari in Hindi Urdu
किससे मांगू अब मेरी
गलतियों की रज़ा..

बेवफाई में मिल गई है मुझे
उम्र कैद की सजा…

-Santosh

Kis Se mangu Ab Mere
galtiyon ki Razaa..
Bewafai me Mil Gai Hai Mujhe
Umra qaid ki Sajaa…



एक तुम्हारे साथ ही अपनी 
जिंदगी बिताना चाहता हूं..

 तुम्हारे साथ उम्र कैद की
 सजा भुगतना चाहता हूं..

-Santosh

ek tumhare sath hi apni
jindagi bitana chahta hun..
tumhare sath umra qaid ki
saja bhugatna chahta hun..

Best Umar qaid Quotes: आपके दिल का रिश्ता उसने तोड़ दिया था..

इस कदर दिल तोड़ा उसने
बेवफाई में उम्रकैद हो गए..

अब तो नींद में भी हमें
सपने आना बंद हो गए..

-Santosh

Is Kadar Dil Toda usne
Bewafai mein Umra kaid Ho Gaye..
Ab To Nind mein bhi Hamen
Sapne Aana Band Ho Gaye..

Umar-qaid-Quotes-in-hindi
Umar Qaid Shayari
जानू तेरी एक झलक मुझे दिख जाए..

चाहे अब उम्र कैद ही क्यों ना हो जाए..!

-Supriya

janu teri ek jhalak mujhe dikh jaaye..
chahe ab umra qaid hi kyon na ho jaaye..!

जब भी आंखें खोलता मेरे
सामने हमेशा तू होती..

काश प्यार में मुझे ऐसी
उम्रकैद की सजा होती..

-Santosh

Jab Bhi Aankhen kholta Mere
Samne hamesha tu hoti..
Kash Pyar Mein Mujhe Aisi
Umra qaid ki Saja hoti..



उम्रकैद था अंजाम, गुनाह करते रहे
बेवफा से इश्क बेपनाह करते रहे..

हमें थी खबर.. वो नहीं अपना
इश्क में खुद को तबाह करते रहे..

-Moeen

umar qaid tha anjam, gunah karte rahe
bewafa se ishq bepanah karte rahe..
hamen thi khabar.. woh nahin apna
ishq mein khud ko tabah karte rahe…

सज़ा पाई उम्रकैद.. तेरी चाह में
मुद्दतें गुज़ारी ज़िंदगी के ज़िन्दाँ में..

मौत आए तो रिहाई नसीब हो
कज़ा मांगते हैं.. हर दुआ में..

[*ज़िन्दाँ - जेल]
[*कज़ा - मौत]

-Moeen

saja paayi umra qaid.. teri chaah me
muddaten gujari zindagi ke zindaa mein..
maut aaye to rihai naseeb ho
kajaa mangte hain har dua mein..

मिलेंगे उम्रक़ैदीयों की कतारों में
तुझे ढुंढते हैं अनसुलझे सवालों में..

नींदें अब रूठी हैं.. मुद्दतें गुज़री
सोचते रहते हैं तुझे खयालों में..

-Moeen

milenge umra qaidiyon ki kataaron mein
tujhe dhundhte hain ansuljhe sawalon mein..
nind ab ruthi hai.. muddatein gujari
sochte rahte hain tujhhe khayalon mein…

उम्रकैद हैं मुकद्दर.. हमें यकीन था
कल शब देखा ख्वाब.. बड़ा हसीन था..

मोहब्बत में किया जिस ने बरबाद
मासूम तो था.. मगर ज़हीन था..

[*ज़हीन - intelligent]

-Moeen

umra qaid hi muqaddar.. hamen yakin tha
kal shab dekha khwab.. bada hasin tha..
mohabbat mein kiya jisne barbad
masoom to tha magar jaheen tha..



Sad Umar Qaid Shayari in Urdu

उम्रकैद मेरी सज़ा.. नसीब तन्हाई हैं
इश्क में मिली.. किसे रिहाई हैं..

टुट कर चाहना उसे जुर्म ठहरा
जुर्म था संगीन तो सज़ा पाई हैं…

-Moeen

umra qaid meri saja.. naseeb tanhai hai
ishq mein mili.. kise rihai hai..
tut kar chaha na use jurm thehra
jurm tha sangeen to saja payi hai…

Sad-Umar-qaid-Shayari-in-Urdu
Umar Qaid Shayari in Urdu

1)

एक तुम्हारे दीदार के सिवा और
कोई ना मंजर अब मैं चाहता हूं..

तुम्हारी नजर ए उल्फत में जानम
उमर भर कैद में रहना चाहता हूं..

