‘दोगले लोग शायरी’ की मदत से शत्रुओं को आगाह करें

दोगलापण मतलब दोनों बातों में हामी दर्शाना, जो ऐसा करते है वह आपको सही राह दिखा ही नहीं सकते. कुछ ऐसे ही लोगों पर दोगले लोग शायरी यह पोस्ट लिखी गयी है.

Table of Content

  1. दोगले लोगों पर शायरी
  2. Dogle Log Status
  3. दोगले लोग शायरी
  4. Summary

दोगले लोगों पर शायरी | Dogle Log Status

1)

किस पर रखें भरोसा अब हम,
क्या गलत है और क्या सही..

इस दुनिया में यारों दोगले
लोगों की कोई कमी नहीं..

-Mrunal

kis per rakhen bharosa ab ham,
kya galat hai aur kya sahi..
is duniya mein yaaron dogale
logon ki koi kami nahin..

2)

बुरे लोगों की संगत में कभी
कोई किसी अपने को है खोता..

दोगले लोगों के विचारों की
वजह से हमें नुकसान है होता..

-Santosh

bure logon ki sangat mein kabhi
koi kisi apne ko hai khota..
dogale logon ke vicharon ki
vajah se hamen nuksan hai hota..


💕 Listen Uninterrupted Shayari 💕
🙏After Small Advertisement🙏



3)

पीठ पीछे बुराई करना उनकी पहचान है..

दोगले लोगों के होठों पर दिखती मुस्कान है..

-Vaidehi

peeth piche burai karna unki pahchan hai..
dogale logon ke hothon per dikhti muskan hai..

दोगले लोगों पर शायरी
दोगले लोगों पर शायरी
4)

दूसरों को अपनी सच्चाई
बताने में विरोध होता है..

दोगले लोगों को तो अक्सर
धोखा देने का शौक होता है..

-Mrunal

dusron ko apni sacchai
batane mein virodh hota hai..
dogale logon ko to aksar
dhokha dene ka shauk hota hai..

5)

अगर चाहते हो अपने
जीवन में सफलता पाना..

दोगले लोगों पर यार तुम
कभी ना विश्वास करना!

-Santosh

agar chahte ho apne
jivan mein safalta pana..
dogale logon per yaar tum
kabhi na vishwas karna!

6)

मन के भीतर उनके यारों
हमेशा बुरे भाव चलते हैं..

दोगले लोग ऊपर से ही
बड़े शरीफ नजर आते हैं..

-Vaidehi

man ke bhitar unke yaaron
hamesha bure bhav chalte hain..
dogale log upar se hi
bade sharif najar aate hain..

7)

अपने जीवनकाल में उन्हें
लगी बड़ी चोट होती है..

दोगले लोगों के दिल में
हमेशा खोट होती है..

-Mrunal

apne jivan kal mein unhen
lagi badi chot hoti hai..
dogale logon ke dil mein
hamesha khot hoti hai..

8)

दुनिया में कभी किसी झूठे
इंसान की तारीफ नहीं होती..

दोगले लोगों की जुबान पर
कभी सच्चाई नहीं होती..

-Santosh

duniya mein kabhi kisi jhuthe
insan ki tarif nahin hoti..
dogale logon ki juban per
kabhi sacchai nahin hoti..

9)

जिन्होंने दी कसमें उम्र भर,
यारों हमारे साथ कब थे..

जो हमारा साथ छोड़ गए
वो सब दोगले लोग थे..

-Vaidehi

jinhone di kasmen umra bhar,
yaaron hamare sath kab the..
jo hamara sath chhod gaye
vo sab dogale log the..

Dogle Log Status

10)

शत्रु से व्यवहार की कभी
कोई जरूरत नहीं होती..

दोगले लोगों से मित्रता
कभी अच्छी नहीं होती..

-Mrunal

shatru se vyavhar ki kabhi
koi jarurat nahin hoti..
dogale logon se mitrata
kabhi acchi nahin hoti..

11)

दुनिया में कभी ना झूठ के
इरादे ज्यादा टिकते हैं..

दोगले लोग मतलब का ही
व्यवहार करते रहते हैं..

-Santosh

duniya mein kabhi na jhooth ke
irade jyada tikte hain..
dogale log matlab ka hi
vyavhar karte rahte hain..

12)

झूठा और स्वार्थी इंसान
खुद को बड़ा है समझता..

दोगले लोगों की बातों में
अपनापन नहीं झलकता..

-Vaidehi

jhutha aur swarthi insan
khud ko bada hai samajhta..
dogale logon ki baton mein
apnapan nahin jhalakta..

13)

कभी वो एक दूसरे को
अपना ना समझते हैं..

दोगले इंसान हमेशा ही
शैतानों के जैसे होते हैं..

-Mrunal

kabhi vo ek dusre ko
apna na samajhte hain..
dogale insan hamesha hi
shaitanon ke jaise hote hain..

