Best Gam Bhari Shayari (गम भरी शायरी का संग्रह)

Gam Bhari Shayari: अपने दुखी दिल से महबूब की दास्तान आशिक अब पूरी तरह से मिटाना चाहता है. क्योंकि उसके दिल को जो दर्द हुआ है. उसका कारण भी तो उसका यार ही होता है. जिस तरह से उसके महबूब ने अपने प्रेमी के दिल को ठुकराया है. उस तरह से जमाने में शायद ही कोई किसी के दिल से खेला होगा.

Gam Bhari Shayari की मदद से खुद ही अपने दिल का दर्द कम करना चाहता है. आज हम भी आपके लिए उस आशिक के जज्बातों वाली टूटे हुए दिल की शायरी लेकर आए हैं. शायद आप इन जख्मी दिल की शायरी की मदद से प्यार का धोखा समझ सको. और अगर यह आशिक के गम भरी शायरी आपके भी दिल को छू गई हो. तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करना बिल्कुल ना भूलें.

Table of Content

  1. Gam Bhari Shayari Download – गम भरी शायरी डाउनलोड
  2. Gam Bhari Shayari Hindi Mai – गम भरी शायरी हिंदी में
  3. Gam Bhari Shayari Photo – गम भरी शायरी फोटो
  4. Gam Bhari Shayari Image – गम भरी शायरी इमेज
  5. Gam Bhari Shayari – गम भरी शायरी
  6. Conclusion
तन्हाई के काफिले मुबारक मुझे साथ तेरे खुदा हो
दिल मेरा तोड़ कर जाने वाले जा तेरा भला हो..
ज़िंदगी मेरी दगा दे मुझे तेरी चौखट पर हरजाई
दम जो टूटे मेरा सर तेरे दर पर रखा हो..

-Moeen

tanhai ke kafile mubarak mujhe saath tere khuda ho
dil mera tod kar jane wale ja tera bhala ho..
jindagi meri daga de mujhe teri chokhat per harjaee
dam jo tute mera sar tere dar per rakha ho..


💕 Listen Uninterrupted Shayari 💕
🙏After Small Advertisement🙏



Gam Bhari Shayari Download – गम भरी शायरी डाउनलोड

Gam Bhari Shayari
Gam Bhari Shayari
1)

बिछड़ गया जो उसे भुलाने में ज़माने लगे हैं
जिन्हें नहीं अहसास मेरा, वो याद आने लगे हैं..

मुझ से होती थी जिन की महफिलों में रौनकें
यहीं थे कल सब आज दूर जाने लगे हैं..

-Moeen

bichad gaya jo use bhulane mein jamane lage hain
jinhen nahin ahsas mera vah yad aane lage hain..

mujhse hoti thi jin ki mehfilon mein raunake
yahi the kal sab aaj dur jaane lage hain..

समंदर के नसीब में भला
कहाँ है कतरा होना..
हर किसी को आता नहीं
रास इश्क़ में फ़ना होना..

-Moeen

samander ke naseeb mein
bhala kahan hai katra hona..
har kisi ko aata nahin
ras ishq mein fanaa hona..

सदीयों पूजा तुम्हें फिर भी एक मुलाकात को तरसे
फकत तेरे लबों से सुनने, अपनी बात को तरसे..
ज़माने की भीड़ में खोया रहा मैं दिन भर
शाम ढले फिर हम विस्ल की रात को तरसे..

-Moeen

sadiyon puja tumhen fir bhi ek mulakat ko tarse
fakat tere labon se sunane apni baat ko tarse..
jamane ki bheed mein khoya raha main din bhar
sham dhale fir ham visl ki raat ko tarse..

2)

उन्हें जो दिलाए याद वादे उन्हीं के कल के
पहले वो मुस्कुराए, फिर बोले ये संभल के..

दोस्ती को इश्क समझने की खता तुमने की
अब काटो यूँ ही रातें करवटे बदल बदल के..

-Moeen

unhen jo dilaye yad vade unhin ke kal ke
pahle vah muskurae, fir yah bole sambhal ke..

dosti ko ishq samajhne ki khata tumne ki
ab katon yuhi raten karvaten badal badal ke..

सब से जुदा अपनी
मोहब्बत का भ्रम रखा हैं..
ज़िक्र सिर्फ उसका हैं
मगर नाम छुपा रखा हैं..

-Moeen

sabse juda apni
mohabbat ka bhram rakha hai..
zikr sirf uska hai magar
naam chhupa rakha hai..

Gam Bhari Shayari Photo
Gam Bhari Shayari Photo

Gam Bhari Shayari Download की मदद से आशिक अपने बिछड़े कल को ही याद कर रहा है. अब तक तो उसे अपने दिलबर का प्यार ही अपने लिए सच्चा लग रहा था. लेकिन अब उसके महबूब ने उसे यह बात दोहरा दी है. उसके दिल में आशिक के लिए प्यार की कोई भी जगह नहीं है.

