Nafrat Shayari DP -3: Top 10 Hate Thoughts in Hindi

Nafrat Shayari DP : जब किसी के दिल में किसी के प्रति नफरत होती है. तो वह उस नफरत को हमेशा जताने की कोशिश करता है. लेकिन इस कोशिश में वह अपने ही दिल को बहुत ज्यादा तकलीफ देता रहता है.

यह बात उस इंसान को तब तक पता नहीं चलती है. जब तक वह अपनी सारी भूली बिसरी यादों को उसके सामने रख नहीं देता. लेकिन किसी पर गुस्सा करना या उससे नफरत करना इतना भी आसान नहीं होता है. कई बार तो ऐसी नफरते बस छोटी सी गलतफहमी की वजह से भी बढ़ जाती है.

✤ शायरी सुनने के लिए ✤
♫ Player लोड होने दें ♫


इन दर्द भरी शायरीओं को Vrushali Suvarna Dnyandev इनकी आवाज में सुनकर नफरत से दिल के जज्बात ऊभर आएंगे!

लेकिन प्यार में ऐसी नफरतें बहुत बड़ा रूप ले लेती है. कभी-कभी तो सच्चे प्रेमी को अपने प्यार में धोखा भी मिल जाता है. कुछ यही बात आज की Nafrat Shayari DP में आपको नजर आएगी. ताकि आपको भी इस तरह की Best Hate Thoughts का अंदाजा आ सके.

Table of Content

  1. Nafrat Shayari
  2. Nafrat Shayari In Hindi
  3. Nafrat Shayari In English
  4. Nafrat Shayari For Boyfriend
  5. Nafrat Shayari DP
  6. Conclusion

Nafrat Shayari

1)


नींद मेरी चौखट पर सर पटख कर रोई होगी
बेवफा आशीयाने में अपने चैन से सोई होगी..

मेरी मैय्यत पर रो पड़े नफरत करने वाले भी
शायद कोई कीमती शय उन से खोई होगी..

-Moeen

nind meri chokhat per sar pathak kar royi hogi
bewafa aashiyane mein apne chain se soi hogi..

meri maiyat per ro pade nafrat karne wale bhi
shayad koi kimati shay unse khoi hogi..

अपने नसीब को कोसता हुआ आशिक जब भी दुखी होता है. तब उसे अपने प्यार से नफरत करने वाली महबूबा याद आती है. और उसका वह गुस्से से भरा चेहरा ही उसको हर तरफ दिखाई देता है. उसने जिस तरह से आशिक के प्यार को ठुकराया था.

वह सारी बातें आशिक कभी भी भूल नहीं सकता है. क्योंकि उसे लगता है कि जब भी उसका प्यार महबूबा के लिए तरसता था. तब वह उस आशिक कि दिल पर जरा भी भरोसा करने के लिए राजी नहीं थी. लेकिन प्यार में जब भी नफरत का जिक्र हुआ है. आशिक खुद उससे कई बार माफी मांग चुका है.

Nafrat Shayari In Hindi
Nafrat Shayari In Hindi
2)

तेरी यादें पौ फटे तक हमें जगाती रही
उस हरजाई की बेरुखी हमें तड़पाती रही..

पिये हैं जाम नफरतों के तेरी निगाह से
किसी और से करीबी तेरी उम्र भर जलाती रही..


-Moeen

teri yaden paon phate tak hamen jagati rahi
use harjayee ki berukhi hamen tadpati rahi

piye hain jaam nafrato ke teri nigahon se
kisi aur se karibi teri umra bhar jalati rahi..

Nafrat Shayari को पढ़कर अपने दिल पर की बेरुखी आपको नजर आएगी. जिस तरह से यार अपने बेवफा महबूब को याद करता है. उसे उसकी बेवफाई की किसी भी बात का यकीन नहीं आता है. इसी वजह से वह अपने महबूब को प्यार भरी नजरों से देखना चाहता है.

लेकिन जब वह उसके मोहब्बत का जवाब नफरत से देना चाहती है. तब जैसे उसकी चाहत का सपना टूट जाता है. उसकी आंखों में जैसे समंदर का तूफान नजर आता है. जिस तरह से वह अपनी महबूब की यादों में बसना चाहता था. उसे अपनी महबूब की नफरतों का ठिकाना मिल चुका है.

Nafrat Shayari In Hindi

3)

किसी से नफरत तो
बेवफाई कहीं और है..

जैसे यह कलयुग नहीं
मतलबी युग का दौर है..

kisi se nafrat to
bewafai kahin aur hai..

jaise yah kalyug nahin
matlabi yug ka do rahe daur hai..

