Vaadiyan Shayari: अपने दिलबर को वादियों में ढूँढना चाहोगे?

Agar aap apne sathi ko vaadiyon me dhundhna chahte ho, ya fir unki yaadon ko Vaadiyan Shayari ke jariye baya karna chahte ho to ye blog post aapke liye hai. Aapko वादियां शायरी post me har prakar ki Shayari milegi jisme aapke haal e dil bayan hona aasan hoga.

इन वादियों में गुम हैं
सभी ख़्वाब मेरे और तुम्हारे 

पुरे करने हैं मिलकर हमें
प्यार के अफसाने सारे

-Vrushali

in vaadiyon me gum hai
sabhi khwab mere aur tumhare
pure karne hai milkar hume
pyar ke afsaane saare


Listen to Vaadiyan Shayari | Voice-Over: Akash Borde


इन Vaadiyan Shayari को Akash Borde इनकी आवाज में सुनकर अपने दिलबर के लिए इन वादियों में आवाज लगाना चाहोगे!!




vaadiyan-shayari-love-quotes-1
Vaadiyan Shayari | वादियां शायरी
वादियों में खो जाऊ
तेरे प्यार की कसम खाकर

दुनियां से मुंह मोड़ लूं
तुम्हे अपना बनाकर

-Vrushali

vaadiyon me kho jau
tere pyar ki kasam khakar
duniya se muh mod lun
tumhe apna banakar

Vaadiyan Shayari in hindi urdu

छिपे हैं कई राज़
गहरी सी इन वादियों में

सुने है कई किस्से इन्होंने
मोहब्बत की परछाइयों में

-Vrushali

Chipe hai kai raaz
gahari si inn vadiyon me
sune hai kai kisse inhone
mohabbat ki parchayiyon me

अब वादियों में कहां हिम्मत
जो उन्हे अपनी बाहों मे लें..

तूफ़ान से भरे सागर से
डरते है सब, जरा उससे पूछ लें..

ab waadiyon mein kahan himmat
jo unhen apni bahon mein le..
tufan se bhare sagar se
darte hain sab, jara usse puch le…

Vaadiyan Shayari Image
Vaadiyan Shayari Image
लाज़मी है की तुम
इन वादियों में खो जाओ

इतनी सुंदर जो है ये
वाजिब है के घुलमिल जाओ

-Vrushali

laajmi hai ki tum
inn vaadiyon me kho jao
itni sundar jo hai ye
waajib hai ke ghulmil jao

रखो तुम अपनी आजादी से प्यार,
थोडा ही सही पर हो बेशुमार..

कैद ही करना है वादियों को तो
रखो सदा अपनी बाजुओ को तैय्यार…

rakho tum apni azadi se pyar
thoda hi sahi per ho beshumar..
qaid hi karna hai waadiyon ko to
rakho sada apni bajuon ko taiyar…

वादियों से खत आया हैं
कोई राह देख रहा है मेरी

कैसे बताऊं मैं उसे के
यहां ज्यादा जरूरत है मेरी

-Vrushali

vaadiyon se khat aaya hai
koi raah dekh rha hai meri
kaise batau mai use ke
yaha jyada jarurat hai meri

वादियां शायरी

अक्सर प्यार रहा है मुझे
अपनी आजादी से..

मगर खुदको कैद करना
चाहती हूं इन वादियों में…

aksar pyar raha hai mujhe
apni azadi se..
magar khud ko kaid karna
chahti hun in waadiyon mein…

लहराके अपना आंचल
आसमान को मैं छू लूंगी

मोहब्बत से मिली है उड़ान
लगता है वादियों में बस जाऊंगी

-Vrushali

laharake apna aanchal
aasman ko mai chu lungi
mohbbat se mili hai udan
lagta hai vaadiyon me bas jaungi

vaadiyan-shayari-urdu-hindi-whatsapp-status-1
वादियां शायरी | Vaadiyan Shayari
खोकर अपनी पहचान
गुम हो गई वादियों में

अब नहीं जानना कोई पता
खो गई हूं तनहाई में

-Vrushali

khokar apni pahchan
gum ho gyi vadiyon me
ab nhi janana koi pata
kho gyi hun tanhai me

1)

इस प्रकृति ने ही तो मेरे दिल में
उम्मीदों का दीपक जलाया है..

शुक्रगुजार रहूंगा हमेशा मैं उनका,
इन वादियों ने ही तो मुझे संभाला है..

