mausam -1: love shayari से आपके दिल का मौसम सुहाना हो जाएगा

mausam shayari :  मित्रों, हम जानते हैं की mausam ही हमारे जीवन में हमेशा बदलाव लाता है. फिर चाहे वो बारिश का mausam हो या फिर गर्मियों का. सर्दियों का mausam हो या फिर बसंत का हो. हमें हमेशा ही प्रकृति के बदलते मौसम के लिए शुक्रगुजार होना चाहिए.

खुशनुमा मिजाज जो सुबह,
आपकी नींद पूरी होने के
इंतज़ार में है…

वो कहाँ किसी
मौसम-ए-बहार में है…


इसी के चलते ही तो पूरी सृष्टि में जीवन चक्र हमेशा चलता रहता है, कभी रुकता नहीं. जिस तरह mausam हमारे जीवन में अच्छे बदलाव लाता है, उसी तरह हमारी सोच-विचारों में परिवर्तन लाते हुए समय के चलते वे परिपक्व भी बनते है. हमारे सोच विचार जितने परिपक्व होंगे, हम जानते हैं हमारे अनुभव भी उतने ही उच्च स्तरीय होंगे.

इन काव्य पंक्तियों को Milind Khanderao इनकी आवाज़ में सुनकर मौसम भी आपके महबूब का दीदार करना चाहेगा!

mausam अर्थात ऋतु चक्र. और बदलती ऋतु हमारे जीवन में एक नया बदलाव लाती है, जो हममें एक नई ऊर्जा और स्फूर्ति भर देती है. और वो ऊर्जा हम अपनी हम अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में करने वाले कामों में लगाते हैं और अपनी जिंदगी को आसान बनाते हैं. ये बात तो तय है हम में अगर हर रोज नई ऊर्जा का संचरण होता गया, तो हम रोज बड़े और समाज के लिए उपयोगी हो, ऐसे कार्य करते रहेंगे.

आपके बाल mausam पर भी क़यामत ढा सकते हैं…

आप अपने दिलबर से, अपनी जान से भी ज्यादा प्यार करते हो और इस बात का उन्हें भी नाज है. वो भी अपनी जान, आप पर वारता है. प्रेम के इस महासागर में आप पूरी तरह से डूब चुके हो. आपको किसी भी बात की, कोई भी फिक्र नहीं है.ना दुनिया की और ना ही बदलते मौसम की! आप तो हमेशा उसकी बाहों में ही अपने जीवन के सारे मौसम बिता देना चाहते हो.

आप हर वक्त उन पर अपनी जान न्योछावर करना चाहते हो. उनकी काले काजल की कमाल,उनकी नजरों के वो तीर. उनके लबों की वो हंसी, आपको उनकी हर एक अदा पर जैसे प्यार आता है. आप तो रब से बस यही खैर मांगते हो कि वो कम से कम अपने बाल तो खुले ना छोड़े. उन्हें बांधकर ही रखें. क्योंकि उनके खुले बाल देखकर मौसम भी उनका दीवाना हो गया है.

पेड़ पौधों में भी जैसे नई जान आ गई हो. सावन के काले घने बादल छाए हैं. और जैसे ही उन्होंने अपने बाल झटके, बारिश की बूंदों ने सभी पेड़-पौधों को भिगो दिया है. पूरा आलम जैसे उनके ही प्यार की बारिश में भीग चुका है. आपके दिल का मौसम तो कब का बदल चुका है.

आपके मन का मयूर भी जैसे छम छम करते हुए नाचने लगा है. पतझड़ का mausam जैसे अचानक बसंत के मौसम में बदल गया है. यही तो खासियत है आपके महबूब की हर एक अदा में और इन्हीं अदाओं पर ही तो आपको अपनी जान से भी ज्यादा प्यार आया है.

और आप उनसे बार-बार यही गुजारिश कर रहे हो कि खुदा के लिए वो अपने खुले लंबे बालों को बांध ले. ताकि वो mausam पर ही कहीं अपना कहर ना बरसा दे. और आप पर ही, कहीं कयामत ना आ जाए!

आप ही से तो सीखा है, मौसम (mausam) ने अंदाज बयां करना..

जब भी आपका दिलबर रात की गहरी नींद से सो कर सवेरे उठता है, तो मानो जैसे मौसम ने करवट बदल ली है. हवाएं तेज चलने लगती है. हर तरफ खुशबू फैल जाती है.

जब वो अंगड़ाई लेता है, तो मानो जैसे सूरज की किरने ही हर तरफ दौड़ती है. उसकी सुबह की हंसी देखकर फूल भी खिल उठते हैं, और मुस्कुरा जाते हैं. पंछी भी हर तरफ चहचहाने लगते हैं. एक तरह से मानो कुदरत में एक नया जोश भर जाता है.

एक नया उत्साह आ जाता है. जो भी तुम्हें देखता है वो मन ही मन तुमसे प्यार कर बैठता है. और तब आपको इस बात का यकीन हो जाता है कि ऐसी ताजगी भरा, खुशी भरा माहौल पूरी कायनात में, इस मौसम में नहीं, जो सिर्फ आपके यार के पास ही होता है. उनके आ जाने से आपकी तो जैसे पूरी जिंदगी ही बदल गई हो. इस बात के लिए आप खुदा से बार-बार शुक्रिया अदा करते हो.

तारीफों के फूल बुनो या चुप रहो, प्यार में सजा तो जरूर मिलेगी!

