Latest Posts

Shayari On Aansu -2: Aankho Me Ashqon Ka Samundar

Shayari On Aansu : दोस्तों दुनिया में प्यार ही एक ऐसी चीज है जहां पर सब तरह की भावनाएं अपनी परिसीमा तक पहुंच सकती है. जब आशिक का यार उसके सामने होता है. तो आशिक की खुशी की कोई भी सीमा नहीं होती है. लेकिन अगर वही यार उसके दिल से किए हुए सारे वादों को तोड़ कर चला जाए. तो उसी आशिक के दर्द की कोई हद नहीं होती है.

कुछ इसी तरह से आशिक के दर्द को बयां करने वाली Shayari On Aansu पेश कर रहे हैं. ताकि आप भी आशिकों के दिल के उस दर्द को समझ पाए. और साथ ही अदालत आप भी अपने दिलबर के प्यार में पड़ गए हैं. तो इन बातों को याद रखते हुए हम नहीं चाहते कि आप कुछ गलतियां कर बैठे.

✤ शायरी सुनने के लिए ✤
♫ Player लोड होने दें ♫


आंसुओं पर लिखी शायरियों की इस पेशकश को Manpreet Kaur इनकी आवाज में सुनकर दिल से निकले आंसू रोक नहीं पाओगे!

जिन गलतियों की वजह से आपको कभी भी Aankho Me Ashqon Ka Samundar बहाने की नौबत आए. तो चलिए दोस्तों, आज के इस दर्द भरे सफर पर निकल पड़े. ताकि आप भी अपने करीबी इंसान से अपने दिल की बातों को आसानी से कह पाओ. और एक दूसरे की दिल की बातें जानते हुए प्यार की मंजिल तक जरूर जाओ.

Table of Content

  1. Aansu Shayari
  2. Aansu Shayari In Hindi
  3. Aansu Shayari In English
  4. Aansu Shayari Images
  5. Shayari On Aansu
  6. Conclusion

Ashq shayari

1)

जब किसी मोड़ पर तेरे अपने तेरा दिल दुखाएँगे
तुझे मेरी चाहत के ज़माने फिर पहरों रुलाएंगे..

अलविदा साथीयों हम अश्क ले चले आँखों में
उन के सितम की दास्ताँ अपने रब को सुनाएँगे..

-Moeen

jab kisi mod par tere apne tera dil dukhayenge
tujhe meri chahat ke jamane fir pahro rulayenge..

alvida sathiyon ham ashq le chale aankhon mein
unke sitam ki dastan apne rab ko sunayenge..

आशिक को अपने प्यार पर जितना भरोसा था. उतना भरोसा महबूब उस पर बिल्कुल भी नहीं कर पाया था. वह हमेशा अपने आशिक के प्यार को शक के दायरे में ही रखा करता था. शायद इसी वजह से अब आशिक के दिल को इतनी गहरी ठेस पहुंची है. कि वह अपने महबूब को ही प्यार किया हाय देने लगा है.

और हमेशा खुदा से यही दुआ करने लगा है. जब भी वो खुदा से कोई बात मांगेगा. तो अपने दिलबर के लिए बद्दुआ ही मांगेगा. और इसी वजह से वह अब जमाने को ही विदा कर जाना चाहता है.

2)

था उस से मेरा कोई रिश्ता पुराना शायद
मुद्दतें हुई वो भूल गया होगा मेरा चेहरा शायद..

क्यों आज टपकते हैं अश्क इन शाखों से
साँज ढले लौट कर नहीं आया वो परिंदा शायद..

-Moeen

tha usse mera koi rishta purana shayad
muddaten hui vah bhul gaya hoga mera chehra shayad..

kyon aaj tapakte hain ashq in aankhon se
sanjh dhale laut kar nahin aaya parinda shayad..

Aansu Shayari की मदद से अपने भूले बिसरे यार को आशिक याद करना चाहता है. लेकिन उसकी बात सुनने वाला और मानने वाला दिलबर ही तो अब बदल चुका है. उसकी आंखों से जो अश्क निकल रहे हैं. उन्हीं भी समझने वाला अब उसके पास कोई नहीं है.

