Sad

Best 40+ Rula Dene Wali Shayari पढ़कर आप रोने पर मजबूर होंगे

You will find the best Rula Dene Wali Shayari for your sad emotions. Once you scroll through these 40+ Shayaries, your tear will automatically start rolling down on your cheek. These are the best collection you will find on the internet.

दोस्तों आशिक अपनी बेवफा चाहत का सिला जब भी याद करता है. उसके दिल को बहुत ज्यादा दुख होता है. क्योंकि उसने अपनी दिलबरा से जिस कदर टूट कर मोहब्बत की थी. उसे इस बात की उम्मीद थी कि उसका महबूब भी उसे इसी तरह चाहेगा. मगर प्यार में देखा हुआ उसका यह सपना आखिर सपना ही रह गया. क्या आपने भी कभी चाहत में Rula Dene Wali Shayari जैसा एहसास किया है दोस्तों?

Table of Content

  1. Rula Dene Wali Shayari Status – रुला देने वाली शायरी स्टेटस
  2. Dil Ko Rula Dene Wali Shayari In Hindi – दिल को रुला देने वाली शायरी इन हिंदी
  3. Rula Dene Wali Shayari In Hindi – रुला देने वाली शायरी इन हिंदी
  4. Rula Dene Wali Shayari Image – रुला देने वाली शायरी इमेज
  5. Rula Dene Wali Shayari – रुला देने वाली शायरी
  6. Conclusion

तो चलिए दोस्तों हम बिना देर किए बढ़ते हैं हमारी आज की दिल तोड़ देने वाली शायरी की ओर! हमें यकीन है कि आप भी आज के हमारे Rula Dene Wali Shayari, दिल को चुभ जाने वाली शायरी की पोस्ट को बहुत पसंद करेंगे. साथ ही आप हमारे शायरी सुकून को Whatsapp, Facebook एवम Instagram पर भी जरूर फॉलो करें.

Rula Dene Wali Shayari Status – रुला देने वाली शायरी स्टेटस

Rula Dene Wali Shayari Status रुला देने वाली शायरी स्टेटस
Rula Dene Wali Shayari Status
1)

तुझ से मोहब्बत तो
अब मुझे ता उम्र होगी..

दुनिया में इंतजार की
अब नई मिसाल बनेगी..

-Vrushali

tujhse mohabbat to
ab mujhe ta umra hogi..
duniya mein intezar ki
ab nai misaal banegi..

2)

दिल के करीब रहने वाले ही
दिल में तीर की तरह चुभने लगे..

हर दफा, हर अल्फाज़ में
हम उनके गुनहगार जो बन गए..

-Vrushali

dil ke kareeb rahane wale hi
dil mein teer ki tarah chhubbane lage..
har dafa, har alfaaz mein
ham unke gunehgaar jo ban gaye..

Rula Dene Wali Shayari Status की मदद से आशिक अपने दिल के सबसे करीबी इंसान की बातों का बुरा मान लेता हैं. उसे लगता है कि उसकी छोटी बात भी उसे दर्द दे सकती हैं. मगर यह तो आशिक के प्यार की गलती ही होती है. जो उसका महबूब इस कदर उससे नाराज हो जाए. शायर को ऐसा लग रहा हैं को उसके अल्फाज भी अब उसे गुनहगार साबित करने लगे हैं. अब वो बात भी कैसे करें.

Dil Ko Rula Dene Wali Shayari In Hindi – दिल को रुला देने वाली शायरी इन हिंदी

3)

तुझसे क्या शिकायत करू,
हर दर्द तुझे मैंने ही तो दिया हैं..

बस गिला इस बात का हैं की
मेरी मोहब्बत ने तूझे जख्म दिया है..

-Vrushali

tujhse kya shikayat karun,
har dard tujhe maine hi to diya hai..
bus gila is baat ka hai ki
meri mohabbat ne tujhe jakhm diya hai..