आपको अपने मेहबूब की हर एक बात पर प्यार उमड़ आता है. उसका नाम लेते ही आपके दिल में जैसे गीत बजने लगते हैं. उसके मीठे बोल सुनकर मानो जैसे आपका दिल बारिश में भीग जाता है. उसकी पायल की झंकार ने आपकी नींद चुरा ली है. उसके कंगन की खनखन ने आपके दिल का चैन हो करार जैसे छीन लिया है.

उसकी आंखों में आपके लिए प्यार देखकर आपको जैसे बारिश के मौसम में दिखाई देते इंद्रधनुष की याद आती है. जिस तरह इंद्रधनुष में अलग-अलग रंग होते हैं.

उसी तरह उसकी आंखों में आपको आपके प्यार के रंग दिखाई देते हैं. तब आपको इस बात पर नाज होता है कि आपके महबूब की अदाओं में और मौसम की बहार में कोई भी अंतर नहीं है.

अपने महबूब की अदाओं को देखकर आप दुविधा में पड़ गए हो कि उन बातों को, अपने महबूब की यादों को तारीफ की शायरियों में सजाया जायें या चुप रहे. क्योंकि आपने कोई भी विकल्प चुनना चाहा, तो वो दोनों ही तो बहुत बड़े जुर्म के समान होंगे. और इस जुर्म की सजा आपका महबूब जरूर देगा.

हम भी आपके महबूब के लिए, मौसम के ऐसे ही खुशनुमा मिजाज पर आधारित शायरियोंकी काव्य पंक्तियां लेकर आए हैं, जिन्हें सुनकर आपका महबूब आप पर जान लुटा देगा.


Beautiful mausam shayari in English

अपने बालों को तो, 
कमसे कम
खुला न छोड़ा करो…

बेवक्त, इस दिलका
मौसम बदल देते है…

Apne baalon ko to,
kam se kam khula na chora karo,
bewaqt, is dil ka 
mausam badal dete hain…


Love shayari in urdu

Khushnuma mizaj jo subah,
aapki nind puri hone ke
intezar mein hai…
vo kahan kisi 
mausam e bahar mein hai…


Beautiful love shayari

आपकी आंखें और ये मौसम
दोनों रंगीन है….
समझ नहीं आ रहा,

ख़ामोश रहूं या तारीफ़ करू…
जुर्म तो दोनों संगीन है…!

Aapki aankhen aur ye 
mausam dono rangeen hai…
samajh nahi aa raha,
khamosh rahu ya taarif karu…
jurm to dono sangin hai…!

Mausam-love-romantic-shayri-2
Mausam Love Shayari -2

इस महकती हुई बहार में अपने महबूब की आंखे देख कर उनकी तारीफ करना चाहोगे..

अपने महबूब के aankhon में शायराना अंदाज देखकर आपको उनकी tareef ही करने का मन होता है. और इस फिजा में भी जैसे एक नई bahar आई हो ऐसा ही लगने लगता है. और उस फिजा की नई aankhen में भी आप अपने दिलबर की tareef करना चाहते हो. उसके हुस्न अपने महबूब के aankhon में शायराना अंदाज देखकर आपको उनकी tareef ही करने का मन होता है. और इस फिजा में भी जैसे एक नई bahar आई हो ऐसा ही लगने लगता है.

और उस फिजा की नई aankhen में भी आप अपने दिलबर की tareef करना चाहते हो. उसके हुस्न की और उसके aankhon की चमक आपको हर वक्त नई सी लगने लगती है. इस महकती bahar में उसकी हर एक अदा की tareef आप किस तरह से कर पाएंगे अब बस यही एक सवाल आपके दिल में गूंज रहा है. और उसके aankhon की चमक आपको हर वक्त नई सी लगने लगती है.

इस महकती bahar में उसकी हर एक अदा की tareef आप किस तरह से कर पाएंगे अब बस यही एक सवाल आपके दिल में गूंज रहा है. आप जब भी इस खुली bahar में घूमने जाते हो तब आपको हर वक्त, हर जगह बस अपने दिलबर की aankhen ही दिखाई पड़ती है.

आप तो उसकी aankhon में ही अपनी पूरी जिंदगी डूब जाना चाहते हो. और ऐसी नशीली aankhon की tareef आप हर वक्त शायरियों के अंदाज में ही करना चाहते हो. और आपका दिलबर भी तो आपकी tareef सुनकर जैसे शरमा जाता है. आप जब भी अपने महबूब की aankhon में देखते हो तब आपको हर वक्त एक नई bahar दिखाई देती है. और उस aankhon की आप tareef किए बिना नहीं रह सकते हो.

और इस खुली bahar में आपको अपने महबूब की aankhon का जब-जब दीदार होता है, तब तब आप उन पर aankhen shayari भी तो करना चाहते हो. और आपका साथी भी आपके हर एक ख्वाहिश पर और आपकी tareef पर उसकी aankhen झुकाते हुए जैसे उनका स्वीकार ही तो करता है.

अगर इन शायरियों की मदद से आपको, मौसम की बहार में, अपने महबूब का प्यार नजर आया हो, तो नीचे comment box में comment जरूर करें!


अगर आप चाहते है कि आपको सारी अपडेट्स अपने वॉट्सएप पर मिले तो, जल्दी से ‘START’ यह मेसेज +91 90495 96834 इस वॉट्सएप नंबर पर सेंड कीजिए, आपकी सेवा २४ घंटो के भीतर शुरू हो जाएगी.



मोटिवेशनल शायरियो का स्टेटस देखने के लिए यहाँ Motivational Shayari क्लिक करे.



फेसबुक पर अपडेट्स पाने के लिए इस शायरी सुकून पेज को Like जरूर करे.


Leave a Comment