जो दिलबर उसके पास बैठकर चाहत का इकरार करता था. आज वही उसका यार कई मुद्दतों के बाद उसे भुला चुका है. आशिक सोच रहा है कि शायद वह उसके प्यार को भूल चुका है. शायद उसे अपने यार के बारे में किसी भी बात का कोई अफसोस नहीं है.

Ashq shayari In Hindi

3)

वो खुश रहे यहीं लबों पर हमेशा दुआ थी
आहें भरना सावन में उसे चाहने की सज़ा थी..

मैंने अश्कों में उस की सूरत देखी हैं
जिस की ज़ियारत मेरे हर दर्द की दवा थी..

-Moeen

vo khush rahe yahi labon per hamesha dua thi
aahen bharna savan mein use chahane ki saja thi..

maine ashkon mein uski surat dekhi hai
jiski ziyarat mere har dard ki dava thi..

आशिक के दिल में जब भी कोई बात आई थी. उस बात को लेकर वह अनजान सा और सहमा सा रहता था. उसे बस अपने महबूब के प्यार का ही इंतजार रहता था. वह हर वक्त उसे कुछ ना कुछ पैगाम देने के बारे में सोचता था. लेकिन अपने मन में ही उस बात को फिर से दबा देता था.

लेकिन अपने महबूब के बारे में सोचते हुए आप हो बहुत ज्यादा भावुक हो रहा है. क्योंकि ना तो वह उसके किसी भी बात को मान रहा है. और ना ही उससे प्यार की कोई उम्मीद रखता है. लेकिन फिर भी वह अपने यार के लिए अपने दिल में हमेशा अच्छी बात ही सोचता है.

4)

तेरी उम्मीद के मुताबीक साँचों में ढल गए होते
हम भी ज़माने के साथ थोड़ा बदल गए होते..

ख़ुशीयाँ मिलती रही तुझे, अश्क मिले मुझे
उसूलों ने रोका वरना बहोत आगे निकल गए होते..

-Moeen

teri umeed ke mutabik sancho mein dhal gaye hote
ham bhi zamane ke sath thoda badal gaye hote..

khushiyan milati rahi tujhe, ashq mile mujhe
usoolon ne roka varna bahut aage nikal gaye hote..

Aansu Shayari In Hindi की मदद से अपने महबूब के दिल की बात जानना चाहोगे. कुछ इसी तरह की यादों का मंजर जब आशिक के दिल में उमड़ पड़ता है. तब वह उसके उम्मीद पर खरा उतरने की सोचता रहता है. लेकिन फिर भी उससे प्यार के उन सभी वादों का खयाल है.

उसके उसूल इस बात को भूलने की अनुमति बिल्कुल भी नहीं देते हैं. इसी वजह से वह हमेशा अपने दिलबर के लिए खुशियों की ही दरख्वास्त करता रहता है. और जमाना चाहे उसे कुछ भी कहे. लेकिन वह कभी बदलना नहीं चाहता है.

Ashq shayari In English

5)

अपनी बेरंग हथेली पर वो सरे शाम लिखती होगी
ज़माने से नज़र चुरा कर मेरा नाम लिखती होगी..

आँखों में अश्कों का समंदर लिए वो लड़की
लहरों पर मेरी खातीर कोई पैगाम लिखती होगी..

-Moeen

apni berang hatheli par vah sare sham likhati hogi
zamane se najar chura kar mera naam likhati hogi..

aankhon mein ashkon ka samandar liye vah ladki
laharon per meri khatir koi paigam likhti hogi..

आशिक अपने महबूब की बातों का बहुत ज्यादा ख्याल करता है. उसे हमेशा ही अपने दिलबर की यादों का वह मंजर सताता रहता है. और उसमें वह अपने यार की मेहंदी रचाई हुई हथेली ही देखता है.

और उसे लगता है कि शायद अब भी वह उसके ही नाम की मेहंदी अपने हाथों पर रखती होगी. और उस पर आशिक के नाम का भी जिक्र जरूर होगा. जब भी उसकी आंखों में आंसुओं की बरसात होती होगी. वह उन आंसुओं की बारिश का पैगाम भी उसे भेजना चाहती होगी.