4)

इतनी फिक्र थी उसे, आंखें
नम भी होती, तो खुशी से होती..

अब तो मुस्कुराहट भी आती हैं,
तो मेरी आह छुपा देती हैं..

-Vrushali

itni fikra thi use, aankhen
nam bhi hoti, to khushi se hoti..
ab to muskurahat bhi aati hai
to meri aah chhupa deti hai..

Dil Ko Rula Dene Wali Shayari In Hindi की मदद से दिल पर अपनी महबूबा की चाहत की फिक्र तो करता रहता है. लेकिन उसका जिक्र वह कभी करना नहीं चाहता है. और वो शायद उसकी कमी कभी पूरी नहीं कर पाएगा. और इसी वजह से अब वह हमेशा दुखी ही रहता है.

Rula Dene Wali Shayari In Hindi – रुला देने वाली शायरी इन हिंदी

5)

मेरे इश्क का लम्स इतना गहरा हैं के,

तूझे मुझसे जुदा होने ही नहीं देता..

-Vrushali

mere ishq ka lams itna
gehra hai ke..
tujhe mujhse judaa
hone hi nahin deta..

6)

गमों का सबब पूछते हैं
सभी दुनिया वाले..

कहीं बदनाम ना हो जाए तू,
लब खामोश है..

gamon ka sabab puchte hain
sabhi duniya wale..
kahin badnam na ho jaaye tu,
lab khamosh hai..

Rula Dene Wali Shayari In Hindi की मदद से प्रेमी अपने दर्द का कारण अपने यार की बेवफाई को बताना चाहता है. मगर वह उसकी बदनामी भी तो नहीं होने देना चाहता है. शायद उसकी मोहब्बत ही कम पड़ गईहै जो उसे अपने यार के मिले दर्द का अहसास कर रही है.

Rula Dene Wali Shayari Image – रुला देने वाली शायरी इमेज

Rula Dene Wali Shayari Image रुला देने वाली शायरी इमेज
Rula Dene Wali Shayari Image
7)

कुछ ऐसे ही चलेगा अब
रिश्ता हमारा जिंदगी भर..

मिलें तो बातें ना रूके,
ना मिले तो यादें ना थमें..

kuchh aise hi chalega ab
rishta hamara jindagi bhar..
mile to baaten na ruke,
na mile to yaaden na thamen..

8)

कैसी बनाई दुनिया तूने,
कैसी ये चाहत है, या खुदा..

जिसे समझो जिंदगी अपनी,
दामन वही छुड़ाके, होता है जुदा..

kaisi banai duniya tune,
kaisi yeh chahat hai, ya khuda..
jise samjho jindagi apni
daaman vahi chhudake, hota hai juda..

Rula Dene Wali Shayari Image की मदद से आशिक अपने बेवफा यार को कोसना चाहता हैं. क्योंकि वह बस अपनी महबूबा को देख कर ही तो जी रहा था. उसके आंखों से एक आंसू तक झलकने नहीं देता था. हर खुशी उसकी झोली में डालता रहता था. पर जैसे वक्त के बदलते उसका दिलबर भी बदल चुका था. और उसकी खुशियां भी जैसे कब की गम में बदल चुकी थी.

Rula Dene Wali Shayari – रुला देने वाली शायरी

9)

तुझे मुझसे बेहतर तो जरूर मिलेगा..

मगर वो सुकून दिलाने वाला कहां होगा..?

tujhe mujhse behtar to jarur milega
magar vah sukun dilane wala kahan hoga..?

10)

बेचैनियां कितनी है
जेहन में तुझको लेकर..

मगर सुकून भी नहीं कहीं,
जो मिला था तुझे पाकर..

bechainiya kitni hai
jahan mein tujhko lekar..
magar sukun bhi nahin kahin
jo mila tha tujhe pakar..

