Love

Global Warming Shayari, Slogan for World Environment Day

If you are looking for special Shayari for World Environment Day, then this Global Warming Shayari post will fulfil your need. All these Shayari will motivate you to save energy and make use of green energy. Today, we all should be aware of Global Warming, this Shayari blog post will do that.

Global Warming Shayari

1)

हुई देश में औद्योगिक क्रांति
बढ़ी तब से विश्व में गर्मी..

बढ़ेगा तापमान तो आएगा तूफान
रोक लो यह ग्लोबल वार्मिंग की वृद्धि..

-Vrushali

hui desh mein audyogik kranti
badhi tab se vishva mein garmi..
badhega taapman to aaega tufan
rok lo yah global warming ki vriddhi..

Global Warming Shayari
Global Warming Shayari
2)

हर गली, हर शहर को है जगाना
स्वच्छता का पाठ है सीखलाना..

जो हमारी दुनिया को है बचाना
तो यारों हर जगह तुम पेड़ लगाना..

-Santosh

har gali, har shahar ko hai jagana
swachhata ka paath hai sikhalana..
jo hamari duniya ko hai bachana
to yaaron har jagah tum ped lagana..




पर्यावरण दिवस पर लिखी गयी इन शायरियों को वंशिका इनकी आवाज़ में सुनिए
[Please wait until player loads]


💕 Listen Uninterrupted Shayari 💕
🙏After Small Advertisement🙏




3)

बढ़ेगी बिजली, बढ़ेगी गैस
होगा वायुमंडल का विनाश..

ग्लोबल वार्मिंग लाएगा बाढ़
कहीं बारिश तो कहीं तूफान..

-Vrushali

badhegi bijali, badhegi gas
hoga vayumandal ka vinash..
global warming laega baadh
kahin barish to kahin tufan..

4)

सच्चा पर्यावरण रक्षक वही माना जाएगा..

जो कोई अपने आसपास पेड़ लगाएगा..!

-Komal

saccha paryavaran rakshak vahi mana jaega..
jo koi apne aaspaas ped lagaega..!



5)

समंदर का पानी करेगा क्रांति
जब ग्लोबल वार्मिंग में होगी वृद्धि..

बर्फ की चट्टानें पिघलने लगेगी
त्सुनामी सारी जमीन खा जाएगी..

-Vrushali

samander ka pani karega kranti
jab global warming mein hogi vriddhi..
barf ki chattanein pighalne lagegi
tsunami sari jameen kha jayegi..

6)

खिल जाएगी हर बगिया और
डाल डाल पर अब फूल जचेगा..

स्वच्छता का देना है यह संदेश
पेड़ बचेंगे तो पर्यावरण बचेगा..

-Anamika

khil jayegi har bagiya aur
dal dal per ab phool jachega..
swachhata ka dena hai yah sandesh
ped bachenge to paryavaran bachega..

7)

ग्रीन हाउस में उगाएंगे सब्जियां
तो नहीं देखने मिलेगी सर्दियां..

मौसम में आएंगे हजारों बदलाव
समझ नहीं पाओगे प्रकृति की मस्तियां..

-Vrushali

greenhouse mein ugaenge sabjiyan
to nahin dekhne milegi sardiyan..
mausam mein aaenge hajaron badlav
samajh nahin paoge prakriti ki mastiyan..

8)

मिलकर हमें पर्यावरण
रक्षा का जिम्मा उठाना है..

हमारी धरती को यारों हमें
अब हर हाल में बचाना है..

-Komal

milkar hamen paryavaran
raksha ka jimma uthana hai..
hamari dharti ko yaaron hamen
ab har haal mein bachana hai..



9)

ग्लोबल वार्मिंग को गर रोकोगे
पेड़-पौधे आसपास लगाओगे..

समंदर को शांत रहने दोगे
शांति से जिंदगी जी पाओगे..

-Vrushali

global warming ko gar rokoge
ped-paudhe aaspaas lagaoge..
samander ko shant rahane doge
shanti se jindagi ji paoge..

10)

स्वच्छता का संदेश देते हैं
खिले हुए फूल हजारों..

अब यहां वहां तुम कूड़ा
कचरा मत फेंको यारों..

-Santosh

swachhata ka sandesh dete hain
khile hue phool hajaron..
ab yahan vahan tum kuda
kachra mat fenko yaaron..

