Radha Krishna Shayari In Hindi -4: Pyar Ki Dastan of Lord

Radha Krishna Shayari In Hindi : दोस्तों राधा कृष्णा के प्यार की दास्तान सारी दुनिया में प्रसिद्ध है. और लोग राधा और कृष्ण के प्रेम को इसलिए भी मानते हैं. उनका प्रेम सच्चे ह्रदय से किए गए प्रेम की कहानियों में से एक है.

हमें भी उनके इस प्रेम भाव से यही सीख लेनी चाहिए कि एक दूसरे से सह्रदय रहे. कभी भी किसी के प्रति हमारे मन में द्वेष भाव बिल्कुल भी ना आए. ताकि दुनिया से हम सिर्फ प्यार ही ले सके. और खुद भी अपने मन का प्यार ही बांट सके. यूं तो लोग अपने दिलबर से Pyar Ki Dastan मोहब्बत जरूर करते होंगे.

लेकिन ऐसे बहुत कम उदाहरण है. जिनमें सच्चे ह्रदय से की गई मोहब्बत का जिक्र है. क्योंकि कई बार हम सच्ची मोहब्बत को समझ ही नहीं पाते हैं. अगर आप किसी इंसान की अच्छे और बुरे दोनों गुणों के सहित उसे स्वीकार कर लेते हो. और उसके जिंदगी को ही अपनी जिंदगी मान लेते हो. तभी वह सच्ची मोहब्बत की कहानी हो सकती है. और आज की Radha Krishna Shayari In Hindi यही बताने की कोशिश है.

Table of Content

  1. Radha Krishna Shayari In Hindi
  2. Radha Krishna Shayari In English
  3. Radha Krishna Shayari Image
  4. Radha Krishna Shayari Facebook
  5. Conclusion

Radha Krishna Shayari

1)

जिसने उंगली पर गोवर्धन को उठाया
उसकी उगलियों ने मधुर धुन को बजाया..

राधा के साथ करता हैं रासलीला
उस मुरलीधर ने हमें प्रेम का पाठ पढ़ाया..

-Vrushali

jisne ungli par govardhan ko uthaya
uski ungaliyon ne madhur dhun ko bajaya..

radha ke sath karta hai raasleela
use muralidhar ne hamen prem ka paath padhaayaa..

दोस्तों सभी जानते हैं कि कृष्णा बचपन में बहुत शरारती थे. लेकिन वे उतने ही समझदार हो और लोगों की मदद करने वाले भी थे. इसी वजह से जब पूरे गोकुल वासियों पर बड़ी बारिश का महा संकट आया था.

तब उन्होंने ही उन सभी गोकुल वासियों को बचाया था. कहा जाता है कि उन्होंने अपनी सिर्फ एक उंगली पर पूरे गोवर्धन पर्वत को उठा लिया था. और अपनी शक्ति के प्रदर्शन से सभी लोगों की जान बचाई थी. हमें भी अपने जीवन में दूसरों की मदद करने का सबक उनसे लेना चाहिए.

2)

राधा के मन को चाह है
सांवले कृष्ण कन्हैया की..

चरणों में रखें मस्तिष्क अपना
कृष्ण ने तो उसे दिल में जगह दी..

-Vrushali

radha ke man ko chah hai
sanvale krishna kanhaiya ki..

charanon mein rakhe mastishk apna
krishna ne to use dil mein jagah di..

Radha Krishna Shayari में जैसे राधा अपने सबसे प्रिय कृष्ण से प्यार करती थी. उसके मन में सिर्फ कृष्ण का ही वास था. वह हर वक्त ध्यान भी करती थी तो सिर्फ कृष्ण का ही करती थी. और उसी के चरणों में अपने सर को हमेशा झुकाना चाहती थी.

उसके मन में हमेशा ही कृष्ण के बारे में ही चाहत थी. उसे पता था कि सभी गोपियां भी कृष्ण पर जान छिड़कती है. लेकिन फिर भी उसे अपने कृष्ण पर बहुत ज्यादा भरोसा था. और इसी भरोसे की वजह से कृष्ण ने भी राधा को अपने मन में बसा लिया था.

Radha Krishna Shayari In Hindi
Radha Krishna Shayari In Hindi

Radha Krishna Shayari In Hindi

3)

जमुना किनारे कृष्ण कन्हैया
सूरीली मधुर बजाए बांसुरिया..

दौड़ी चली आई राधिका
व्याकुल हो उठीं सारी सखियां..

-Vrushali

jamuna kinare krishna kanhaiya
surili madhur bajaye basuriya..

daudi chali aayi radhika
vyakul ho uthi sari sakhiya..

अपनी बांसुरी के साथ जब भी कृष्ण कन्हैया यमुना किनारे जाते थे. और वहां पर गाय चराते थे. तब वे अपनी मुरली बजा कर सभी के मन को आकर्षित कर लेते थे. और यही उनका सबसे पसंदीदा काम था. लेकिन वे जब भी अपनी मुरली से मधुर स्वर निकालते थे.