Rula Dene Wali Shayari को सुनकर आशिक अपनी महबूबा की यादों में खो जाना चाहता हैं. उसे लगता है कि प्यार किसी को भी जिंदगी भर के लिए कैद कर सकता हैं. पत्थर से पत्थर दिल इंसान को भी मोम की तरह पिघला सकता हैं. क्योंकि दो जिस्म जुदा हो सकते हैं. लेकिन उसके बाद भी रूहें जुड़ी रहती हैं.

11)

रुला देने वाली बातें
तुम हर रोज क्यों करती हो..

आंखों से मेरे अश्क
तुम रोज क्यों बहाती हो..

-Vrushali

rula dene wali baten
tum har roj kyon karti ho..
aankhon se mere ashq
tum roj kyon bahati ho..

12)

न जाने क्यों आज वो मुझे
अलविदा कह रहे हैं..

बहुत हंसा दिया दिल को,
आज मगर रुला रहे हैं..

-Santosh

na jaane kyon aaj vo mujhe
alvida kah rahe hain..
bahut hasa diya dil ko,
aaj magar rula rahe hain..

13)

आपसे एक मुलाकात
हमारा हसीन ख्वाब है..

मगर बदकिस्मती हमारी,
दिल में हमारे सुराख है..

-Vrushali

aapse ek mulakat
hamara haseen khwab hai..
magar badkismati hamari,
dil mein hamare surakh hai..

14)

दिल की बात बताने के लिए
तुम किसी गैर को बुला लेते हो..

न जाने क्यों बात बात पर
अब तुम मुझे रुला देते हो..

-Gauri

dil ki baat batane ke liye
tum kisi gair ko bula lete ho..
na jaane kyon baat baat per
ab tum mujhe rula dete ho..

15)

रुला देने वाली मेरी हकीकत
मैं हर किसी को बयां नहीं करता..

मगर हंसा देने वाले किस्से
मैं हर किसी को हूं सुनाता..

-Vrushali

rula dene wali meri haqiqat
main har kisi ko baya nahin karta..
magar hasa dene wale kisse
main har kisi ko hun sunata..

16)

किसी और से प्यार करना ही
जरूरत बन गई है उनकी..

मेरे दिल को रुला देना ही
फितरत बन गई है उनकी..

-Kavya

kisi aur se pyar karna hi
jarurat ban gai hai unki..
mere dil ko rula dena hi
fitrat ban gai hai unki..

17)

प्यार की मेरे बन गई
एक रुला देने वाली कहानी..

कैसे बयां करूं जज्बात अपने
देखो यह आ गई शाम सुहानी..

-Vrushali

pyar ki mere ban gayi
ek rula dene wali kahani..
kaise bayan karun jajbat apne
dekho yah aa gayi sham suhani..

18)

बख्श दो ओ बेवफा,
और कितना मुझे सताओगे..

जितना मुझे रुलाओगे,
उतना ही तुम पछताओगे..

-Gauri

baksh do o bewafa,
aur kitna mujhe sataoge..
jitna mujhe rulaoge,
utna hi tum pachhataoge..

19)

आपसे हमें मोहब्बत हो गई
एक दर्द भरे सफर की शुरुआत हो गई..

आपसे मुलाकात थी नामुमकिन
आशिक को तड़पने की वजह मिल गई..

-Vrushali

aapse hamen mohabbat ho gayi
ek dard bhare safar ki shuruaat ho gayi..
aap se mulakat thi namumkin
aashiq ko tadapne ki vajah mil gayi..

20)

दिल को मेरी धड़कन से जुदा कर गई..

जिंदगी ही आज मुझे अलविदा कह गई..

-Santosh

dil ko meri dhadkan se juda kar gai..
jindagi hi aaj mujhe alvida kah gai..

21)

अंगारों पर चलकर हम
आपके महल तक आए हैं..

लहू से लथपथ दिल अपना
हथेली पर लेकर आए हैं..

-Vrushali

angaron par chalkar ham
aapke mahal tak aaye hain..
lahu se lathpath dil apna
hatheli per lekar aaye hain..

