Sad

Gumsum Shayari: दिल को मनाने की कोशिश करना चाहोगे!

Gumsum Shayari: जब भी आपका dil आपकी दिलबर की यादों में gumsum बैठा होता है तब आपको gumsum shayari की जरूर याद आती है है ना दोस्तों? और जब आपका dil ही gumsum हो तो आपकी सारे jazbaat भी तो naraz होकर बहुत sad लगने लगती है.

और जब कोई sad इंसान किसी अपने जैसे ही jazbaat वाले इंसान से मिलता है तब उसका दिल और भी ज्यादा naraz होने का एहसास करता है. क्योंकि आपको पता होगा कि कोई भी इंसान किसी भी sad इंसान से मिलना नहीं चाहता है. वह तो हरदम अपने जैसे किसी भी dil से हंसते खेलते और gumsum ना बैठे हुए इंसान को ही अपना मानने के लिए तैयार होता है.

चमन में खिला फूल भी तो
मुरझा जाता है मासूम..

दिल तोड़कर जब तुम 
होती हो नाराज और गुमसुम..

-Santosh

chaman me khila ful bhi to
murjha jatahai masoom
dil todkar jab tum
hoti ho naraz aur gumsum


Listen to Gumsum Shayari | Voice-Over: Aditi Kshirsagar


लेकिन अगर आप खुद को और अपने dil को पहले से ही अपने दिलबर की यादों में gumsum और हुए अकेले naraz बैठ गए तो फिर आपके dil का और भी ज्यादा सैड होना तो लाजमी ही होता है. अगर आपका दिल एक बार और ज्यादा naraz हो गया तो आपके jazbaat का भी naraz होना जायज होता है.

gumsum shayari आपके दिलबर ने यू नाराजगी से कोई बात छुपानी नहीं चाहिए…

और तब आप उसे आप की पहली मुलाकात के बारे में कुछ बातें करते हुए मनाने की कोशिश करते हैं. लेकिन वह आजकल आपके जिस बात को भी समझने की है बिल्कुल कोशिश नहीं कर रहा है. और इसी वजह से हम आपके दिल में उसके लिए कुछ शक सा पैदा हो रहा है.

न जाने ये धड़कनें क्यों सिर्फ
तुम्हारी चाहत करती है..

ये गुमसुम निगाहें अब भी
तुम्हारा इंतजार करती है..

-Santosh

njaane ye dhadkane kyo sirf
tumhari chahat karti hai
ye gumsum nigaahe ab bhi
tumhara intezaar karti hai

Gumsum Shayari
Gumsum Shayari

gumsum shayari उनके jazbaat के लिए आप उन्हें नाराज ना होने की सलाह देते हैं..

और उनकी इस तरह से gumsum होने की वजह आप जान नहीं पाते हो. और इसी वजह से अब आपका dil भी बहुत ज्यादा sad महसूस कर रहा है और एक तरह से उल्फत में पड़ चुका है. लेकिन फिर भी आप यह बात अपने महबूब को पता नहीं चलने देना चाहते हो. Gumsum Shayari

कैद थे बेवफा के प्यार में
आजाद हम, आज हो गए..

टूटा है जबसे ये नादाँ दिल,
गुमसुम सारे अल्फ़ाज़ हो गए..

-Santosh

kaid the bewafa ke pyar me
aawaz hum aaj ho gye
tuta hai jabse ye nadan dil
gumsum saare alfaz ho gye

gumsum shayari उनके नाराज होने की वजह से आपका भी दिल कहीं लगता नहीं है..

आपको अपना महबूब ना जाने कब से यूं ही gumsum नजर आ रहा है. और उसे इस तरह से खामोश देखकर अब आपका भी sad दिल खामोश और चुप्पी साधे बैठा हुआ है. आपके जीवन में आप किसी प्रकार की कोई ख्याल आना जैसे बंद ही हो गया है. चाहे जिस तरीके से भी हो लेकिन आपको अपने महबूब को खुश देखने की एक आदत सी बन चुकी है.

मोहब्बत की इन राहों में प्यार के
बहाने की कोई साज़िश तो करते..

इस गुमसुम दिल को मनाने की
झूठी ही सही लेकिन कोशिश तो करते..

