Zindagi Sad Shayari -13 : Wasim Barelvi Shayari

Zindagi Sad Shayari : दोस्तों, आज हम आपको जिंदगी की सच्चाई और असलियत बताने वाली ज़िंदगी सैड शायरी लेकर आए हैं. जो बहुत ही बेहतरीन और होनहार शायर वसीम बरेलवी जी ने लिखी हुई है.

इन्हें पढ़कर आप अपने महबूब और अपने प्यार के साथ की हुई बात को जरूर याद करोगे. और साथ ही आप जिंदगी की हर एक अंदाज़ को फिर एक बार परखना चाहोगे. ताकि आपको कभी भी जिंदगी के किसी मोड़ पर किसी बात का अफसोस ना हो पाए.

और फिर भी अगर आप जिंदगी से शर्मिंदा है. तो आपको हमारी आज की ये Zindagi Sad Shayari की पेशकश तहे दिल से सुनना चाहिए. ताकि आप को जिंदगी का सही तजुर्बा मिल सकें.

✤ शायरी सुनने के लिए ✤
♫ Player लोड होने दें ♫


वसीम बरेलवी साब की इन जिंदगी की हकीकत बताने वाली शायरियों को Vrushali Suvarna Dnyandev इनकी आवाज में सुनकर निशब्द हो जाओगे!

तो चलिए दोस्तों अब बिना देर किए हमारे इस Wasim Barelvi Shayari को सुनें. और अगर आपको यह शायरियां बहुत पसंद आए. तो आप इन्हें अपने चहेते इंसान के साथ भी जरूर साझा कर सकते हैं.

Zindagi Sad Shayari

यह अलग बात है दिखाई ना दे
मगर शामिल जरूर होता है..

खुदकुशी करने वाले का भी
कोई कातिल जरूर होता है..

ye alag baat hai dikhai na de
magar shamil jarur hota hai
khudkushi karne wale ka bhi
koi katil jarur hota hai

अगर आपने आज तक वसीम बरेलवी साहब की शायरी नहीं सुनी है. तो आपके पास हम एक सुनहरा मौका लेकर आए हैं. आज हम आपको उनकी बहुत ही खूबसूरती से लहजे हुए और दिल में उतरने वाले शेर लेकर आए हैं. हमें यकीन है कि आपको यह शेर बहुत पसंद आएंगे.

क्योंकि वे उनके अलग-अलग शेर में बहोत गहरी बातें बताते हैं. उन्हें लगता है कि जब कोई प्रेमी खुदकुशी कर लेता है. तब उसके पीछे भी किसी ना किसी का हाथ जरूर होता है. क्योंकि वही उसके खुदकुशी का कारण बना होता है. और उसे ही कातिल कहा जा सकता है.

आपको देख कर देखता रह गया
क्या कहूँ और कहने को क्या रह गया..

आते-आते मेरा नाम-सा रह गया
उस के होंठों पे कुछ काँपता रह गया..

aapko dekh kar dekhta reh gaya
kya kahun aur kahane ko kya raha gaya
aate aate mera naam sa rah gaya
uski hothon per kuchh kapatta raha gaya

Zindagi Sad Shayari की मदद से आप जिंदगी को अलग नजरिए से जरूर देखना चाहोगे. और साथ ही कोई भी प्रेमी जब आपने यार को नजरें भर कर देखना चाहता है. तब उसकी नजरें और दूसरी जगह दिखती ही नहीं है.

वह अपने महबूब को देखकर बस हक्का-बक्का ही रह जाता है. क्योंकि उसकी आंखों की चमक ही उसके नजरों को खुद की तरफ रोक लेती है. और उसके बाद उस प्रेमी के पास बोलने के लिए कोई लफ़्ज ही बाकी नहीं रहता है.

Zindagi Sad Shayari Hindi

मैं इस उम्मीद पे डूबा के तू बचा लेगा
अब इस के बाद मेरा इम्तेहान क्या लेगा..