6)

देख उनकी मासूम सी अदाएं
मैं समझा वह प्यार है..

कातिल उन्हीं निगाहों में
अब नज़र आता इंतज़ार है..

dekhun ki masoom si adaen
main samjha vah pyar hai..

katil yun hi nigahon mein
ab najar aata hai intezaar hai..

Aansu Shayari In English को सुनकर आशिक अपनी दिलबर से सवाल करना चाहता है. जिस तरह से उसके महबूब की अदाओं का जो है दीदार करना चाहता था. उसी की प्यार भरी बातों में वह हमेशा खोया रहता था. उन सभी हरकतों को अपने दिलबर का प्यार ही समझ बैठा था.

शायद यही उसकी दिल की सबसे पहली और सबसे बड़ी गलती थी. क्योंकि उसका महबूब ना कभी उसकी आंखों में प्यार लिए आया था. और ना ही उसने कभी अपने दिल का इजहार उसके साथ किया था. लेकिन अब उन्हीं मोहब्बत की बातों का आशिक हमेशा इंतजार कर रहा है.

Ashq Shayari Images
Ashq Shayari Images

Ashq shayari Images

7)

नहीं करती यह जालिम दुनिया
क़ीमत बहते अश्कों की..

होती है नीलामी रिश्तों के
बाजार में जज्बातों की..

nahin karti yah jalim duniya
kimat behte ashko ki..

hoti hai nilami rishton ke
bajar mein jazbaton ki..

आशिक के बहते अश्कों को यह जमाना भला क्या समझेगा? कुछ इसी तरह के विचार अब आशिक अपने मन में कर रहा है. क्योंकि उसने जिस महबूब से अपने दिल की गहराई से सच्चा प्यार किया था. वह दिलबर खुद ही अब उसके दिल से खेल रहा है. ऐसे में आशिक अब जमाने से भला क्या उम्मीद रख सकता है.

क्योंकि जमाने में तो दिलों के कई बाजार भरते हैं. और रिश्तो के ऐसे मेलों में जज्बातों की बोली लगाई जाती है. जहां पर दिल की सारी भावनाएं कहीं ना कहीं बिक ही जाती है. और शायद आशिकी के महबूब ने भी उसके प्यार की ऐसी ही बोली लगा दी है. इसी वजह से वह अब उसके दिल में कोई प्यार का रिश्ता नहीं जताता है.

8)

हंसते हुए भी आज निगाहों में
उनकी अश्क आ रहे थे..

गम था कोई आंखों में उनकी
जो वह हमसे छुपा रहे थे..

hanste hue bhi aaj nigahon mein
unki ashk aa rahe the..

gam tha koi aankhon mein unki
jo vah humse chhupa rahe the..

Aansu Shayari Images को सुनकर आशिक अपनी बहती आंखों को चुप कराना चाहता है. लेकिन जिस तरह से वह अपने दिलबर की निगाहों में अश्क दिखता है. तो उसे यह भी यकीन हो जाता है कि उसे भी कोई गम जरूर है. क्योंकि जब भी वह उसके साथ कोई भी हंसी मजाक कर लेता है. फिर भी उसके महबूब की आंखों में आंसू छलक उठते हैं.

और यह बात उसकी नजरों से भी नहीं छुपती है. वह उन्हें तुरंत इस बारे में पूछना चाहता है. लेकिन दिलबर उसकी हर एक बात को हमेशा टालता रहता है. और उसके दिल की किसी भी हालात या फिर दर्द को वह कभी बताना नहीं चाहता है.

Shayari On Aansu
Shayari On Aansu

Shayari On Aansu

9)

छुपाता रहता हूं तुमसे आंसू
अपनी आंखों में सभी..

ताकि दिल के दर्द बताने की
नौबत ना आए कभी..

chhupata rahata hun tum se aansu
apni aankhon mein sabhi..

taki dil ke dard batane ki
naubat na aaye kabhi..