-Santosh

mohabbat ki inn raho me pyar ke
bahane ki koi saajish to karte
iss gumsum dil ko manane ki jhuti
jhuthi hi sahi lekin koshish to karte

अगर वह कुछ देर के लिए भी आप से या दुनिया के किसी भी चीज से naraz हो जाए तो आपका sad दिल कहीं भी नहीं लगता है. और इसी वजह से आप आप को ऐसा लग रहा है कि जैसे कम से कम उनके jazbaat यह तो आपकी बात हो जाए तो कम से कम आपके दिल को इतना sukun मिलेगा.

Gumsum Shayari Image -1

gumsum-sad-shayari-in-hindi-image
Gumsum Shayari-in-hindi-image

लेकिन आप तो उनकी खुश होने की आपको कोई भी अवसर नहीं दिख रही है. लेकिन जिस प्रकार से आप अपने दिल को तहे दिल से प्यार करते हो. इसे देखकर तो यह बात बिल्कुल भी नहीं लगती कि वह ज्यादा देर खामोश रहेगा, या फिर नाराज ही रहेगा. क्योंकि इस बात से आपके मन पर भी बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ता है.

नाराज होता है हर एक सवेरा
जो हर दम होता है तेरी चाह में..

गुमसुम से इस दिल को मना
बैठा है तेरी ही राह में..

-Santosh

naraz hota hai har ek savera
jo har dam hota hai teri chah me
gumsum se iss dil ko mana lo na
baitha hai teri raah me..

और यही बात अब हर वक्त आप दुनिया से ही सीखते जा रहे हो. अगर आपको किसी भी बात से कोई दिक्कत हो तो आप तुरंत अपने महबूब से जाकर कहते हो. और इसी वजह से वह भी आप पर पूरी तरह से भरोसा कर सकता है इसका आपको यकीन है. यही बात आप हमेशा अपने जिसे भी बयां करते रहते हो.

Gumsum Shayari in hindi, english poetry, thoughts, quotes

इतने गुमसुम से क्यों 
रहने लगे हो आजकल?

दिल लग नहीं रहा या
कहीं और लगा बैठे हो..?

itne gumsum se kyon 
rahane lage ho aajkal?
dil lag nahin raha ya 
kahin aur laga baithe ho..?

top sad shayari quotes poetry in urdu hindi | gumsum shayari

उल्फ़त में डाल के हमें
आप यू गुमसुम हो गए..

नाराज़ तो नहीं है हम बस
सैयाद के डर से बेफिक्र हुए...

ulfat main daal ke hamen 
aap yun gumsum ho gaye..
naraz to nahin hai ham bus
saiyyad ke dar se befikr huye…

Gumsum Shayari with images whatsapp status thoughts

आप गुमसुम हो लेकिन
आपके जज़्बात नहीं..

नाराज़ रहोगे आप तो
दिल कहीं लगता नहीं..

aap gumsum ho lekin aapke
aapke jazbaat nahi..
naraz rahoge ap to
dil kahi lagta nahi…

Gumsum Shayari Image -2

Gumsum-Shayari-Quotes-Hindi-WhatsApp-Status
Gumsum Shayari Image-Quotes-Hindi-WhatsApp-Status

1)

मोहब्बत में आजकल
शायद मुझसे रूठी है..

जाने क्यों वो दिलरुबा
मुझसे गुमसुम बैठी है..

-Lavina

mohabbat mein aajkal
shayad mujhse ruthi hai..
jaane kyon vo dilruba
mujhse gumsum baithi hai..

2)

मेरे दिल की धड़कनें भी
तुम तेज करती हो..

दिलरुबा जब भी तुम यूं
गुमसुम बैठी होती हो..

-Santosh

mere dil ki dhadkanen bhi
tum tej karti ho..
dilruba jab bhi tum yun
gumsum baithi hoti ho..

3)

कह दो जानम क्या तुम्हारे मन में
मोहब्बत की कोई तरंग नहीं..

तुम्हें इस तरह मायूस, गुमसुम बैठे
देखना मुझे जरा भी पसंद नहीं..

-Hemangi

kah do jaanam kya tumhare man mein
mohabbat ki koi tarang nahin..
tumhen is tarah maayus, gumsum baithe
dekhna mujhe jara bhi pasand nahin..

4)

बताओ दिलरुबा तुम्हारे
बेवफाई की वजह क्या है..

तुम्हारे गुमसुम रहने की और
नाराजगी की वजह क्या है..?