तब सभी लोग भी अपने काम छोड़ कर उनकी मुरली सुनने में ही तल्लीन हो जाते थे. और कुछ ऐसा ही असर राधा और उसकी सारी सखी सहेलियों पर भी होता था. मुरली की मधुर स्वर सुनकर उनका भी मन कृष्ण की ओर दौड़ लेता था.

4)

ग्वाल–बाल के संग कान्हा
मधुर माखन मिश्री खाए..

वृंदावन में रास रचा कर
गोपियों के मन को भाए..

-Vrushali

gwal-bal ke sang kanha
madhur makhan mishri khaye..

vrindavan mein raas rachakar
gopiyon ke man ko bhaye..

Radha Krishna Shayari In Hindi में कृष्ण को यमुना किनारे अपनी गाय चराते हुए बांसुरी बजाने में बहुत आनंद आता था. और साथ ही वह अपने सभी दोस्तों के साथ बाजार जाती हुई माखन एवं दूध बेचने वाली गोपियों को भी सताते थे. उन्हें इसमें भी बहुत ज्यादा आनंद आता था.

और साथ ही वे उनके रास्ते खड़े होकर माखन और दूध चुराते थे. और उन्हें अपने दोस्तों के साथ पी जाते थे. साथ ही कई गोपियों के संघवी रास भी रचाते थे. और जब यह सारी ग्वाल की बेटियां यशोदा मैया से उनकी शिकायत करने जाती थी. तो वे घर में कहीं छुप जाते थे.

Radha Krishna Shayari In English

5)

मधुबन में मुरली बजा कर
गोपियों को कान्हा नचाए..

हर युग में हर जनम में
बस राधा ही कृष्ण को भाए..

-Vrushali

madhuban mein murli baja kar
gopiyon ko kanha nachaye..

har yug mein har janm mein
bus radha hi krishna ko bhaye..

अपने गोकुल और मथुरा के सारे नगर वासियों को तो कृष्ण प्रिय ही थे. लेकिन साथ ही उन्होंने बरसाने में रहने वाली राधा का भी दिल चुराया था. और वे सारी गोपियों के साथ भी अपनी रास रचाते थे. उनके सिर पर रखे हुए माखन की डेरों को फ़ोड़कर उसमें माखन चुरा कर खाते थे.

वे जब भी अपने दोस्तों के साथ बांसुरी बजा कर उनके साथ नाचते थे. तब सारी गोकुल नगरी ही उनके संग होती थी. और इसी वजह से वह राधा के लिए सबसे प्रिय थे. और उसके दिल में भी बस कृष्ण के सिवा और कोई नहीं था.

6)

हर किसी की शाम सुहानी नहीं होती
हर चाहत की कोई कहानी नहीं होती..

असर होता है शायद आत्मा के मिलन का
यूं ही गोरी राधा सांवले कृष्ण की दीवानी नहीं होती..

har kisi ki sham suhani nahin hoti
har chahat ki koi kahani nahin hoti..

asar hota hai shayad aatma ke milan ka
yun hi gori radha sawle krishna ki deewani nahin hoti..

Radha Krishna Shayari In English में हर कोई अपने चहेते इंसान से तहे दिल से तू प्यार करता है. लेकिन हर किसी के नसीब में अपने यार की मोहब्बत हो. यह मुनासिब नहीं होता है. और इसी वजह से हर किसी के प्यार की कहानी ही जैसी नहीं होती है.

और साथ ही हमें बात को भी हमेशा याद रखना चाहिए कि हर कोई राधा के जैसा ही पवित्र प्रेम करे यह भी मुमकिन नहीं है. लेकिन हर किसी के प्यार का संबंध उसकी आत्मा से जरुर होता है. इसी वजह से शायद गोरी राधा को सावले कान्हा से सच्चा प्यार हुआ है.

Radha Krishna Shayari Image

7)

सांवरे, अब मोहब्बत को तेरी
अंजाम देने की मैंने की तैयारी है..

कल तक थी मीरा दीवानी
लेकिन अब मेरी बारी है..

sanware, ab mohabbat ko teri
anjaam dene ki mane ki taiyari hai..

kal tak thi meera deewani
lekin ab meri bari hai..

सिर्फ अकेली राधा ही कान्हा के प्यार में दीवानी है ऐसा नहीं है. कुछ ऐसी ही प्यार की पूजारन और कान्हा की चाहने वाली उससे दरख्वास्त करती है. और अपने प्यार का पैगाम कन्हैया को देना चाहती है. भले ही है राधा का सच्चा प्रेम कन्हैया को पसंद होगा.

और मीरा भी पूरी तरह से कान्हा की दीवानी होगी. लेकिन अब उनके बाद इस प्रेम पूजारन की ही बारी है. वह भी अपने कान्हा को Pyar Ki Dastan की मदद से सच्चे दिल से याद करती है. और अपने जिंदगी में है हमेशा बस कान्हा की पूजा करती है.