हर किसी के जीवन में प्यार की बात हो. यह मुमकिन नहीं होता है. ऐसे कई सारे आशिक होते हैं. जो अपने दिलबर से तहे दिल से सच्चा प्यार तो करते हैं. लेकिन उन्हें बदले में अपने महबूब से सिर्फ और सिर्फ नफरत और तन्हाई ही मिल पाती है. और ऐसी गलतियां अब आशिक बार-बार नहीं करना चाहता है.

कुछ इसी कारणवश अब उसे इस बदले हुए से जमाने में मतलबी होने की आशंका लग रही है. और इसी वजह से वह अपने दिल को शायरी की मदद से समझाना चाहता है. ताकि वह जिस तरह से सच्चे प्यार का जिक्र करना चाहता है. उसे दिलबर से उतना सच्चा प्यार नहीं मिल पाता है.

4)

मन में वो शायद नफरत की
कोई एक चाल सोच रहे हैं..

जख्मों पर रखकर हाथ
वो मुझसे हाल पूछ रहे हैं..

man mein vah shayad nafrat ki
koi chaal soch rahe hain

zakhmo par rakh kar hath vo
mujhse hal poochh rahe hain..

Nafrat Shayari In Hindi की मदद से अपने दिलबर की नफरत का मंजर याद करना चाहोगे. ताकि कोई भी आशिक अपने प्यार की बात को अपने दिल में ही छुपाए ना रखे. उसे अपने होठों पर लाकर जमाने के सामने कह सके. लेकिन महबूब की दिल में ऐसी चाहत जगाना उसके लिए अब उनके नहीं है.

क्योंकि जिस तरह की नफरत अब वह अपने दिलबर की नजरों में देख रहा है. उसे अब जरा भी यकीन नहीं हो रहा है. ताकि उसका दिलबर पहले जैसे ही अब उससे प्यार कर पाएगा. लेकिन यकीनन वह अपने दिल में यार के लिए सच्चा प्यार ही पाएगा.

Nafrat Shayari In English

5)

भरोसा चाहत का दिलाने में
शायद जिंदगी बीत जाती है..

लेकिन प्यार में नफरत तो
चंद पलों में नजर आती है..

bharosa chahat ka dilane mein
shayad jindagi beet jaati hai..

lekin pyar mein nafrat to
chand palon mein najar aati hai..

आशिक अपनी प्यार की हर एक बात से अब सबक लेना चाहता है. वह अब जान चुका है कि जमाना हर किसी की बात पर भरोसा नहीं करता है. और जब भरोसा करना भी हो. तो उसके लिए दुनिया को बहुत ज्यादा समय लगता है.

क्योंकि अच्छी बातों को बहुत सारी कठिनाइयों से गुजर कर जाना होता है. लेकिन अगर वही बात नफरत की हो. या फिर किसी के गुस्से की हो. तो दुनिया इस बात पर तुरंत ही यकीन कर लेती है. फिर चाहे वह बात झूठी ही क्यों ना हो.

6)

सवाल ना किसी नफरत का है
और ना ही मोहब्बत का है..

जी ना सके जिंदगी तहे दिल से
अफसोस बस इसी बात का है..

sawal na kisi nafrat ka hai
aur na hi mohabbat ka hai

ji na sake jindagi tahe dil se
afsos bus isi baat ka hai…

Nafrat Shayari In English को पढ़कर अपने महबूब से सवाल करना चाहोगे. क्योंकि आशिक का प्यार तो अब महबूब के लिए जैसे नजरअंदाज करने जैसा हो चुका है. और इसी वजह से शायद आशिक की दिल में अब उसके लिए कई सारे सवाल पैदा हो रहे हैं.

वह अपनी जिंदगी को अपने यार के ही नाम कर चुका था. लेकिन वह तो उससे किसी भी तरह से बात नहीं करना चाहता है. ना ही वह अपने दिलबर से कोई प्यार की बात करना चाहता है. उसके मन में बस नफरत ही नफरत भर चुकी है.

Nafrat Shayari For Boyfriend

7)

आसमानों में गुम हो जाऊंगा बादल जैसे
याद करोगे मेरे बाद मुझे पागल जैसे..

अगर करते हो नफरत तहे दिल से तो
क्यों सजाते हो नैनों में मुझे काजल जैसे..?

aasmanon mein gum ho jaunga badal jaise
yad karoge mere bad mujhe pagal jaise..

agar karte ho nafrat tahe dil se to
kyon sajate ho naino mein mujhe kajal jaise..?

आशिक खुद को प्यार की यादों से रिहा करना चाहता है. और इसी वजह से वह आसमान में अपने महबूब का इंतजार करना चाहता है. जिस तरह से बादल भी बरसात को साथ लेकर घूमता है. उसी तरह से आशिक का दिल अपनी महबूबा के लिए धड़कता है. और उसे साथ लेकर अपनी बाहों में घूमने के लिए तड़पता है.