-Dipti

is prakriti ne hi to mere dil mein
umeedon ka deepak jalaya hai..
shukragujar rahunga hamesha main unka,
in vaadiyon ne hi to mujhe sambhala hai..

2)

अपने महबूब से मिलने के
लिए दिल तरसते रहते हैं..

ये धूप और ये बूंदें हमेशा
वादियों में बरसते रहते हैं..

-Santosh

apne mahbub se milane ke
liye dil taraste rahte hain..
ye dhup aur ye bunde hamesha
vaadiyon mein barsate rahte hain..

3)

महकती है खुशबू आज
गुजरती इन हवाओं में..

कुछ तो बात होती है
हमेशा इन वादियों में..

-Supriya

mehakti hai khushbu aaj
gujarti in hawaon mein..
kuchh to baat hoti hai
hamesha in vaadiyon mein..

4)

वादियों में तेरी खुशबू आज बिखर गई..

सफेद चादर धरती पर जैसे संवर गई..

-Dipti

vaadiyon mein teri khushboo aaj bikhar gayi..
safed chadar dharti per jaise sanwar gayi..

5)

तुम्हारी चाहत का सपना हमेशा
मेरे प्यार को तरसा रहा है..

हसीन वादियों का यह खुशनुमा
समा जानम तुझे बुला रहा है..

-Santosh

tumhari chahat ka sapna hamesha
mere pyar ko tarsa raha hai..
hasin vaadiyon ka yah khushnuma
sama janam tujhe bula raha hai..

6)

तेरे प्यार की खुशबू दिल में है लहराती..

जैसे वादियों में ये सफ़ेद बर्फ हो गिरती..

-Supriya

tere pyar ki khushbu dil mein hai lahrati..
jaise vaadiyon mein ye safed barf ho girti..

7)

तेरे गजरे की खुशबू सनम
आज फिर महकी हुई है..

कितनी सादगी जानम
इन वादियों में फैली हुई है..

-Dipti

tere gajre ki khushbu sanam
aaj fir mehaki hui hai..
kitni saadgi janam
in vaadiyon mein faili hui hai..

8)

तुम्हारी प्यार भरी तस्वीर
छिपाकर रखना चाहता है..

महबूबा इन वादियों में आज
मेरा दिल उड़ना चाहता है..

-Santosh

tumhari pyar bhari tasvir
chhipakar rakhna chahta hai..
mehbooba in vaadiyon mein aaj
mera dil udna chahta hai..

9)

दिलरुबा मैं तुमसे उम्र भर
यूं ही प्यार करना चाहता हूं..

अपने दिल में इन वादियों की
खुशबू समा लेना चाहता हूं..

-Supriya

dilruba main tumse umra bhar
yun hi pyar karna chahta hun..
apne dil mein in vaadiyon ki
khushbu sama lena chahta hun..

10)

हमेशा तुम्हारी चाहत को ही
जानम मैं महसूस करता हूं..

जहां भी जाता हूं, इन वादियों में
बस तुम्हारी खुशबू पाता हूं!

-Dipti

hamesha tumhari chahat ko hi
janam main mahsus karta hun..
jahan bhi jata hun, in vaadiyon mein
bus tumhari khushbu pata hun!

11)

सावन कभी ना बरसता, ना
आसमान को कभी प्यार होता..

धरती भी नाराज रहती, जो इन
वादियों का सहारा ना होता..

-Santosh

savan kabhi na barsata, na
aasman ko kabhi pyar hota..
dharti bhi naraj rahti, jo in
vaadiyon ka sahara na hota..

12)

अपने दिल में हमेशा प्यारी
महबूबा की तस्वीर रखो तुम..

चाहत का मंजर यारों इन
वादियों से ही सीखो तुम..

-Supriya

apne dil mein hamesha pyari
mehbooba ki tasvir rakho tum..
chaahat ka manzar yaaro in
vaadiyon se hi sikho tum..

13)

अपनी प्यारी दिलरुबा को
हम याद कर सकते हैं..

वादियों के साथ जब भी
हम प्यार का मजा लेते हैं..

-Dipti

apni pyari dilruba ko
ham yad kar sakte hain..
vaadiyon ke sath jab bhi
ham pyar ka maja lete hain..

14)

सच्ची चाहत का मंजर क्या
होता है ये मुझे बता दिया..

महबूबा ने मेरी इन वादियों से
प्यार करना सिखा दिया..

-Santosh

sacchi chahat ka manzar kya
hota hai ye mujhe bata diya..
mehbooba ne meri in vaadiyon se
pyar karna sikha diya..

15)

तेरी मोहब्बत में यारा मुझे
प्यार का सच्चा मजा आ गया..