-Dipti

ek tumhare didar ke siva aur
koi na manzar ab main chahta hun..
tumhari najar e ulfat mein janam
umar bhar qaid mein rahana chahta hun..

2)

प्यार करता हूं तुमसे मुझ पर
जरा सा भरोसा कर लो..

मोहब्बत करने वाले मेरे पागल
दिल को उम्र कैद में रख लो..

-Santosh

pyar karta hun tumse mujh per
jara sa bharosa kar lo..
mohabbat karne wale mere pagal
dil ko umar qaid mein rakh lo..

3)

मोहब्बत से जानम तुम हमसे
एक बार नजरे मिला देना..

कुछ और ना चाहेंगे तुमसे बस
उम्र कैद में अपनी रख लेना..

-Supriya

mohabbat se janam tum humse
ek bar najre mila dena..
kuchh aur na chahenge tumse bus
umar qaid mein apni rakh lena..



4)

मोहब्बत में बिन तुम्हारे
अब मैं जी ना पाऊंगा..

हमेशा तुम्हारी बाहों की
उम्र कैद में रह जाऊंगा..!

-Dipti

mohabbat mein bin tumhare
ab main jee na paunga..
hamesha tumhari bahon ki
umar qaid mein rah jaunga..!

5)

बस आखरी दरख्वास्त
यही है सजदे में तेरी..

या खुदा, उम्र कैद से
कभी रिहाई ना हो मेरी!

-Santosh

bus aakhri darkhwast
yahi hai sajde mein teri..
ya khuda, umar qaid se
kabhi rihaai na ho meri!

6)

प्यार भरी तुम्हारी नजर के लिए
जानम कब से है तरस गई..

पहली बार है देखा जबसे मेरी
आंखें उम्र कैद में फंस गई..

-Supriya

pyar bhari tumhari najar ke liye
janam kab se hai taras gai..
pehli baar hai dekha jabse meri
aankhen umar qaid mein fans gai..

7)

इश्क का ख्वाब हर रात
मैं तुम्हारे साथ देखना चाहूंगा..

उम्र कैद में अब तुम्हारी ही
जिंदगी भर मैं रह जाऊंगा..

-Dipti

ishq ka khwab har raat
main tumhare sath dekhna chahunga..
umar qaid mein ab tumhari hi
jindagi bhar main rah jaunga..



8)

प्यार का वादा आज भी करना चाहूं तुझे..

अब तो उम्र भर कैद की तलाश है मुझे..

-Santosh

pyar ka wada aaj bhi karna chahun tujhe..
ab to umar bhar qaid ki talash hai mujhe..

9)

आंखों से ही जानम तुम्हें
अपनी बाहों में भर जाए..

उम्र कैद में रख लो अपनी,
जो हम गुनाह कर जाए..

-Supriya

aankhon se hi jaanam tumhe
apni bahon mein bhar jaaye..
umar qaid mein rakh lo apni,
jo ham gunah kar jaaye..

10)

मोहब्बत में बांध लो ऐसे की
हो जाए अमर प्यार ये हमारा..

उम्र भर कैदी बन कर जीना
चाहता हूं जानम मैं तुम्हारा..

-Dipti

mohabbat mein bandh lo aise ki
ho jaye amar pyar ye hamara..
umar bhar qaidi bankar jina
chahta hun janam main tumhara..

11)

मासूम से मेरे इस दिल को अपने
प्यार के शिकंजे में फंसा दिया..

जानम तुम्हारी जुल्फों ने मुझे
जैसे उम्र भर का कैदी बना लिया!

-Santosh

masoom se mere is dil ko apne
pyar ke shikanje mein fansa diya..
janam tumhari julfon ne mujhe
jaise umar bhar ka qaidi banaa liya!



12)

बताओ यारा कैसे अब
तनहाई में हम जी पाएंगे..

जो तुम्हारे दिल में ना
हम उम्र कैद हो जाएंगे..

-Supriya

batao yara kaise ab
tanhai mein ham ji payenge..
jo tumhare dil mein na
ham umar qaid ho jayenge..

13)

चाहे तुम बना लो कैदी, मैं बस
तुम्हारा ही रहना चाहता हूं..

अब तो तुम्हारे साथ ही महबूबा,
उम्र भर सजा काटना चाहता हूं!

-Dipti

chahe tum banaa lo qaidi, main bus
tumhara hi rahana chahta hun..
ab to tumhare sath hi mebooba,
umar bhar saja kaatna chahta hun!

14)

उसने अपनी उम्र कैद में
जरूर कर लिया होता..

काश प्यार में हमने कोई
गुनाह कर लिया होता..!

-Santosh

usne apni umar qaid mein
jarur kar liya hota..
kash pyar mein humne koi
gunah kar liya hota..!