-Lavina

batao dilruba tumhare
bewafai ki vajah kya hai..
tumhare gumsum rahane ki aur
narajagi ki vajah kya hai..?

5)

दिल में तुम्हारे मेरे लिए प्यार
नहीं है मुझे पता ना था..

इस तरह तुम हो जाओगी
गुमसुम मुझे लगा ना था..

-Santosh

dil mein tumhare mere liye pyar
nahin hai mujhe pata na tha..
is tarah tum ho jaaogi
gumsum mujhe laga na tha..

6)

पता है तू नहीं होगा मेरा फिर भी
तुम्हारा इजहार कर रहा हूं..

तुम्हारी गुमसुम निगाहों का
जाना मैं इंतजार कर रहा हूं..

-Hemangi

pata hai tu nahin hoga mera fir bhi
tumhara izhaar kar raha hun..
tumhari gumsum nigahon ka
jana main intezar kar raha hun..

7)

इश्क में अब दिल का आलम
तो जैसे मायूस हो जाता है..

जब ख्वाहिशें पूरी नहीं होती
तो दिल गुमसुम हो जाता है..

-Lavina

ishq mein ab dil ka aalam
to jaise maayus ho jata hai..
jab khwahishen puri nahin hoti
to dil gumsum ho jata hai..

8)

चाहत में अपनी सारी
हिम्मत जैसे खो चुका है..

बेबस यह दिल तुम्हारे
यादों में गुमसुम बैठा है..

-Santosh

chahat mein apni sari
himmat jaise kho chuka hai..
bebas yah dil tumhare
yadon mein gumsum baitha hai..

9)

जमाने से दूर अपनी ही
दुनिया में बेफिक्र रहता हूं..

न जाने क्यों इस कदर
गुमसुम फिरता रहता हूं..

-Hemangi

jamane se dur apni hi
duniya mein befikar rahata hun..
na jaane kyon is kadar
gumsum firta rahata hun..

10)

तुम्हारी ही यादों में रात दिन
दिल जबसे खोने लगा है..

आजकल यह मौसम ही तो
बड़ा गुमसुम रहने लगा है..

-Lavina

tumhari hi yadon mein raat din
dil jabse khone laga hai..
aajkal yah mausam hi to
bada gumsum rahane laga hai..

11)

ख्वाबों में ही सही मगर
मैंने अब मंजिल पा ली..

मोहब्बत में गुमसुम मेरे
दिल ने अंगड़ाई ले ली..

-Santosh

khwabon mein hi sahi magar
maine ab manzil paa li..
mohabbat mein gumsum mere
dil ne angdaai le li..

12)

प्यार में बताओ, दिल की
ऐसी मुलाकात क्या है..

बड़े गुमसुम से रहने
लगे हो, बात क्या है?

-Hemangi

pyar mein batao, dil ki
aisi mulaqat kya hai..
bade gumsum se rahane
lage ho, baat kya hai?

13)

मिला नहीं करते है आजकल
ख्वाबों में भी जानम हम तुम्हें..

गुमसुम मोहब्बत का यह सफर
अब अकेले तय करना है हमें..

-Lavina

mila nahin karte hain aajkal
khwabon mein bhi janam ham tumhen..
gumsum mohabbat ka yah safar
ab akele tay karna hai hamen..

14)

तन्हाई भरी इन यादों में
मेरे खोई हुई हो ऐसे..

आसमान में चांदनी भी
अब गुमसुम हो जैसे..!

-Santosh

tanhai bhari in yadon mein
mere khoi hui ho aise..
aasman mein chandni bhi
ab gumsum ho jaise..!

15)

कुछ ऐसे दिल में मेरे वो
महबूबा शरीक हो गई है..

मोहब्बत में गुमसुम और
मसरूफ़ वो हो गई है..

-Hemangi

kuchh aise dil mein mere vo
mehbooba shareeq ho gai hai..
mohabbat mein gumsum aur
masroof vo ho gai hai..

16)

कब तक खुद को तन्हा
अब महसूस करोगे तुम..

चाहत में कब तक ऐसे
यारा गुमसुम रहोगे तुम..

-Lavina

kab tak khud ko tanha
ab mahsus karoge tum..
chahat mein kab tak aise
yaara gumsum rahoge tum..

17)

तुम्हारे नादान दिल को अपनी
धड़कनों में यारा बसा रहा हूं..

