takleef -1: Sad Shayari आपके दिल को हुई तकलीफें याद आ जाएगी

takleef shayari : जब आपको किसी बात की takleef होती है, तो आपका दिल बहुत दुखी होता है. क्योंकि वह takleef सिर्फ आपके शरीर को ही नहीं बल्कि आपके मन को भी तड़पाती है. लेकिन आपको तो दिल इतना सीधा साधा और भोला भला है कि आप खुद को चाहे कितनी भी हो, तो उसे आप सहन कर लोगे.

लेकिन आप किसी दूसरे को होती हुई takleef को कदापि बर्दाश्त नहीं कर सकते हो. taqleef अर्थात किसी के मन को या फिर शरीर को किसी कारणवश हुआ दुख, कष्ट, पीड़ा या फिर कोई आफत या मुसीबत कुछ इसी तरह का दुख, तकलीफ आपके दिलबर ने आपके मन को दी है. उसने जब आपका दिल तोड़ा था, तो आपको जैसे पूरा जहां याद आ गया था.

उस वक्त आपको जितनी taqleef हुई थी शायद आपने किसी और को इतनी taqleef में ना कभी देखा था और ना ही कभी सुना था. और इसी वजह से अब आपको यही बात समझ आ रही है कि चाहे जो भी हो जाए, इस तरह की तकलीफों को सहने की अब आपको आदत सी डाल लेनी पड़ेगी.

तुम्हारे जैसी नादान मोहब्बत, क्या समझेगी मेरी तकलीफ (takleef) को…

आपके दिल ने जितनी तकलीफ आज तक सही है, शायद ही उतनी taqleef किसी और ने सही होगी. लेकिन फिर भी आप खुद को इतना तजुर्बे वार नहीं मानते हो. क्योंकि आपको पता है कि आपको जितनी taqleef का तजुर्बा है, उससे शायद कहीं अधिक दुनिया में तकलीफ या फिर कष्ट रहने वाले लोग हैं.

और आपका दिलबर भी तो इतना नादान है, नासमझ है की वह आपके किसी भी पीड़ा में आपकी मदद नहीं कर रहा है. उल्टा वह आपको हर वक्त किसी ना किसी मुसीबत में ही डालते रहता है. और इसी वजह से अब आप यही सोच रहे हो कि उसे आपके हसने वाले चेहरे के पीछे का कोई दर्द शायद दिखता ही नहीं हो.

उसे तो हरदम यही लगता है कि आप का अंदाज बड़ा ही खुश मिजाज तरह का रहा है. लेकिन आप भी उस नादान दिल को एक बात समझाना चाहते हो कि आपके जितना दर्द शायद ही किसी ने सहा होगा.

एक आपके सिवा कौन था मेरी तकलीफों को समझने वाला..

जिस तरह के दुनिया ने दी हुई तकलीफों का सामना आज तक आप करते आ रहे हो, उसके आगे तो आपके दिलबर ने दी हुई किसी भी तकलीफ  की आपको कोई फिक्र नहीं हो रही है. आप एक बात तो जरुर जानते हो कि जितना आपके दिलबर ने आपकी आज तक फिक्र की है, उतना शायद ही कोई आपकी तकलीफ (takleef) को समझ पाया है.

जब जब आप किसी तकलीफ में पडे हो, आप तो आपने अपने आप को बहुत तनहा सा महसूस किया है. उन कई सारी takleef की वजह से, आपकी कई सारी मुसीबतों की वजह से तो जैसे आप का जीना दुश्वार ही हो गया था. इन सारी मुसीबतों को आप ना किसी से कह सकते थे और ना ही किसी को बता सकते थे. लेकिन उस वक्त आपके साथ बस आपका एक यार ही तो था जो आपके सारे दुख, दर्द को समझता था.

होता अगर कोई तकलीफों का आईना, हम उससे ही अपने दिल को समझाते…

जब भी आप किसी मुसीबत में फंसते थे, तो आप खूद अपने दिल को समझा-बुझाकर उसे और अधिक तड़पने से रोक लेते थे. या फिर आपका यार भी आपके साथ ही था, जो आपकी तकलीफ को समझते हुए आपको हर वक्त साथ देता था. लेकिन जब समंदर ही कश्ती को डूबा दे तो आप किससे अपने दर्द साझा करोगे.