15)

मोहब्बत में तुम्हारी जानम
यूं ही सजा काटता रहूंगा..

उम्र कैद से जिंदगी भर अब
कोई जमानत नहीं चाहूंगा..

-Supriya

mohabbat mein tumhari janam
yun hi saja katata rahunga..
umar qaid se jindagi bhar ab
koi jamanat nahin chahunga..

16)

अब तो प्यार में उम्र कैद
मुझे तुम जरूर करवा लो..

दिल की कालकोठरी में
चाहे तो हमें बंद करवा लो..

-Dipti

ab to pyar mein umar qaid
mujhe tum jarur karva lo..
dil ki kalkothari mein
chahe to hamen band karva lo..

17)

तुम ही चाहत हो, एक तुम्हें ही
अपना बनाना चाहता है..

मेरे दिल का परिंदा उम्र कैदी
बनकर रहना चाहता है..

-Santosh

tum hi chahat ho, ek tumhen hi
apna banana chahta hai..
mere dil ka parinda umar qaidi
bankar rahana chahta hai..

18)

तुम्हारे आगोश के सिवा
जिंदगी जैसे अधूरी हो..

मुझ जैसे उम्र कैदी की
सजा कभी पूरी ना हो..

-Supriya

tumhare aagosh ke siva
jindagi jaise adhuri ho..
mujh jaise umar qaid ki
saja kabhi puri na ho..

19)

सजा देना तुम मगर प्यार का
रिश्ता जरूर कायम कर देना..

तुम्हारे ख्वाबों में भी जानम
अब मुझे उम्र कैद कर लेना..

-Dipti

saja dena tum magar pyar ka
rishta jarur kayam kar dena..
tumhare khwabon mein bhi janam
ab mujhe umar qaid kar lena..

20)

इश्क में तुम्हारे उम्र कैदी
बन कर ही मैं जीना चाहता..

तुमसे बिछड़ कर एक पल भी
अब मैं रहना नहीं चाहता..

-Santosh

ishq mein tumhare umar qaidi
bankar hi main jina chahta..
tumse bichad kar ek pal bhi
ab main rahana nahin chahta..

21)

चाहता हूं तुम्हारे दीदार से
मोहब्बत मेरी संवर जाए..

तुम्हारी चाहत की उम्र कैद में
अब सारी जिंदगी बीत जाए..

-Supriya

chahta hun tumhare didar se
mohabbat meri sawar jaaye..
tumhari chahat ki umar qaid mein
ab sari jindagi beet jaaye..

22)

इश्क में जानम तुम्हारा
उम्र भर कैदी कर ही लो..

दिल के कैद खाने में यारा
अब मुझे बंद कर ही लो..

-Dipti

ishq mein janam tumhara
umar bhar qaidi kar hi lo..
dil ke qaid khane mein yara
ab mujhe band kar hi lo..

23)

उम्र कैदी बन कर इन
आंखों में रह जाऊंगा मैं..

तुम्हारे बिना अब आजाद
जी कर क्या करूंगा मैं..

-Santosh

umar qaidi bankar in
aankhon mein reh jaunga main..
tumhare bina ab azad
ji kar kya karunga main..

24)

मोहब्बत का नशा जरा सा
पिला देना अब तुम मुझे..

आंखों की जेल में उम्र कैद
चाहे कर लेना तुम मुझे..

-Supriya

mohabbat ka nasha jara sa
pila dena ab tum mujhe..
aankhon ki jail mein umar qaid
chahe kar lena tum mujhe..

25)

इक तुम मिल जाओ सनम तो
कोई तमन्ना अधूरी नहीं होगी..

अब तो चाहत में उम्र कैद के
सिवा सजा पूरी नहीं होगी..

-Dipti

ek tum mil jao sanam to
koi tamanna adhuri nahin hogi..
ab to chahat mein umar qaid ke
siva saja puri nahin hogi..

26)

जो तुमने छोड़ दिया तन्हा तो
घुट घुट कर मरता रहूंगा..

मगर तुम्हारी सांसों में प्यार का
कैदी बनकर जीता रहूंगा...

-Santosh

jo tumne chhod diya tanha to
ghut ghut kar marta rahunga..
magar tumhari saanson mein pyar ka
qaidi bankar jeeta rahunga..

YOU MAY LIKE THESE POSTS:

हमारी इन दर्द को बयां करने वाली Umar qaid Shayari को सुनकर अगर आपको अपने जिंदगी के गम याद आ गए हो. तो हमें Comment Section में इसे बताना ना भूले.



अगर आप चाहते है की आपको फेसबुक पर शायरी सुकून अपडेट्स मिले, तो इस शायरी सुकून पेज को लाइक और शेयर जरूर करें.

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.