World Environment Day Shayari | Global Warming Shayari

World Environment Day Shayari | Global Warming Shayari
World Environment Day Shayari | Global Warming Shayari
11)

गाड़ियों से जल्दी जाना कहां है
हवा को दूषित करके रहना कहां है..

बढ़ाकर ग्लोबल वार्मिंग का स्तर
मानव, रहने तुम्हें जाना कहां है..

-Vrushali

gadiyon se jaldi jana kahan hai
hawa ko dushit karke rahana kahan hai..
badhakar global warming ka star
manav, rahane tumhen jana kahan hai..

12)

हर जगह खिलेगी हरियाली
तभी तो बनेगा हमारा देश महान..

पेड़ पौधे बचाकर ग्लोबल वार्मिंग
दूर करने में अब देना है योगदान..

-Anamika

har jagah khilegi hariyali
tabhi to banega hamara desh mahan..
ped paudhe bacha kar global warming
dur karne mein ab dena hai yogdan..



13)

बेमौसम वर्षा जब बरसेगी
छुट्टी तुम्हारी करनी पड़ेगी..

ग्लोबल वार्मिंग का होगा असर
तो बुरी आदतें छोड़नी ही पड़ेगी..

-Vrushali

bemausam varsha jab barsegi
chhutti tumhari karni padegi..
global warming ka hoga asar
to buri aadaten chhodani hi padegi..

14)

जो काटोगे पेड़ पौधे सारे तो
ऑक्सीजन भी हो जाएगी नष्ट..

ग्लोबल वार्मिंग झेलनी पड़ेगी
जो दोगे तुम पर्यावरण को कष्ट..

-Komal

jo kaatoge ped paudhe sare to
oxygen bhi ho jaaegi nasht..
global warming jhelni padegi
jo doge tum paryavaran ko kasht..

15)

पशु पक्षी हो गए हैं नाराज
ग्लोबल वार्मिंग की समस्या से..

सुधर जा इंसान तू जल्दी से
पृथ्वी मर जाएगी तेरे कहर से..

-Vrushali

pashu pakshi ho gaye hain naraj
global warming ki samasya se..
sudhar jaa insan tu jaldi se
prithvi mar jayegi tere kahar se..

16)

दुनिया पर्यावरण की सारी
सीमाएं लांघ चुकी है..

ग्लोबल वार्मिंग के खतरे की
घंटी अब बज चुकी है..!

-Santosh

duniya paryavaran ki sari
seemayen laangh chuki hai..
global warming ke khatre ki
ghanti ab baj chuki hai..!



17)

सागर के पानी में होगी बढ़ोतरी
ग्लोबल वार्मिंग की समझो है वृद्धि..

बर्फ की चट्टाने पानी में बदलेगी
तो जमीन रहने लायक नहीं बचेगी..

-Vrushali

sagar ke pani mein hogi badhotari
global warming ki samjho hai vriddhi..
barf ki chattane pani mein badlegi
to jameen rahane layak nahin bachegi..

18)

चारों ओर फैलाओ हरियाली
पर्यावरण हमेशा होता है हितकारी..

ग्लोबल वार्मिंग का संदेश देना है अब
पेड़ पौधे बचाने में ही है समझदारी..

-Anamika

charon or failao hariyali
paryavaran hamesha hota hai hitkaari..
global warming ka sandesh dena hai ab
ped paudhe bachane mein hi hai samajhdari..

19)

मर रहे हैं जंगलों में छोटे छोटे जीव
तू समझ नहीं रहा ग्लोबल वॉर्मिंग..

जब आएगी इंसान तुम्हारी बारी
तो होगा फिर से लॉकडाउन जारी..

-Vrushali

mar rahe hain junglon mein chhote-chhote jeev
tu samajh nahin raha global warming..
jab aaegi insan tumhari bari
to hoga fir se lockdown jari..

20)

पेड़ पौधों को बचाकर हमें
सबको संदेश देना है अच्छा..

ग्लोबल वार्मिंग तभी होगी दूर
जो पर्यावरण की करेंगे सुरक्षा..!

-Komal

ped paudhon ko bachakar hamen
sabko sandesh dena hai achcha..
global warming tabhi hogi dur jo
paryavaran ki karenge suraksha..!