22)

कैसे समझाएं किसी को के
मोहब्बत से रिश्ता टूट गया है..

अब तो हमेशा के लिए ही
मेरा यार मुझसे रूठ गया है..

-Kavya

kaise samjhaye kisi ko ke
mohabbat se rishta tut gaya hai..
ab to hamesha ke liye hi
mera yaar mujhse rooth gaya hai..

23)

अजनबी जिंदगी के सफर में
अब अकेला छोड़ दिया है..

अनजाने में उस बेवफा ने
मेरा दिल ही तोड़ दिया है..

-Gauri

ajnabi zindagi ke safar mein
ab akela chhod diya hai..
anjane mein use bewafa ne
mera dil hi tod diya hai..

24)

जानता हूं मेरी जिंदगी में
तू मेहमान नहीं है..

मगर तुम्हें भुला देना
इतना आसान नहीं है..

-Santosh

jaanta hun meri jindagi mein
tu mehman nahin hai..
magar tumhen bhula dena
itna aasan nahin hai..

25)

ओ बेवफ़ा, तुम्हारे लिए
मेरे दिल में प्यार सच्चा था..

मगर मेरा साथ छोड़ने का
तुम्हारा इरादा पक्का था..

-Kavya

o bewafa, tumhare liye
mere dil mein pyar saccha tha..
magar mera sath chhodane ka
tumhara irada pakka tha..

26)

तड़प रहा था मैं प्यार में
तुम्हारी जरूरत यहां थी..

मगर तुम्हें मोहब्बत मेरी
आजमाने में फुर्सत कहां थी..

-Gauri

tadap raha tha main pyar mein
tumhari jarurat yahan thi..
magar tumhe mohabbat meri
aajmane mein fursat kahan ki..

27)

दिल को करार मिलता मेरे अगर
मोहब्बत को जान लिया होता..

काश तुमने एक बार ही सही
मगर मुझे परख लिया होता..

-Santosh

dil ko karar milta mere agar
mohabbat ko jaan liya hota..
kash tumne ek bar hi sahi
magar mujhe parakh liya hota..

28)

ना चाहते हुए भी चाहत में
अब तुमसे दूर जा रहे हैं हम..

रुला दिया है तूने तो यह दर्द
बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं हम..

-Kavya

na chahte hue bhi chahat mein
ab tumse dur ja rahe hain ham..
rula diya hai tune to yah dard
bardasht nahin kar pa rahe hain ham..

29)

बेफिक्र तेरी मोहब्बत ने
अब हमें भुला दिया..

माफ नहीं करेंगे तुम्हें
जो हमें रुला दिया..

-Gauri

befikr teri mohabbat ne
ab hamen bhula diya..
maaf nahin karenge tumhen
jo hame rula diya..

30)

ना सुनूंगा, अब तो खुद के
दिल को ही मैं रुला दूंगा..

मोहब्बत में मुझे भूलने की
सजा तो तुम्हें जरूर दूंगा..

-Santosh

na sununga, ab to khud ke
dil ko hi main rula dunga..
mohabbat mein mujhe bhulne ki
saja to tumhen jarur dunga..

31)

बहुत रो लिया चाहत में
अब तन्हाई में ही रहना है..

जुदाई का ये सिलसिला
अब यहीं ख त्म करना है..

-Kavya

bahut ro liya chahat mein
ab tanhai mein hi rahna hai..
judaai ka ye silsila
ab yahi kha tm karna hai..

32)

अपने सच्चे प्यार को ही
अब मैं कोसता रहूंगा..

दर्द मिले चाहे फिर भी
तुम्हें दुआएं ही दूंगा..

-Gauri

apne sacche pyar ko hi
ab main kosta rahunga..
dard mile chahe fir bhi
tumhen duaaen hi dunga..

33)

बीते दिनों की तेरी यादें ही
मेरे दिल को रुलाती रही है..

