Motivational

Best 25+ Hosla Shayari (हौसला शायरी)

Hosla Shayari ko hum tab sunna chahte hai jab hume khudka hausla badhana hota hai ya kisi aur ka jisse hum ya aur koi thoda motivated feel kar sake. Humari yeh हौसला शायरी ki website post aapko aise hi behtreen ek se badhkar ek preranadayi shayari se rubaru karayega.

Hosla Shayari

1)

जिंदगी से मोहब्बत का
एक लम्हा चुरा लिया है..

अपने मन में मैंने हौसला
अब पूरा बना लिया है..

-Mrunal

jindagi se mohabbat ka
ek lamha chura liya hai..
apne man mein maine hausla
ab pura banaa liya hai..

2)

प्यार में अपने दिल की बेबसी छोड़,
यार से मिलने का विश्वास है मुझ में..

चाहे कितनी भी असफलताएं आएं,
जीतने का हौसला है आज मुझ में..

-Santosh

pyar mein apne dil ki bebasi chhod,
yaar se milne ka vishwas hai mujh mein..
chahe kitni bhi asafaltayen aayen,
jitne ka hausla hai aaj mujh mein..



Hosla Shayari Image
Hosla Shayari Image
3)

तुम्हारी चाहत पाने का
सपना आज भी है मन में..

तन्हाइयों से अपनी जरूर
जीतूंगा हौसला है मन में..

-Vaidehi

tumhari chahat pane ka
sapna aaj bhi hai man mein..
tanhaiyon se apni jarur
jitunga hausla hai man mein..


💕 Listen Uninterrupted Shayari 💕
🙏After Small Advertisement🙏



4)

हर बात को आसानी से पा लेते,
जिंदगी में सब कुछ करते हैं..

अपने मन में यारों डर से
ज्यादा जो हौसला भरते हैं..

-Mrunal

har baat ko aasani se paa lete,
jindagi mein sab kuchh karte hain..
apne man mein yaaron dar se
jyada jo hausla bharte hain..

5)

जरूर लौट जाएंगे अंधेरे जब
जिंदगी में उजाला हो जाएगा..

मेरा बुलंद हौसला देखकर यारों,
मुकद्दर भी परेशान हो जाएगा..!

-Santosh

jarur laut jaenge andhere jab
jindagi mein ujala ho jaega..
mera buland hausla dekh kar yaaron,
mukaddar bhi pareshan ho jaega..!



6)

देखे हुए सारे सपनों को पूरा
करने की आस जीवन में है..

अब इन आसमानों से भी ऊपर
उड़ने का हौसला मेरे मन में है..

-Vaidehi

dekhe hue sare sapnon ko pura
karne ki aas jivan mein hai..
ab in aasmanon se bhi upar
udane ka hausla mere man mein hai..

7)

मेहनत को ही हमेशा मैं दिल में रखता हूं..

दरिया को पार करने का हौसला रखता हूं..

-Mrunal

mehnat ko hi hamesha main dil mein rakhta hun..
dariya ko paar karne ka hausla rakhta hun..

Hosla Badhane Wali Shayari
Hosla Badhane Wali Shayari

Hosla Badhane Wali Shayari

8)

कभी ना पडूंगा किसी मुश्किल में..

हौसला कुछ इस कदर है दिल में..!

-Santosh

kabhi na padunga kisi mushkil mein..
hausla kuchh is kadar hai dil mein..!

9)

जिंदगी में अपनी मंज़िल को
यारा तू हमेशा ही पाएगा..

मन में हौसला कायम रखकर
जो अब तू चलता जाएगा..

-Vaidehi

jindagi mein apni manzil ko
yaara tu hamesha hi payega..
man mein hausla kayam rakh kar
jo ab tu chalta jaega..



10)

चलता रहूंगा यूं ही सफर पर,
मंजिल को बाहों में भर लूंगा..

हौसला रखकर मैं जिंदगी में
हर मुकाम काबिल कर लूंगा..

-Mrunal

chalta rahunga yun hi safar par,
manzil ko bahon mein bhar lunga..
hausla rakhkar main jindagi mein
har mukaam kabil kar lunga..

11)

मोहब्बत का आशियाना यूं ही बनाता रहूंगा..

हौसले को अपने मैं हमेशा बढ़ाता रहूंगा..

-Santosh

mohabbat ka aashiyana yun hi banata rahunga..
hausle ko apne main hamesha badhata rahunga..

12)

सपनों को पूरा करने मेहनत जुटाए..

हौसले से यारों जिंदगी में कदम बढ़ाए..

-Vaidehi

sapnon ko pura karne mehnat jutaye..
hausle se yaaron jindagi mein kadam badhaye..

13)

मुश्किल लगे मंजिल,
मगर तुम चलते रहना..

हौसले की उड़ान अपने
मन में कायम रखना..

-Mrunal

mushkil lage manjil,
magar tum chalte rahna..
hausle ki udaan apne
man mein kayam rakhna..



14)

क्या होगा जिंदगी में मेरी
इसे मुझे अब ना सोचना है..