तुम्हें गुमसुम देखकर मैं भी
आजकल मायूस हो रहा हूं..

-Santosh

tumhare nadan dil ko apni
dhadkanon mein yaara basa raha hun..
tumhen gumsum dekhkar main bhi
aajkal maayus ho raha hun..

18)

मोहब्बत में अब अपना
सब कुछ लूटाता हूं तुझे..

गुमसुम रहना न जाने क्यों
अब अच्छा लगता है मुझे..

-Hemangi

mohabbat mein ab apna
sab kuchh lutata hun tujhe..
gumsum rahana na jaane kyon
ab achcha lagta hai mujhe..

19)

ख्वाबों की तनहाई में भी
प्यार करता हूं सिर्फ तुझसे..

गुमसुम रहने से अच्छा है की
इश्क भरी बातें कर लो मुझसे..

-Lavina

khwabon ki tanhai mein bhi
pyar karta hun sirf tujhse..
gumsum rahane se achcha hai ki
ishq bhari baaten kar lo mujhse..

20)

जानम क्या हो पायेगा ये
तुम्हारे प्यार के काबिल..

बरसों से जो गुमसुम
रह गया था यह दिल..

-Santosh

jaanam kya ho payega ye
tumhare pyar ke kabil..
barson se jo gumsum
rah gaya tha yah dil..

21)

बेकरारी छाई है फिर भी दिल में
मेरे चाहत का रोग क्यों है?

सुनसान इस जगह पर गुमसुम
रहने वाले ये लोग क्यों है?

-Hemangi

bekarari chhai hai fir bhi dil mein
mere chahat ka rog kyon hai?
sunsaan is jagah per gumsum
rahane wale ye log kyon hai?

22)

अकेले रहनेवाले कभी
कबार ही ये दिल मिलाते हैं..

गुमसुम और खामोश रहनेवाले
दिल में बातें कई छुपाते हैं..

-Lavina

akele rahanewale kabhi
kabaar hi ye dil milate hain..
gumsum aur khamosh rehanewale
dil mein baaten kai chhupate hain..

23)

मेरी मोहब्बत में रहकर
सिर्फ मेरे दिल को चाहता..

काश कोई गुमसुम रहने
वाला ही मुझे मिल जाता..

-Santosh

meri mohabbat mein rahakar
sirf mere dil ko chahta..
kash koi gumsum rahane
wala hi mujhe mil jata..

24)

तुम्हारे बिना हर कोई यहां
अजनबी लगने लगा है..

गुमसुम सा यह सफर भी
अनजान लगने लगा है..!

-Hemangi

tumhare bina har koi yahan
ajnabi lagne laga hai..
gumsum sa yah safar bhi
anjaan lagne laga hai..!

25)

अधूरे अरमानों की
कभी याद नहीं आती..

गुमसुम मोहब्बत की
पहचान नहीं होती..

-Lavina

adhure armaanon ki
kabhi yad nahin aati..
gumsum mohabbat ki
pahchan nahin hoti..

26)

चाहत पाऊंगा तेरी, इस
मन में यकीन पूरा है..

गुमसुम मोहब्बत का
अरमान ये अधूरा है..

-Santosh

chahat paunga teri, is
man mein yakin pura hai..
gumsum mohabbat ka
armaan ye adura hai..

YOU MAY LIKE THESE POSTS:

  1. Mehfil Shayari: Best 30+ महफ़िल शायरी स्टेटस
  2. Heartfelt Sad Shero Shayari (दुःखभरी शेरो शायरी) Collection

दोस्तों आज की हमारी इन Sad Gumsum Shayari को सुनकर अगर आपके naraz dil को भी जरा सा sukun मिला हो, तो हमें नीचे कमेंट सेक्शन में कमेंट करते हुए जरूर बताइएगा.

अगर आप चाहते है कि आपको सारी अपडेट्स अपने Whatsapp पर मिले तो, जल्दी से ‘START’ इस मेसेज को +91 90495 96834 इस वॉट्सएप नंबर पर सेंड कीजिए, आपकी सेवा 24 घंटो के भीतर शुरू हो जाएगी.

अगर आप चाहते है की आपको फेसबुक पर शायरी सुकून अपडेट्स मिले, तो इस शायरी सुकून पेज को लाइक और शेयर जरूर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.