तुमसे मिलकर जानम जैसे
इन वादियों का नशा छा गया..

-Supriya

teri mohabbat mein yara mujhe
pyar ka saccha maja aa gaya..
tumse milkar janam jaise
in vaadiyon ka nasha chha gaya..

16)

वादियों में फूलों की
महक होती है तेरी..

इक तुम्हें ही तो
जान मानता हूं मेरी..

-Dipti

vaadiyon mein phoolon ki
mehak hoti hai teri..
ek tumhen hi to
jaan manta hun meri..

17)

तुम्हारी चाहत को ही जानम
मैंने अपनी जिंदगी बना ली..

तुम्हारे जिस्म की महकती हुई
खुशबू इन वादियों ने चुरा ली..

-Santosh

tumhari chahat ko hi janam
maine apni jindagi banaa li..
tumhare jism ki mehakti hui
khushboo in vaadiyon ne chura li..

18)

इन वादियों में सनम
छिपा है चेहरा तेरा..

इंतजार रहता है
आजकल बस तेरा..

-Supriya

in vaadiyon mein sanam
chhipa hai chehra tera..
intezar rahata hai
aajkal bus tera..

19)

इन वादियों ने भी हमारे
प्यार की कहानी दोहराई..

बारिश की बूंदे भी प्यार की
बरसात लेकर बरस आई..

-Dipti

in vaadiyon ne bhi hamare
pyar ki kahani dohoraai..
barish ki bunde bhi pyar ki
barsat lekar baras aayi..

20)

तुम्हारी चाहत में जानम
जैसे खोए जा रहा हूं मैं..

इन वादियों को ही प्यार
करना सिखा रहा हूं मैं..

-Santosh

tumhari chahat mein janam
jaise khoye ja raha hun main..
in vaadiyon ko hi pyar
karna sikha raha hun main..

21)

ओ महबूबा, तू मेरी बाहों में
आकर कुछ ऐसे सिमट गई..

वादियों की महकती हुई चादर
मेरे दिल पर जैसे बिखर गई..

-Supriya

o mehbooba, tu meri bahon mein
aakar kuchh aise simat gayi..
vaadiyon ki mehakti hui chadar
mere dil per jaise bikhar gayi..

22)

उम्र भर दिलबर तू मुझसे
इसी तरह मिलता रहे..

तेरी चाहत का साथ इन
वादियों में गूंजता रहे..!

-Dipti

umra bhar dilbar tu mujhse
isi tarah milta rahe..
teri chahat ka sath in
vaadiyon mein gunjata rahe..!

23)

बरसती हुई बारिश की बूंदों को
मोहब्बत की कहानी सुनानी है..

इन वादियों में मुझे तुम्हारे संग
अपनी जिंदगी बितानी है..!

-Santosh

barasti hui barish ki bundon ko
mohabbat ki kahani sunani hai..
in vaadiyon mein mujhe tumhare sang
apni jindagi bitani hai..!

24)

आओ जानेजां, प्यार में अब ना तरसाओ..

इन वादियों में मुझसे मिलने चले आओ..

-Supriya

aao jaaneja, pyar mein ab na tarsaao..
in vaadiyon mein mujhse milane chale aao..

25)

चांदनी सी चमक तुम्हारे
चेहरे पर निखर गई..

न जाने वादियों की
महक कहां बिखर गई..

-Dipti

chandni si chamak tumhare
chehre par nikhar gayi..
na jaane vaadiyon ki
mahek kahan bikhar gayi..

26)

जानेमन, तुम्हारी धड़कनों में
मोहब्बत की सांसे भरता हूं..

आज इन वादियों में अपने
प्यार का ऐलान करता हूं..

-Santosh

jaaneman, tumhari dhadkanon mein
mohabbat ki sanse bharta hun..
aaj in vaadiyon mein apne
pyar ka elaan karta hun..

YOU MAY LIKE THESE POSTS:

हमारी इन वादियों से प्रेरित वादियां शायरी को सुनकर अगर आपके दिल में भी अपने महबूब के लिए प्यार उमड़ आया हो, तो हमें नीचे कमेंट सेक्शन में कमेंट करते हुए जरूर बताइएगा.

फेसबुक पर शायरी के अपडेट्स पाने के लिए इस शायरी सुकून पेज को Like जरूर करें.

3 Comments

  1. Rishabh Punekar April 19, 2021
  2. Sanket April 19, 2021
  3. Aniruddh Narkhedkar April 21, 2021

Add Comment