मंजिल को पाना है मुझ में
जीतने का हौसला भरा है..

-Santosh

kya hoga jindagi mein meri
ise mujhe ab na sochana hai..
manzil ko pana hai mujh mein
jitne ka hausla bhara hai..

Hausla Shayari
Hausla Shayari

Hausla Shayari

15)

दिल में हमेशा हौसला
रखूंगा वादा है मेरा..

मंजिल की ओर बढ़ते
रहने का इरादा है मेरा..

-Vaidehi

dil mein hamesha hausla
rakhunga vaada hai mera..
manjil ki or badhate
rahane ka irada hai mera..

16)

मजबूत है इरादे मेरे दिल में
सपनों का जहान रखता हूं..

अपने पंखों को खोल कर मैं
उड़ान का हौसला रखता हूं..

-Mrunal

majbut hai irade mere dil mein
sapnon ka jahan rakhta hun..
apne pankhon ko kholkar main
udaan ka hausla rakhta hun..

17)

यारों मंजिल कब और कहां
मिलेगी यह तो नसीब है..

मगर जीत मिलेगी ही मुझे,
ये दिल में हौसला अब है..

-Santosh

yaaron manjil kab aur kahan
milegi yah to naseeb hai..
magar jeet milegi hi mujhe,
ye dil mein hausla ab hai..



18)

खुद पर नहीं है भरोसा जिसे
इंसान वो कभी चलता नहीं..

सिर्फ सोचने से अपने मन में
यारों कभी हौसला बढ़ता नहीं!

-Vaidehi

khud per nahin hai bharosa jise
insan vo kabhi chalta nahin..
sirf sochne se apne man mein
yaaron kabhi hausla badhta nahin!

19)

दिल में मेरे मेहनत करने का जज्बा चला है..

मंजिल को पाने के लिए चलने का हौसला है..

-Mrunal

dil mein mere mehnat karne ka jajba chala hai..
manjil ko pane ke liye chalne ka hausla hai..

20)

सपनों को पूरा करने का
आज काफिला भी है..

जीतने का जुनून और मंजिल
पाने का हौसला भी है..

-Santosh

sapnon ko pura karne ka
aaj kafila bhi hai..
jitne ka junoon aur manjil
pane ka hausla bhi hai..

21)

भरोसा है मुझे मंजिल एक ना
एक दिन तो मिल ही जाएगी..

लोगों के तानों से मेरे हौसले में
यारों कभी कमी नहीं आएगी..

-Vaidehi

bharosa hai mujhe manzil ek na
ek din to mil hi jaegi..
logon ke tanon se mere hausle mein
yaaron kabhi kami nahin aaegi..



हौसला शायरी

22)

नादान इस दिल में सपनों की
जान मैं हमेशा कायम रखूंगा..

अपने हौसले की उड़ान मंज़िल
मिलने तक मैं कायम रखूंगा..

-Mrunal

nadan is dil mein sapnon ki
jaan main hamesha kayam rakhunga..
apne hausle ki udan manjil
milne tak main kayam rakhunga..

23)

सफलता पाने का किया है
फैसला मैंने अब जीवन में..

वक्त को भी जीतने का
अब हौसला है मेरे मन में..

-Santosh

safalta paane ka kiya hai
faisla maine ab jivan mein..
waqt ko bhi jitne ka
ab hausla hai mere man mein..

हौसला शायरी
हौसला शायरी
24)

वादा है तुम्हारा हाथ अपने
हाथों से कभी छूटने ना दूंगा..

दुनिया के कड़े इम्तिहानो की
वजह से हौसला टूटने ना दूंगा..

-Vaidehi

vada hai tumhara hath apne
hathon se kabhi chhutne na dunga..
duniya ke kade imtihanon ki
vajah se hausla tutne na dunga..

25)

हौसला रख लूंगा कायम मन में
कितने भी गम क्यों ना सहने पड़े..

चाहे रास्ते में अपने कितनी भी
मुश्किलें क्यों ना झेलनी पड़े..

-Mrunal

hausla rakh lunga kayam man mein
kitne bhi gam kyon na sahne pade..
chahe raste mein apne kitni bhi
mushkilen kyon na jhelni pade..



26)

अटल रहोगे, ना किसी भी
समस्या से तुम कभी डरोगे..

कुछ इस कदर जब तुम
हौसला अपने मन में भरोगे..

-Santosh

atal rahoge, na kisi bhi
samasya se tum kabhi daroge..
kuch is kadar jab tum
hausla apne man mein bharoge..

Conclusion

Dosto, agar in Hosla Shayari ko padhkar aapke man me aasha ki kiran paida huyi ho ya aapko kuch accha kar guzarne ki iccha prapt huyi ho to hume comment karte huye jarur batayiyega.

Aur sath hi me aap humari Kinara Shayari website post ko padhkar motivation le sakte hai. Shayari Sukun updates recieve karne ke liye Facebook page jaroor follow kare.



Leave a Reply

Your email address will not be published.