मैं बुझ गया तो हमेशा को बुझ ही जाऊँगा
कोई चराग़ नहीं हूँ जो फिर जला लेगा..

main is ummid per dooba ke tu bacha lega
ab iske bad mera imtihaan kya lega
main bujh gaya to hamesha ko bujh hi jaunga
koi charag nahin ho jo fir jala lega

कोई भी प्रेमी अपने दिलबर से यूं ही नहीं रूठा करता. कभी-कभी वह उसका इंतिहान लेने के लिए भी ऐसा कर सकता है. लेकिन अगर कोई खुद होकर डूबने का इम्तिहान ले. और उसका यार उसे बचाने के लिए अगर ना आए.

Zindagi Sad Shayari Image -2

Zindagi Sad Shayari Hindi
Zindagi Sad Shayari Hindi

तो उसे खुद होकर पानी से बाहर भी आने का मन नहीं होगा. क्योंकि उसके मन को यही विचार खाएगा कि आखिर उसका यार उसे बचाने क्यों नहीं आया? अगर उसके महबूब को उस से तहे दिल से प्यार होता. तो वह उसे बचाने की कोशिश जरूर करता.

अपने हर इक लफ़्ज़ का ख़ुद आईना हो जाऊँगा
उस को छोटा कह के मैं कैसे बड़ा हो जाऊँगा..

मुझ को चलने दो अकेला है अभी मेरा सफ़र
रास्ता रोका गया तो क़ाफ़िला हो जाऊँगा..

apni har ek lafz ka khud aaina ho jaunga
usko chhota karke mein kaise bada ho jaunga
mujhko chalne do akela hai abhi mera safar
rasta roka gaya to kafila ho jaunga

Zindagi Sad Shayari Hindi को सुनकर जिंदगी की सच्चाई पता चल जाएगी. क्योंकि आशिक अपना दिल टूटने के बाद भी अब कमजोर नहीं है. वह तो खुद अपनी कही हुई बात को पूरा करने की अब तहे दिल से कोशिश करता है.

क्योंकि उसे पता है कि जो इंसान अपने ही लफ्जों को महत्व दे. दुनिया उसी को सलाम करती है. और साथ ही उसके मन में अब अकेले चलने का भी हौसला आ चुका है. लेकिन अगर कोई उसका रास्ता भी रोकना चाहे. तो काफिला बनकर उस रास्ते को पार करना चाहता है.

Zindagi Sad Shayari In Urdu

क्या दुःख है समंदर को बता भी नहीं सकता
आँसू की तरह आँख तक आ भी नहीं सकता..

तू छोड़ रहा है, तो ख़ता इस में तेरी क्या
हर शख़्स मेरा साथ, निभा भी नहीं सकता..

kya dukh hai samandar ko bata bhi nahin sakta
aansu ki tarah aankh tak aa bhi nahin sakta
tu chhod raha hai to khata ismein teri kya
har shaks mera sath nibha bhi nahin sakta

किसी दिल टूटे हुए आशिक के दिल में कितना दर्द होता है. इस बात को शायद वह कभी कह भी नहीं पाता है. और सुनने वाला भी उस पर कभी भरोसा नहीं कर पाता है. शायद इसी वजह से वह आशिक अपने दिल के गम को ना समंदर से कह पाता है और ना ही आसमान से कह पाता है.

लेकिन वो दर्द उसके दिल को जैसे चुभते रहता है. और आंखों में आंसू बनकर भी नहीं आ पाता है. उसे इस बात का गम नहीं है कि उसका महबूब उसे छोड़कर जा रहा है. लेकिन वह अपने ही नसीब को कोसता है कि कोई भी उसका साथ निभा नहीं पाया है.

मैं अपने ख़्वाब से बिछ्ड़ा नज़र नहीं आता
तू इस सदी में अकेला नज़र नहीं आता..

