Munawwar Rana Shayari On Maa -1: Status For Mother

Munawwar Rana Shayari On Maa : दोस्तों आप जब भी मुनव्वर राना साब की माँ पर लिखी शायरी पढेंगे या सुनेंगे. तो आपकी आँखों में जरूर पानी आ जाएगा. क्योंकि मुनव्वर राना साहब ने अपनी विश्वप्रसिद्ध क़िताब ‘माँ’ में ऐसी शायरियां मुकम्मल की है. जिन्हें पढ़कर हर कोई अपनी माँ को याद कर सकता है. और उसके जीवन भर के, लिए हुए कष्टों को याद कर हर किसी का दिल जरूर रोयेगा. दोस्तों हमें यकीन है कि Munawwar Rana Shayari On Mother, Munawwar Rana Shayari On Maa In English की मदद से आप भी यही बात अनुभव करेंगे.

Freinds whenever we came across with any type of problem or tension. We remember praying our mother for us. And with today’s Munawwar Rana Shayari Maa, Munawwar Rana Shayari On Mother, Munawwar Rana Shayari On Maa you can feel mother’s love. Also you can share these best Munawwar Rana Shayari On Mother, Munawwar Rana Maa Shayari In Hindi Lyrics with all your friends and family members.

तो चलिए दोस्तों अपनी माँ को याद करते हुए आजकी Munnawar Rana Maa Ke Liye Shayari, Maa Shayari By Munawwar Rana को सुनें. जिसे हमारे बेहतरीन वॉइस ओवर आर्टिस्ट ने अपनी आवाज़ से तराशा है. साथ ही आप इन Munawwar Rana maa Shayari In Urdu की इमेजेस भी जरूर डाउनलोड करें.

Table of Content

  1. Munawwar Rana Shayari On Mother – मुनव्वर राना शायरी ऑन मदर
  2. Munawwar Rana Maa Shayari In Hindi Lyrics – मुनव्वर राना मां शायरी इन हिंदी लिरिक्स
  3. Munawwar Rana Shayari On Maa In English – मुनव्वर राना शायरी ऑन मां इन इंग्लिश
  4. Munawwar Rana Shayari Maa – मुनव्वर राना शायरी मां
  5. Munawwar Rana Shayari On Maa – मुनव्वर राना शायरी ऑन मां
  6. Conclusion

Munawwar Rana Shayari On Mother – मुनव्वर राना शायरी ऑन मदर

1)

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं आती..

बस एक मां है जो मुझसे खफा नहीं होती..

labon pe uske kabhi baddua nahin aati..

bus ek maa hai jo mujhse khafa nahin hoti..

2)

इस तरह वो मेरे गुनाहों को धो देती है

मां बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है..

is tarah vo mere gunahon ko dho deti hai

maa bahut gusse mein hoti hai to ro deti hai..

Munawwar Rana Shayari On Mother की मदद से मुनव्वर राणा साहब मां के चरणों में सजदा करना चाहते हैं. और वह किसी भी हाल में अपने बच्चों पर खफा नहीं होती है यही बात बताना चाहते हैं.

Munawwar Rana Maa Shayari In Hindi Lyrics – मुनव्वर राना मां शायरी इन हिंदी लिरिक्स

Munawwar Rana Maa Shayari In Hindi Lyrics
Munawwar Rana Maa Shayari In Hindi Lyrics
3)

चलती फिरती आंखों से अजां देखी है

मैंने जन्नत तो नहीं देखी है, मां देखी है..

chalti firti aankhon se azan dekhi hai

maine jannat to nahin dekhi hai, maa dekhi hai..

4)

ए अंधेरे! देख ले मुंह तेरा काला हो गया

मां ने आंखें खोल दी घर में उजाला हो गया..

ae andhere! dekh le munh tera kala ho gaya

maa ne aankhen khol di ghar mein ujala ho gaya..

Munawwar Rana Maa Shayari In Hindi Lyrics की मदद से मुनव्वर राणा साहब मां की ममता का उदाहरण देना चाहते हैं. और जब वह अपनी आंखें खोलती है. तब अंधेरा जैसे कहीं गुम हो जाता है यही बात बताना चाहते हैं.