8)

रूठते हुए राधा बोली
कन्हैया, वृंदावन की हर गोपी अब तुम्हारी हो ली..

हंसते हुए कान्हा बोले
नहीं है तुमको पता, तुम सब से हो निराली..

ruthte hue radha boli
kanhaiya vrindavan ki har gopi ab tumhari ho li..

hanste hue kanha bole
nahin hai tumko pata, tum sabse ho nirali..

Radha Krishna Shayari Image में राधा को कन्हैया से तहे दिल से प्यार तो होता है. और कान्हा भी हमेशा बस राधा राधा का ही नाम लेता रहता है. लेकिन फिर भी राधा के मन में कान्हा के लिए सवाल होते हैं. वह उससे हमेशा पूछना चाहती है कि आखिर उसके दिल में किसके लिए स्थान है?

क्योंकि अब सारी गोपीकाएं बस कान्हा के लिए ही तो अपना दिल देती है. लेकिन इस पर कान्हा भी हंसकर राधा को जवाब देता है. वह उसे कहता है कि जो बात राधा में होती है. वह बात किसी और गोपीका में बिल्कुल भी नहीं है.

Radha Krishna Shayari Facebook

9)

कर लो सुमिरन कृष्ण प्रिया महारानी का
भरोसा कहां इस जिंदगानी का..

कड़वे होते हैं झूठे बोल दुनिया के
मीठा होता है एक नाम राधा रानी का..

kar lo sumiran krishna priya maharani ka
bharosa kahan is jindgani ka..

kadve hote hain jhuthe bol duniya ke
meetha hota hai ek naam radha rani ka..

जिस तरह से राधा हमेशा कन्हैया का गुणगान करती रहती है. और हमेशा उसके लिए ही जीती है. सिर्फ एक कन्हैया की ही पूजा करते हुए वह उसका सुमिरन करती है. कुछ उसी प्रकार से हमें भी अपने जिंदगी में सिर्फ राधा कृष्ण का ही गुणगान करना चाहिए.

क्योंकि राधा नाम लेने से ही हमारे जीवन के सारे दुख हर जाते हैं. और हम अपने जीवन में जो चाहते हैं उसकी हमें प्राप्ति हो जाती है. इसलिए हमें अपने जीवन में हमेशा ही राधा के मीठे नाम का सुमिरन करते रहना चाहिए.

10)

चाहे लाख दौड़ो, फिर भी नहीं
मिटती दुनिया की तृष्णा है..

सच्ची श्रद्धा और प्रेम से मिल जाए
वो बस राधा का कृष्णा है..

chahe lakh daudo, fir bhi nahin
mitati duniya ki trishna hai..

sacchi shradha aur prem se mil jaaye
vah bas radha ka krishna hai..

Radha Krishna Shayari Facebook हम अपने जीवन में जिस चीज को भी चाहते हैं. अक्सर हमें वह जल्द से मिल नहीं पाती है. और इसी वजह से हमारे मन में उस चीज के प्रति तृष्णा बढ़ती जाती है. तृष्णा यानी कि किसी भी चीज के लिए हमारे मन की भूख होती है. लेकिन हमें हर प्रकार की तृष्णा पर नियंत्रण रखना चाहिए.

क्योंकि जीवन में तृष्णा का कभी भी अंत नहीं होता है. लेकिन बांसुरी वाले कृष्ण ही ऐसे हैं जिनका सिर्फ नाम लेते ही भी हमें प्राप्त हो जाते हैं. इसी वजह से हमें तृष्णा को छोड़कर कृष्ण का सुमिरन करना चाहिए.

Conclusion

दोस्तों हर कोई अपने चहेते इंसान से तहे दिल से प्यार करता है. लेकिन राधा कृष्ण के प्यार की जैसी बात हर किसी के प्यार में शायद ही होती है. जिस तरह से उन्होंने एक दूसरे की Pyar Ki Dastan समझ ली थी. इसी वजह से अगर किसी से प्यार करना हो तो उसके मन से, उसके स्वभाव से ही करना चाहिए.

Radha Krishna पर लिखी गयी हमारी ये पोस्ट भी आपको अच्छी लगेगी

हमारी इन Radha Krishna Shayari In Hindi -4 को सुनकर अगर आप भी अपने चहेते इंसान के प्यार को याद कर सको. तो हमें comment field में comment करते हुए जरूर बताईये.

इसी तरह से आप हमारे Telegram channel को भी join कर सकते हैं, ताकि आपको रोज नायाब शायरियां मिल सकें. इसके लिए अपने Telegram में सर्च करें शायरी सुकून या @shayarisukun और हमारे चैनल को तुरंत join करें. 24 घंटो के भीतर आपकी सेवा चालू होगी.

आपके Twitter पर हमारी हसीन शायरी अपडेट्स पाने के लिए हमारे शायरी सुकून केे अकाउन्ट को जरूर Follow करें.

Leave a Comment