मैं तेरी राह से हटने को हट गया लेकिन
मुझे तो कोई भी रस्ता नज़र नहीं आता..

main apne khwab se bichhada najar nahin aata
tu is sadi mein akela najar nahin aata
main teri raah se hatne ko hat gaya lekin
mujhe to koi bhi rasta najar nahin aata

Zindagi Sad Shayari In Urdu की मदद से आप जिंदगी को एक हसीन ख्वाब बनाना चाहोगे. लेकिन किसी आशिक का ख्वाब कभी कभी अधूरा ही रह जाता है. और वह अपने यार को हमेशा अपने सपनों में ढूंढते रहता है.

लेकिन उसे कभी-कभी उसके ख्वाबों से मिलता जुलता उसके यार का चेहरा नहीं लगता है. और जब वह अपने दिलबर के जिंदगी से चला जाता है. तब वह इस बात को जरूर उससे कहता है. जब वह उसे छोड़कर चला गया था. तो उसे अपने यार के जिंदगी के भी सभी रास्ते बंद ही नजर आए थे.

Zindagi Sad Shayari 2 Line

क्या बताऊं कैसे ख़ुद को दर-ब-दर मैंने किया
उम्र भर किस-किस के हिस्से का सफ़र मैंने किया..

तू तो नफ़रत भी न कर पाएगा उस शिद्दत के साथ
जिस बला का प्यार तुझ से बे-ख़बर मैंने किया..

kya bataun kaise khud ko dar badar maine kiya
umra bhar kis kis ke hisse ka safar maine kiya
tu to nafrat bhi na na kar payega use shiddat ke sath
jis bala ka pyar tujhse badi khabar maine kiya

न जाने कोई आशिक अपने टूटे हुए दिल के साथ किस तरह जिंदगी गुजारता है. क्योंकि उसके जीवन में अपने यार के सिवा आज तक कोई नई बात नहीं थी. लेकिन आज उसकी हर पल में बस तनहाई ही भरी पड़ी है. और इसी वजह से वह अपने दुख को ना किसी को बता पाता है.

और ना ही किसी से अपने गम का बटवारा कर सकता है. वह जिस तरह से जिंदगी भर हर एक इंसान का साथ देता आया है कुछ तो उसे हमेशा यही बात सताती रहती है. काश उसका भी कोई ऐसा ही जिंदगी भर साथ देने वाला इंसान होता तो कितना अच्छा होता.

कहाँ तक आँख रोएगी कहाँ तक किस का ग़म होगा
मेरे जैसा यहाँ कोई न कोई रोज़ कम होगा..

तुझे पाने की कोशिश में कुछ इतना रो चुका हूँ मैं
कि तू मिल भी अगर जाये तो अब मिलने का ग़म होगा..

kahan tak aankh royegi kahan tak kiska gam hoga
mere jaisa yahan koi na na koi roj kam hoga
tujhe pane ki koshish mein kuchh itna ro chuka hun main
ki tu mil bhi jaaye to ab milane ka gam hoga

Zindagi Sad Shayari 2 Line को सुनकर आपकी आंखें जरूर रो देगी. क्योंकि आशिक अपने दिल के गम को छुपा नहीं पाता है. और चाहे कितना भी रोने की कोशिश करें. उसकी आंखों से आंसू बिल्कुल भी नहीं आते हैं. क्योंकि उसका दिल अब पूरी तरह से भर चुका है.

और वह जिंदगी की इस तन्हाई से भी पूरी तरह से हो चुका है. उसे इस बात का पूरा यकीन है कि उसके जैसे कई लोग रोज आते जाते रहते हैं. और इसी में वह अपने दिलबर की यादों में न जाने कितना रोया है. अगर उसका महबूब अब पछतावा करते हुए उसके पास भी आ जाए. तो आशिक अपने दिलबर को कभी माफ नहीं कर पाएगा.

Zindagi Sad Shayari Image

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते
इसीलिए तो तुम्हें हम नज़र नहीं आते..