Munawwar Rana Shayari On Maa In English – मुनव्वर राना शायरी ऑन मां इन इंग्लिश

5)

मुझको हर हाल में बख्शेगा उजाला अपना
चांद रिश्ते में नहीं लगता है मामा अपना..

मैंने रोते हुए पोछे थे किसी दिन आंसू
मुद्दतों मां ने नहीं धोया दुपट्टा अपना..

mujhko har hal mein bakhshega ujala apna
chand rishte mein nahin lagta hai mama apna..

maine rote hue pochhe the kisi din aansu
muddaton maa ne nahin dhoya dupatta apna..

6)

मेरी ख्वाहिश है कि मैं
फिर से फ़रिश्ता हो जाऊं..

मां से इस तरह लिपट जाऊं
कि बच्चा हो जाऊं..

meri khwahish hai ki main
fir se farishta ho jaaun

maa se is tarah lipat jaaun
ki baccha ho jaaun..

Munawwar Rana Shayari On Maa In English की मदद से अपनी मां का प्यार पाने की चाहत रखने वाले बच्चे के दिल की बात ही मुनव्वर राना साहब बताना चाहते हैं.

Munawwar Rana Shayari Maa – मुनव्वर राना शायरी मां

Munawwar Rana Shayari Maa
Munawwar Rana Shayari Maa
7)

खुद को इस भीड़ में तन्हा नहीं होने देंगे

मां तुझे हम अभी बूढ़ा नहीं होने देंगे..

khud ko is bheed mein tanha nahin hone denge

maa tujhe ham abhi budha nahin hone denge..

8)

खाने की चीज़ें माँ ने जो भेजी हैं गाँव से

बासी भी हो गई हैं तो लज़्ज़त वही रही..

khane ki chijen maa ne jo bheji hai gaon se

bansi bhi ho gai hai to lazzat vahi rahi..

Munawwar Rana Shayari Maa को सुनकर आपको भी अपने मां की दिए हुए लजीज खाने की याद जरूर आएगी. क्योंकि वह जब भी हमें खाना परोसती है. तब वह उसका प्यार ही तो परोसती है.

Munawwar Rana Shayari On Maa – मुनव्वर राना शायरी ऑन मां

9)

यही रहूंगा कहीं उम्र भर ना जाऊंगा

जमीन मां है इसे छोड़कर ना जाऊंगा..

yahi rahunga kahin umra bhar na jaunga

jameen maa hai ise chhodkar na jaunga..

10)

कुछ नहीं होगा तो आंचल में छुपा लेगी मुझे

मां कभी सर पर खुली छत नहीं रहने देगी..

kuchh nahin hoga to aanchal mein chhupa legi mujhe

maa kabhi sar per khuli chhat nahin rahane degi..

Munawwar Rana Shayari On Maa की मदद से अपनी मां के आशीर्वाद को तरसने वाले बेटे की याद जरूर आएगी. क्योंकि मां हर बार अपने बेटी को किसी भी हालत में अकेला नहीं छोड़ती है. यही बात मुनव्वर राना साहब बताना चाहते हैं.

Conclusion

मुनव्वर राना साब की माँ पर लिखी शायरियों को पढ़कर आपको माँ की ममता जरूर याद आ जाएगी. साथ ही Status For Mother को सुनकर आप अपनी माँ को शत शत नमन करना चाहोगे. हमने सच कहा ना दोस्तों?

हमारी इन Munawwar Rana Shayari On Maa -1 को सुनकर आपको भी अपने मां की याद सताने लगे. तो हमें comment area में comments कर जरूर बताएं.

अपने Telegram channel पर सारे अपडेट्स प्राप्त करने के लिए जल्दी से Telegram में शायरी सुकून ऐसे या @shayarisukun सर्च करे और चैनल को subscribe करें. आपकी सेवा 24 घंटो के भीतर शुरू हो जाएगी.

अगर आप चाहते है की आपको फेसबुक पर शायरी सुकून अपडेट्स मिले, तो इस शायरी सुकून पेज को लाइक और शेयर जरूर करें.

अगर आपको अपने परिवार वालों को खुश करना हो, तो आप यहाँ Family Shayari पर क्लिक कर सकते है.

Leave a Comment