जुदाई की ये आंधी अब
मेरे जीवन से जाती नहीं है..

-Santosh

beete dinon ki teri yaden hi
mere dil ko rulati rahi hai..
judaai ki ye aandhi ab
mere jivan se jaati nahin hai..

34)

बर्खास्त कर दो अब तन्हा महफिल को..

कैसे समझाऊं मैं इस रोते हुए दिल को..

-Kavya

barkhast kar do ab tanha mahfil ko..
kaise samjhaau mai is rote hue dil ko..

35)

तनहाई में मेरा दिल अबतक
तेरे बगैर आहें भरता रहा..

रोता रहा और खुद को ही
मैं खामोश करता रहा..

-Gauri

tanhai mein mera dil abtak
tere bagair aahen bharta raha..
rota raha aur khud ko hi
main khamosh karta raha..

36)

जान गया हूं बेवफा
ये तेरी झूठी चाहत है..

प्यार में धोखा देना ही
महबूबा की फितरत है..

-Santosh

jaan gaya hun bewafa
ye teri jhuthi chahat hai..
pyar mein dhokha dena hi
mehbooba ki fitrat hai..

37)

अपने रोते हुए दिल का हाल
किसी को जता नहीं सकता..

कितने धोखे खाए हैं आज तक
इस दिल ने बता नहीं सकता..

-Kavya

apne rote huye dil ka hal
kisi ko jata nahin sakta..
kitne dhokhe hain aaj tak
is dil ne bata nahin sakta..

38)

उसकी झूठी चाहत मेरे
दिल को जलाती रही..

जिंदगी हर मोड़ पर
मुझे बस रुलाती रही..

-Gauri

uski jhuthi chahat mere
dil ko jalati rahi..
jindagi har mod per
mujhe bus rulati rahi..

39)

होकर तन्हा उसी की
यादों में खोए जा रहा हूं..

दिन-रात दिल को लेकर
मैं बस रोए जा रहा हूं..

-Santosh

hokar tanha usi ki
yadon mein khoye ja raha hun..
din-raat dil ko lekar
main bus roye ja raha hun..

40)

साथ निभा नहीं सकते थे तो,
अपना बनाने की जरूरत क्या थी..

प्यार नहीं था तो बता देते हमें,
दिल को रुलाने की जरूरत क्या थी..

-Kavya

sath nibha nahin sakte the to,
apna banane ki jarurat kya thi..
pyar nahin tha to bata dete hamen,
dil ko rulane ki jarurat kya thi..

41)

सूनी महफिल में खुद के
गीत कैसे गाऊं मैं..

दिल के आशियाने को
अब कैसे समझाऊं मैं..

-Gauri

suni mahfil mein khud ke
geet kaise gaun main..
dil ke aashiyane ko
ab kaise samjhaun main..

42)

चाहत में मुझ पर उसने
आख़िर क्यों जुल्म किया..

रुला कर मेरे दिल को
उसने बड़ा जुर्म किया..

-Kavya

chahat mein mujh par usne
aakhir kyon zulm kiya..
rula kar mere dil ko
usne bada zurm kiya..

YOU MAY LIKE THESE POSTS:

Conclusion

रुला देने वाली शायरी की मदद से अपनी महबूबा की यादों में आशिक अब अपने आंसू बहाता रहता है. और अपने दिलबर की प्यारी बातों को याद कर, उसकी बेवफाई पर खुद को ही कोसता रहता है. क्या उसका ऐसा करना लाजमी है दोस्तों? Rula Dene Wali Shayari को सुनकर अगर आप भी अपनी दिलरुबा से मिलन के लिए तरस उठो. तो हमें comments area में comment करते हुए जरूर बताईये. हमारी पोस्ट को शेयर करने के लिए धन्यवाद!

शायरी सुकून की बेहतरीन शायरियों को अपने फेसबुक पर प्राप्त करने के लिए इस शायरी सुकून पेज को Like और Share जरूर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.