मैं तड़पा सहेरा सा वो बरसा बरसात की तरह
हमेशा तुम्हें चाहा तेरा इश्क पूजा ईबादत की तरह..
तेरे बाद खत्म हुई रौशनीयाँ सभी ज़िंदगी की
कटती हैं अब ज़िंदगी एक उदास रात की तरह..

-Moeen

main tadpa sahera sa vah barsa barsat ki tarah
hamesha tumhen chaha tera ishq pooja ibadat ki tarah..
tere bad khatm hui roshniya sabhi jindagi ki
katati hai ab jindagi ek udaas raat ki tarah..

ऐ खुदा, ना देख मेरे
कर्मों का चिट्ठा यूँ..
इस में एक परदा नशीं
का नाम भी आता हैं..

-Moeen

aye khuda, na dekh
mere karmon ka chittha yun..
ismein ek pardanashi ka
naam bhi aata hai..

ख्वाब रहे अधूरे सारे ख़्वाबों की ताबीर ना मिली
नैन तो मिले तुझ से मगर हमारी तकदीर ना मिली..
जाते जाते वो साथ ले गया सारी मुस्कुराहटें अपने
तेरे बाद हमारी हँसती हुई कोई तसवीर ना मिली..

-Moeen

khwab rahe adhure sare khwabon ki tabir na mili
nain to mile tujhse magar hamari takdeer na mili..
jaate jaate vah sath le gaya sari muskurahate apne
tere bad hamari hasti hui koi tasvir na mili..

Gam Bhari Shayari Hindi Mai – गम भरी शायरी हिंदी में

gam bhari shayari photo ruthe ishq ki kahani 2
Gam Bhari Shayari
ज़िंदगी ना करे बेवफाई तुझ से मुलाकात तक
खुद को रखा महेदूद फकत तेरी ज़ात तक..
अब जो डुबो तो आफताब मुझे भी ले डुबों
आँखें हार गई कौन करे इंतज़ार बरसात तक..

-Moeen

jindagi na kare bewafai tujhse mulakat tak
khud ko rakha mehdud fakat teri jaat tak..
ab jo dubo tu aaftaab mujhe bhi le doobo
aankhen har gai kaun karen intezar barsat tak..

अपनी मोहब्बत को हम
कभी रुसवा ना करेंगे..
महफिलों में हम कभी
उसकी चर्चा ना करेंगे..

-Moeen

apni mohabbat ko ham
kabhi ruswa na karenge..
mehfilon mein ham kabhi
uski charcha na karenge..

3)

चेहरा जो देखूँ आईना मुझ से खफा लगे
तेरे बगैर हरजाई जीना मुझे एक सज़ा लगे..

दास्तानों में राँझा, मजनू, फरहाद की मुझे
इश्क में नाकाम एक एक चेहरा अपना लगे..

-Moeen

chehra jo dekhu aaina mujhse khafa lage
tere bagair harjai jina mujhe ek saja lage..

dastano mein ranjha, majnu, farhad ki mujhe
ishq mai nakam ek ek chehra apna lage..

हर कोई दिल को अब नहीं भाता..
दर्द दिल का मैं नहीं बयां कर पाता..
गम इसी बात का है की बताना
चाहता हूं जिसे, वो ही इसे नहीं समझता..

har koi dil ko ab nahin bhata
dard dil ka main nahin baya kar pata..
Gam isi baat ka hai ki batana
chahta hun jise vah hi ise nahin samajhta..

4)

खोए रहते हैं बाद तुम्हारे अकसर सपनों में
निशाँ का तील के करते हैं तलाश अपनों में..

ज़माना चाल ये कयामत की चल चूका हैं
हम कुछ ढूँढ़ते हैं, बीते वक्त के पन्नों में..

-Moeen

khoye rehte hain baad tumhare aksar sapnon mein
nishan qa til ke karte hain talash apnon mein..

jamana chal ye kayamat ki chal chuka hai
ham kuchh dhundhte hain, beete waqt ke panno mein..

Gam Bhari Shayari Hindi Mai की मदद से आशिक अपने दिलबर के निशान सपनों में ही ढूंढता रहता है. लेकिन उसे अपने यार की कोई भी निशानी अब तक नहीं मिली है. और ना ही उसका आईना भी उसकी सूरत छुपा पाया है. क्योंकि जैसे उसका आईना भी खुद उससे नाराज हो गया है.

Gam Bhari Shayari Photo – गम भरी शायरी फोटो

gam bhari shayari dil ki dard bhari dastan 1
Gam Bhari Shayari
5)

वक्त के हाथों हर चेहरे से नकाब हटाया गया
बहोत सोच कर ज़िक्र मेरा दास्ताँ से मिटाया गया..