लेकिन अब दिलबर को ही आशिक से कोई प्यार नहीं रहा है. वह तो अब नफरत के सिवा आशिक को और कुछ भी देना नहीं चाहता है. लेकिन फिर भी आशिक का दिल अपने दिलबर को पूछना चाहता है. आखिर वह उसे अपनी आंखों का काजल बना कर अब तक क्यों रखे हुए हैं?

8)

पहचान करानी है अकड़ भरे
किरदार की तुझसे..

मोहब्बत ना हो तो नफरत भी ना
कर सके कोई मुझसे..

pehchan karaani hai akad bhare
kirdar ki tujhse

mohabbat na ho to nafrat bhi na
kar sake koi mujhse..

Nafrat Shayari For Boyfriend की मदद से अपनी अकड़ का परिचय कराना चाहोगे. यह तब बहुत ज्यादा जरूरी हो जाता है. जब आशिक का यार उसे तहे दिल से नफरत करने लगा हो. और साथ ही वह उसे पहचानने भी से इंकार कर रहा हो.

क्योंकि जब कोई इंसान अपने दिल की मजबूरी किसी से कह ना सके. तो उस बात का जिक्र वह अपने यार से करता है. लेकिन उसके दिल में अपने यार के लिए मोहब्बत ना हो. तो वह चाहता है कि किसी और के दिल में उसके लिए नफरत भी पैदा ना हो.

Nafrat Shayari DP

9)

दिल में किसी के
नफरत ना पैदा करना..

या खुदा, मोहब्बत में
किसी को ना जुदा करना..

dil mein kisi ke
nafrat na paida karna

yaa khuda, mohabbat mein
kisi ko na juda karna..

अपने महबूब से मिला प्यार का धोखा आशिक को ठेस पहुंचा गया है. और उसे अपने दिल की गहराई से महबूब को मिटाने की चाहत हो रही है. लेकिन वह चाह कर भी इस बात को नहीं कर पा रहा है.

क्योंकि भले ही उसके दिलबर ने उससे झूठा प्यार किया हो. लेकिन आशिक ने अपने यार से तो तहे दिल से ही प्यार किया था. इसी वजह से अब वह अल्लाह से इसी बात की दरख्वास्त कर रहा है. ताकि खुदा किसी के भी दिल को किसी से मिलाए. तो उनकी तकदीर में कभी जुदाई ना लिखें.

10)

मुझे देख पलट जाना यूं
तेरा, नजर आ रहा है..

नफरत भरा बर्ताव दिल
पर कहर ढा रहा है..

mujhe dekh palat jana you
tera, najar aa raha hai

nafrat bhara bartav dil
per kahar dha raha hai..

Nafrat Shayari DP की मदद से अपने महबूब से बात तक नहीं करना चाहोगे. क्योंकि जब आशिक अपने दिलबर से तहे दिल से प्यार कर रहा था. तब उसे महबूब भी अपने तहे दिल से चाहता था. लेकिन अब उसका दिल जैसे मोहब्बत से ऊब गया है.

और शायद यही वजह है कि वह अब उसे बोलना चाहता है. और एक बार भी मुड़ कर देखना भी नहीं चाहता है. कुछ इस तरह से किसी के दिल में नफरत पैदा हो सकती है. इस बात किस सोच आशिक के दिल में भी नहीं आ रही है. इसी वजह से वह खुद को बहुत ज्यादा तन्हा महसूस कर रहा है.

Conclusion

दोस्तों जिंदगी में हर कोई अपने यार से बस प्यार ही प्यार मांगता है. लेकिन हर किसी की यह मुराद हमेशा पूरी नहीं होती है. और कई आशिकों को अपने दिलबर से बेवफाई और नफरत ही मिलती है. कुछ यही बात आपको Best Hate Thoughts से पता चल गई होगी.

हमारी इन Nafrat Shayari DP -3 को सुनकर अपने महबूब की बेवफाई याद आ जाए. तो हमें comment area में comments जरूर करें.

नफरत शायरी पर लिखी गयी हमारी ये पोस्ट भी आपको अच्छी लगेगी

  1. Nafrat Shayari -1: अपने दिल की नफरत को जाहिर करना चाहोगे!
  2. Nafrat Shayari -2: Sad Hate Status in Hindi

अपने Telegram channel पर सारे अपडेट्स प्राप्त करने के लिए जल्दी से Telegram में शायरी सुकून ऐसे या @shayarisukun सर्च करे और चैनल को subscribe करें. आपकी सेवा 24 घंटो के भीतर शुरू हो जाएगी.

अगर आपको चाहिये कि अपने Twitter हैन्डल पर शायरी सुकून अपडेट्स मिले, तो हमें शायरी सुकून अकाउन्ट पर Follow जरूर करें.

Leave a Comment