मुहब्बतों के दिनों की यही ख़राबी है
ये रूठ जाएँ तो फिर लौटकर नहीं आते..

tumhari raah mein mitti ke ghar nahin aate
isiliye to tumhen ham najar nahin aate
mohabbaton ke dinon ki yahi kharabi hai
yah ruth jaaye to fir laut kar nahin aate

आशिक अपने दिलबर को प्यार में सच्चे बोल बोलना चाहता है. और महबूब को अपने मोहब्बत की सच्चाई भी बताना चाहता है. क्योंकि उसका यार बड़े महलों में रहने वाला है. और यह आशिक अपनी मिट्टी के घरों की गली कभी छोड़ नहीं पाया है. और शायद इसी वजह से जब भी उसका दिल भर किसी रास्ते से गया होगा.

तो आशिक के घर की गलियों से वह कभी गुजरा ही नहीं है. और इसी वजह से शायद उसे आशिक के दिल के हालात की सच्चाई पता नहीं है. और इसी वजह से आशिक अपने यार से मोहब्बत को कभी रूठने ना देने की हिदायत देना चाहता है. क्योंकि उसे पता है कि अगर एक बार चाहत किसी पर उठ गई. तो उसका वापस जुड़ जाना मुमकिन नहीं होगा.

अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपायें कैसे
तेरी मर्ज़ी के मुताबिक नज़र आयें कैसे..

घर सजाने का तस्सवुर तो बहुत बाद का है
पहले ये तय हो कि इस घर को बचायें कैसे..?

apne chehre se jo jahir hai chupaye kaise
teri marzi ke mutabiq nazar aaye kaise
ghar sajane ka tasawwur to bahut bad ka hai
pahle yah tay ho ki ki is ghar ko bachaye kaise

Zindagi Sad Shayari Image 3

Zindagi Sad Shayari in Urdu
Zindagi Sad Shayari in Urdu

Zindagi Sad Shayari Image की मदद से अपनी जिंदगी की तुलना करना चाहोगे. क्योंकि कोई भी इंसान खुद का असली किरदार कभी छुपा नहीं पाता है. और उसे अपने इस असली स्वभाव से कभी दूर भागना भी नहीं चाहिए.

क्योंकि जिंदगी से झूठ कहते हुए कोई भी बहुत दूर तक नहीं जा सकता है. और उसे कभी ना कभी जिंदगी की सच्चाई का सामना करना ही पड़ता है. और इसी वजह से आप किसी और के कहने के मुताबिक खुद को ढाल नहीं पाते हो. और इसीलिए आपको अपने सच्चे किरदार को पहचान कर उसके ही तहत जीना होगा.


Zindagi Sad Shayari -12: Status On Life In Hindi
Click above link to listen more


वसीम बरेलवी साहब की लिखी हुई यह Zindagi Sad Shayari -13 आपको कैसी लगी? हमें comment area में feedback देकर जरूर बताइये.

शायरी सुकून का Whatsapp चैनल ज्वॉइन करने के लिए ‘START’ यह मैसेज +91 77096 36288 OR +91 90495 96834 इस वॉट्सएप नंबर पर सेंड कीजिए, आपकी सेवा 24 घंटो के भीतर चालू होगी.

फेसबुक पर शायरी के अपडेट्स पाने के लिए इस शायरी सुकून पेज को Like जरूर करें.

5 thoughts on “Zindagi Sad Shayari -13 : Wasim Barelvi Shayari”

  1. वाह वृषाली मैम
    वसीम बरेलवी साब की शायरियों को आपकी आवाज़ में सुनते हुए सचमुच जिंदगी की सच्चाई नज़र आ रही है 😊👌👌

  2. Very beautiful Ma’am and you expressed also very beautifully and nicely in your very sweet voice👌👌👌liked it!!

    Regards,
    Sameera urf Manpreet

Leave a Comment