क त्ल कर के मेरी हसरतों का यहाँ सरे आम
का तील अपनी हसरतों का मुझे ही ठहराया गया..

-Moeen

waqt ke hathon har chehre se nakab hataya gaya
bahut soch kar jikr mera dastan se mitaya gaya..

ka tl karke meri hasraton ka yahan sare aam
ka til apni hasraton ka mujhe hi thehraya gaya..

6)

हाल-ए-दिल हम कभी उन्हें सुना न सके
उसके बाद फिर हम किसी को चाह ना सके..

मिले वो जो सरे शाम राह में तो फिर ऐसे मिले
नज़र से की बात दिल की मगर लब हिला ना सके..

-Moeen

haal a dil ham kabhi unhen suna na sake
uske bad fir ham kisi ko chaha na sake..

mile vah jo sare sham raah mein to fir aise mile
najar se ki baat dil ki magar lab hila na sake..

Gam Bhari Shayari Photo में बताई गई बात अब आशिक को सच्ची लगने लगी है. क्योंकि उसके दिलबर के दिल का सच्चा चेहरा ही उसे अब नजर आ चुका है. और इसी वजह से अपनी सारी तमन्नाओं को खुद आशिक को ही दिल से दूर करना पड़ा है. और चाहकर भी अपने महबूब से अपने दिल की बात वह नहीं कर सका है.

Gam Bhari Shayari Image – गम भरी शायरी इमेज

Gam Bhari Shayari Image
Gam Bhari Shayari Image

इन गम से भरपूर शायरियों को Ehsaas by Ketki इनकी आवाज में सुनकर अपने प्यार की निशानीयों को याद करोगे!

7)

बिछड़ा वो मुझसे इश्क़ में कुछ इस अंदाज़ से

सारी उम्र हम अपना क़ुसूर ढूंढते रहे गए..

-Moeen

bichhada mujhse ishq mein kuchh is andaaz se..

sari umra ham apna kusoor dhundhte rah gaye..

8)

आते हैं कुछ लोग जिंदगी में
हमारी, खुशबू की तरह..

महसूस है होते, फिर भी बिखर
जाते हवाओं की तरह..

aate hain kuch log jindagi mein
hamari khushbu ki tarah..

mahsus hai hote, fir bhi bikhar
jaate hawaon ki tarah..

Gam Bhari Shayari Image की मदद से आशिक अपने यार को महसूस करने की कोशिश करता है. लेकिन उसके दिलबर की यादें उसके लिए जैसे हवाओं की खुशबू की तरह है. जो उसके होने का एहसास तो जरूर दिलाती है. लेकिन उसके साथ कभी नहीं होती.

Gam Bhari Shayari – गम भरी शायरी

Gam Bhari Shayari
Gam Bhari Shayari
9)

मोहब्बत में उनकी खुद को भी भूल चुके
बात यह हम दिल में दबाना भूल चुके..

प्यार है उनसे बताया सभी को
बस, बताना एक उन्हीं को हम भूल चुके..

mohabbat mein unki khud ko bhi bhul chuke
baat yah ham dil mein dabana bhul chuke..

pyar hai unse bataya sabhi ko
bas, batana ek unhin ko ham bhul chuke..

10)

उदास मौसम, बिखरी फ़िज़ाए, 
बेरंग सी हवाएँ..

कई बातों पर इलज़ाम 
लगा तेरे रूठने के बाद..

udaas mausam, bikhri fiza,
berang si hawaye..

kai baton per ilzaam
laga tere ruthne ke bad..

Gam Bhari Shayari की मदद से प्रेमी अपने दिल में दबी बात जाहिर करना चाहता है. लेकिन उसके दिल पर लगे हुए इल्जाम को वह कभी भुला नहीं पाता है. क्योंकि उसके यार के बिना अब यह फिजाएं और यह सारे मौसम भी जैसे बेरंग हो चुके हैं.

Conclusion

आशिक अपने गम भरी शायरी अपनी महबूबा को बताने की जद्दोजहद करता है. लेकिन उसका यार है कि उसकी बातों को बस दिल्लगी ही समझ लेता है. और वह अपने आशिक से सच्चा प्यार बिल्कुल भी नहीं करती है.

हमारी इन Gam Bhari Shayari को सुनकर अगर आपको भी अपने दिल का गम याद आ गया हो. तो हमें comments area में comment करते हुए जरूर बताईये.

शायरी सुकून की बेहतरीन शायरियों को अपने फेसबुक पर प्राप्त करने के लिए इस शायरी सुकून पेज को Like और Share जरूर करें.

One Response

  1. प्रखर June 21, 2022

Add Comment