14)

कभी मोहब्बत का सीधा
इजहार ना करते हैं..

दोगले लोग अपनी बात
घुमा फिरा कर करते हैं..

-Santosh

kabhi mohabbat ka sidha
izhaar na karte hain..
dogale log apni baat
ghuma fira kar karte hain..

15)

बार-बार जो पलटे शब्दों से
उसका कभी साथ ना देना..

दोगले लोगों के बातों की
तरफ कभी ध्यान ना देना..

-Vaidehi

bar bar jo palte shabdon se
uska kabhi sath na dena..
dogale logon ke baton ki
taraf kabhi dhyan na dena..

16)

दिल दुखी करें ऐसे वादों पर
कभी भी संसार नहीं टिकता..

दोगले लोगों की बातों में कभी
यारों सच्चा प्यार नहीं दिखता..

-Mrunal

dil dukhi kare aise vadon per
kabhi bhi sansar nahin tikta..
dogale logon ki baton mein kabhi
yaaron saccha pyar nahin dikhta..

17)

अपने चाहने वालों को भी हमेशा तड़पाते हैं..

दोगले लोग मुलाकातों के बस वादे करते हैं..

-Santosh

apne chahane walon ko bhi hamesha tadapaate hain..
dogale log mulakaton ke bus vaden karte hain..

18)

बेईमानी के जाल में तुम अपने
दिल को कभी ना फंसाना..

दोगले लोगों की झूठी बातों में
यारों तुम कभी ना आना..

-Vaidehi

beimaani ke jal mein tum apne
dil ko kabhi na fasana..
dogale logon ki jhuthi baton mein
yaaron tum kabhi na aana..

दोगले लोग शायरी

19)

अगर चाहते हो जीवन में
हमेशा तरक्की करना..

दोगले लोगों की चाल से
तुम हमेशा दूर ही रहना..

-Mrunal

agar chahte ho jivan mein
hamesha tarkki karna..
dogale logon ki chaal se
tum hamesha dur hi rahana..

20)

मीठे बोल बोलने वालों की
जुबान अक्सर झूठी होती है..

जमाने में दोगले लोगों की
शान हमेशा झूठी होती है..!

-Santosh

mithe bol bolane walon ki
juban aksar jhuthi hoti hai..
jamane mein dogale logon ki
shan hamesha jhuthi hoti hai..!

21)

कभी भी किसी से अच्छी
बात ना वो सीखते हैं..

दोगले लोग कहीं भी बस
भीख ही मांगते रहते हैं..

-Vaidehi

kabhi bhi kisi se acchi
baat na vo sikhte hain..
dogale log kahin bhi bus
bheekh hi mangte rahte hain..

22)

कभी झूठी शान पर तो
कभी नाम पर लड़ गई है..

दोगले लोगों की वजह से
दुनिया बदनाम हो गई है..

-Mrunal

kabhi jhuthi shan per to
kabhi naam per lad gai hai..
dogale logon ki vajah se
duniya badnaam ho gai hai..

23)

कभी इस दुनिया को सच्ची बातें ना सिखाते..

दोगले लोग तो हमेशा झूठे सपने ही दिखाते..

-Santosh

kabhi is duniya ko sacchi baten na sikhate..
dogale log to hamesha jhuthe sapne hi dikhate..

24)

कभी सच्चे इंसान की
बात नहीं मानी जाती..

जमाने में हमेशा दोगले
लोगों की ही पूजा होती..

-Vaidehi

kabhi sacche insan ki
baat nahin mani jaati..
jamane mein hamesha dogale
logon ki hi puja hoti..

25)

अपने ही झूठे एहसासों के
हमेशा जाल बुन लेते हैं..

दोगले लोग झूठ मुठ की
बातें सुना कर लूट लेते हैं..

-Mrunal

apne hi jhuthe ehsaason ke
hamesha jal boon lete hain..
dogale log jhooth mooth ki
baten suna kar loot lete hain..

26)

एक न एक दिन ये सच्चाई
दुनिया के सामने आती है..

दोगले लोगों की बेईमानी कभी
ना कभी उभर कर आती है..

-Santosh

ek na ek din ye sacchai
duniya ke samne aati hai..
dogale logon ki beimaani kabhi
na kabhi ubhar kar aati hai..

YOU MAY LIKE THIS:

झूठे लोग शायरी: आपके आसपास के झूठे लोगों के लिए पंक्तियाँ
विरोधियों के लिए शायरी: विरोधी को शान से अपना रुतबा जताये!

Summary

अगर आपको यह दोगले लोग शायरी की पोस्ट पसंद आयी हो तो हमे कमेंट करते हुए जरूर बताईयेगा, साथ ही में आप हमारे फेसबुक पेज को लाइक और शेयर कर सकते है.

No Responses

  1. Pingback: Jhoot Mat Bolo Shayari July 23, 2022

Add Comment