जब राहगीर ही किसी राही को अनजान रिश्ते पर ले जाए तो आप किससे शिकायत करोगे? कुछ ऐसी ही परिस्थितियां आपके दिल पर आन पड़ी है. और इसी वजह से आप इन बातों की गिले-शिकवे किसी से नहीं कर सक रहे हो. आपके पास अब बस खुद के लिए और अपनी खुशियों के लिए दुआ करने के अलावा और कोई रास्ता भी तो नहीं है.

और अब आप सोच रहे हो कि शायद इन मुसीबतों को दिखाने वाला शायद कोई आईना होता तो आप उसे देखकर ही अपने दिल को समझा सकते थे. और पूरी दुनिया कि तकलीफों से खुद को बचा सकते थे. लेकिन यह भी तो अब मुमकिन नहीं हो पाता है.

इन दर्द भरी शायरियों को Mr. Aniruddh Narkhedkar इनकी आवाज़ में सुनकर अपने दिल की दर्द और तकलीफें बयां करना चाहोगे! ▶ PLAY NOW ▶

takleef shayari in hindi urdu thoughts

नासमज और नादान है वो
जो मेरे खुशमिज़ाज़ को देखती है..

जरा करीब आकर देख,
तेरे हर तकलीफ से वाकिफ हूँ मैं..

naasamajh aur nadan hai vo,
jo meri khush mijaj ko dekhti hai..
zara kareeb aakar dekh,
tere har takleef se waqif hu mai…

takleef-1-sad-shayari-painful-hindi-poetry-01
takleef-1-sad-shayari-painful-hindi-poetry-01

latest sad shayari collection 2020 thoughts quotes in hindi urdu

कुछ ऐसी तकलीफ में हूँ की
दुश्वार सा हो गया इसका जिक्र..

दर्द तो और बढ़ने लगा है की
तेरे सिवा नहीं किसे इसकी फिक्र..


kuchh aisi takleef mein hun ki
dushwaar sa ho gaya iska zikr..
dard to aur badhane laga hai ki
tere siva nahin kise iski fikra..

taklif sad shayari quotes whatsapp status poetry


काश कुछ ऐसा होता की
तकलीफ का कोई आईना होता..

जो अनजान वजह बन गया है
उसे यह दिख जाता, और मुझे बक्श देता..


kaash kuch aisa hota ki 
takleef ka koi aaina hota..
jo anjaan vajah ban gaya hai 
use yah dikh jata, aur mujhe bakhsh deta…

takleef-1-sad-shayari-painful-hindi-poetry-02
takleef-1-sad-shayari-painful-hindi-poetry-02

दोस्तों हमारी सैड शायरियों की मदद से अगर आपको भी अपने कष्टदायक तकलीफों की याद आ गई हो, तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करते हुए जरूर बताइएगा.

इसी तरह से आप हमारे Telegram channel को भी join कर सकते हैं, ताकि आपको रोज नायाब शायरियां मिल सकें. इसके लिए अपने Telegram में सर्च करें शायरी सुकून  या @shayarisukun और हमारे चैनल को तुरंत join करें. 24 घंटो के भीतर आपकी सेवा चालू होगी.

आपके Twitter पर हमारी हसीन शायरी अपडेट्स पाने के लिए हमारे शायरी सुकून केे अकाउन्ट को जरूर Follow करें.

इसी तरह और गम भरी शायरियोंके स्टेटस देखने के लिए यहाँ Sad Shayari क्लिक करें.

20 thoughts on “takleef -1: Sad Shayari आपके दिल को हुई तकलीफें याद आ जाएगी”

  1. सचमें अनिरुद्ध जी
    फिर एक बार आपकी दिल को छू जाने वाली बुलंद आवाज़ को सुनकर हम अपनी तकलीफ़ कुछ देर के लिए ही सही, भूल गए!
    बहोत ख़ूब

  2. These are genuinely enormous ideas in concerning blogging.
    You have touched some fastidious points here. Any way keep up wrinting

Leave a Comment