Shayari Sukun Presents

Barish Shayari

by shayarisukun.com

tap screen for next slide

अगले स्लाइड के लिए स्क्रीन टैप करें

अहसान उस का मेरी ज़िंदगी पर था कर्ज़ उस का मेरी हर खुशी पर था बारिशों में गम की छोड़ गई तनहा दुःख का साया मेरी हर हँसी पर था -Moeen

ज़िंदगी ने हर डगर का सफर कराया हैं काँटों ने राहत बख्शी गुलों ने तड़पाया हैं कहीं इलज़ाम के तूफान कहीं दुखों की बारिशें बड़ी मुश्किल से किरदार का आईना बचाया हैं -Moeen

शायद अब हम कभी बारिशों में मिले तेरे दिल में प्यार की ज़ंजीर फिर हिले सावन की सुहानी रातों में याद किया तुझे देख मेरी आँखों में कितने हसीन फुल खिले *यहाँ आँखों में फुल खिलने से मुराद अश्क हैं…

बारीश हो तो कई अरमान मचलते हैं शमा की तरह तेरी यादों में जलते हैं मुद्दतें गुज़री इधर मैं हुँ बेकरार बहोत सुना हैं उधर वो भी करवटें बदलते हैं -Moeen

तुम ने कहा था हम मिलेंगे बारिशों में सोचते रहे रौशनी होगी फिर अंधियारों में कई सावन गुज़ार दिए तेरे इंतज़ार में तुझ बिन दिल तड़पता हैं अब बहारों में -Moeen

तुम किस वफा की बात करते हो जीने की तमन्ना में हर दम मरते हो तुम्हारी आँखों की बारीश कहती हैं दिल की बात कहने से तुम डरते हो -Moeen

काश मैं वक़्त रहते सँवर गया होता तेरी आँखों में काजल सा बिखर गया होता बेवफाई की बारिशों ने मिटाया इश्क़ का निशाँ काश तू भी मेरे दिल से उतर गया होता -Moeen

रात दिन नाम तेरा हम लेते रहते हैं हसीन खयालों की भीड़ में खोए रहते हैं आसमान भी रो पड़ा मेरी दास्ताँ सुन कर नादान हैं ज़माने वाले इसे बारीश कहते हैं -Moeen

बहोत तड़पाता हैं मुझ से बिछड़ जाना तेरा याद आता हैं वो बारीश में कपकपाना तेरा बारिशों में मिटटी की खुशबू उसे पसंद थी मैं रो पड़ा जब याद आया मुस्कुराना तेरा -Moeen

बारिश का मौसम भी हम से रूठ गया बहारों में उस का साथ भी छूट गया.. अब क्यों मातम मनाते हो तुम, उसका वादा पानी का बुलबुला था, टुट गया.. -Moeen

Next web story

rain quotes in hindi

shayarisukun.com

swipe up for next story

शायरियां पढ़ने के लिए शुक्रिया!