Paryavaran Diwas Shayari

Paryavaran Diwas Shayari
Paryavaran Diwas Shayari
21)

झुलसती गर्मी से परेशान है जहां सारा
समझो तुम इसे धरती का ये इशारा..

संभल जाओ इंसान अब भी समय है,
अगर है तुम्हें अपना जीवन प्यारा..

-Santosh

jhulasati garmi se pareshan hai jahan sara
samjho tum ise dharti ka ye ishara..
sambhal jao insan ab bhi samay hai,
agar hai tumhen apna jivan pyara..

22)

ग्लोबल वार्मिंग दूर करने का
मूल मंत्र हम सबको बताएंगे..

प्राकृतिक चीजों का करेंगे उपयोग
और गंदगी हम ना फैलाएंगे..

-Anamika

global warming dur karne ka
mul mantra ham sabko bataenge..
prakrutik chijon ka karenge upyog
aur gandgi ham na failayenge..

23)

कभी पड़ती ठंड, कभी तपती धूप
गर्मी से जैसे पिघल रही है ये धरती..

बिन बताए कभी बारिश है होती
ग्लोबल वार्मिंग से जल रही है धरती..

-Komal

kabhi padhati thand, kabhi tapti dhup
garmi se jaise pighal rahi hai ye dharti..
bin bataye kabhi barish hai hoti
global warming se jal rahi hai dharti..

24)

ग्लोबल वार्मिंग को दूर करना है
पिघलते हुए बर्फ को रोकना है..

जन जन तक संदेश पहुंचाना है
जलती हुई पृथ्वी को बचाना है..!

-Santosh

global warming ko dur karna hai
pighlate hue barf ko rokana hai..
jan jan tak sandesh pahunchana hai
jalti hui prithvi ko bachana hai..!



25)

याद रखो तुम, मानव की सारी
समस्याएं प्रकृति ही दूर भगाएं..

ग्लोबल वार्मिंग से बच पाएंगे हम
जो आसपास हजारों पेड़ लगाएं..!

-Anamika

yad rakho tum, manav ki sari
samasyaen prakriti hi dur bhagaen..
global warming se bach payenge ham
jo aaspaas hajaron ped lagaen..!

26)

ग्लोबल वार्मिंग पर अगर
मिलकर ना रोक लगाएंगे..

एक दिन इस धरती से हमारे
सारे नामोनिशान मिट जाएंगे..

-Komal

global warming per agar
milkar na rok lagaenge..
ek din is dharti se hamare
sare naamonishan mit jaenge..

27)

समझ ले ए इंसान, अब भी वक्त है
ग्लोबल वार्मिंग से होंगे बड़े कष्ट है..

फैला रहे हो प्रदूषण तो याद रखना
ये प्रकृति भी हम पर बड़ी सख्त है..

-Santosh

samajh le ae insan, ab bhi waqt hai
global warming se honge bade kasht hai..
faila rahe ho pradushan to yad rakhna
ye prakriti bhi ham per badi sakht hai..

28)

अपनी इस प्यारी सी धरती को
ग्लोबल वार्मिंग से हमें बचाना है..

आओ मिलकर दूर करें प्रदूषण
हमें भविष्य को सुंदर बनाना है..

-Anamika

apni is pyari si dharti ko
global warming se hamen bachana hai..
aao milkar dur karen pradushan
hamen bhavishya ko sundar banana hai..

29)

दुनिया को अच्छा संदेश दिलाएंगे
प्रकृति को अब हमारी बचाएंगे..

जागरूक बनकर हम पेड़ लगाएंगे
ग्लोबल वार्मिंग को मिलकर दूर भगाएंगे..

-Komal

duniya ko achcha sandesh dilaenge
prakriti ko ab hamari bachayenge..
jagruk bankar ham ped lagaenge
global warming ko milkar dur bhagayenge..

30)

पर्यावरण की रक्षा में पेड़ लगाओ,
भविष्य हमसे रूठ जाएगा वरना..

ठान लिया है मन में अब हमने
ग्लोबल वार्मिंग को दूर है करना..!

-Santosh

paryavaran ki raksha mein ped lagao,
bhavishya ham se ruth jaega varna..
thaan liya hai man mein ab humne
global warming ko dur hai karna..!

You may like this: Yoga Quotes in Hindi: योगा स्टेटस कोट्स इन हिंदी

You may like this: World Environment Day Article in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.