प्रेमी अपने यादों के बारे में कभी किसी से कुछ कहना नहीं चाहता है. क्योंकि उसे लगता है कि अगर वह अपने दिल की आपबीती दुनिया को बता देगा. तो शायद दुनिया भी उसके सभी जज्बातों का मजाक बना देगी. और उसके सभी भावनाओं को जैसे रिश्तों के मेले में नीलाम कर देगी.

इसी वजह से वह अपने आंखों में आए हुए सारे आंसू को छुपाता रहता है. और दुनिया के साथ ही अपने सभी भावनाओं को मिलाकर देखता है. ताकि कोई भी उसके दिल का दर्द कभी भी पहचान ना पाए. और उस पर कभी भी किसी से प्यार के दर्द की बात करने की नौबत ही ना आए.

10)

रह जाती है हैरान
आजकल वह मेरी सब्र पर..

काफ़ी होगा गर बहाये
दो आंसू वह मेरी कब्र पर..!

rahe jaati hai hairan
aajkal vah meri sabra per..

kafi hoga gar bahaye
do aansu vah meri kabra per..!

Shayari On Aansu को सुनकर महबूबा बहुत ज्यादा हैरान हो गई है. क्योंकि उसे अपने यार के दिल का अब तक अंदाजा ही नहीं आया था. वह अपने आप से भी ज्यादा उससे इतना प्यार करता है. इस बात का उसने कभी सपने में भी सोच विचार नहीं किया था. इसी वजह से अब वह उसकी हर एक बात को अपने दिल में रख रही है.

और खुद ही उसके जज्बातों पर परेशान सी हो रही है. लेकिन उसकी यह परेशानी आशिक जैसे झूठी कहानी कहता है. और उसे तो अब बस एक ही उम्मीद है. जब भी वह उसके जनाजे पर आये. तब अगर वह अपने यार के लिए सिर्फ दो आंसू भी बहा दे. तो भी वह खुद के प्यार की जीत ही समझेगा.

Conclusion

आशिका अपने महबूब की आंखों में कभी आंसू नहीं देखना चाहता है. फिर चाहे वह खुद ही कितने भी दर्द में क्यों ना फस जाए. लेकिन वह खुद की वजह से अपने प्यार पर कोई आंच नहीं आने देना चाहता है. यही तो प्यार की सच्ची पहचान होती है. और यही बात Aankho Me Ashqon Ka Samundar की मदद से आप जान जाओगे..

हमारी इन Shayari On Aansu -1 को सुनकर अगर आपकी आंखों में आंखों के बादल छा गए हो. तो हमें comment box में comment करते हुए जरूर बताये.

अश्क़/आंसू शायरी पर लिखी गयी हमारी ये पोस्ट भी आपको अच्छी लगेगी

  1. Aansu Shayari -1 अपने दिल से बहते आंसुओं को महसूस करोगे!
  2. Ashq Shayari In English -3: Aansu Bhare Vichar
  3. Aansu Shayari -3: Ashkon Par Likhe Kalam

अगर आप चाहते है कि आपको सारी अपडेट्स अपने Whatsapp पर मिले तो, जल्दी से ‘START’ इस मेसेज को +91 90495 96834 इस वॉट्सएप नंबर पर सेंड कीजिए, आपकी सेवा 24 घंटो के भीतर शुरू हो जाएगी.

अगर आपको चाहिये कि अपने Twitter हैन्डल पर शायरी सुकून अपडेट्स मिले, तो हमें शायरी सुकून अकाउन्ट पर Follow जरूर करें.

Rate this post

2 thoughts on “Shayari On Aansu -2: Aankho Me Ashqon Ka Samundar”


  1. Subscribe to Channel
  2. था उस से मेरा कोई रिश्ता पुराना शायद
    मुद्दतें हुई वो भूल गया होगा मेरा चेहरा शायद..
    क्यों आज टपकते हैं अश्क इन शाखों से
    साँज ढले लौट कर नहीं आया वो परिंदा शायद.
    कमाल!!! अश्कों से जुडी नायाब शायरीयां!!
    मनप्रीत जी बेहतरीन पेशकश!!
    शुभेच्छा!
    – कल्याणी

Leave a Comment