Dard Shayari -2 : Javed Akhtar Poetry in Hindi

Dard Shayari : दोस्तों, जावेद अख्तर साहब को कौन नहीं जानता है. उन्होंने न जाने कितनी ही एक से बढ़कर एक शायरियां, ग़झले और गाने लिखे हैं. यह लेखन उन्होंने हिंदी के साथ-साथ और भी कई भाषाओं में किया है. और इसी वजह से हिंदी सिनेमा जगत यानी कि बॉलीवुड में उनका नाम आज भी ऊंचा है.

उनके लेखन कौशल की दाद दे उतनी कम है. इसी वजह से हमें आज भी जावेद अख्तर साहब ने लिखे हुए सारे नगमे याद है. और देखा जाए तो हम में से कई लोग उन सभी गानों को सुनते हुए ही बड़े हुए हैं. आज Shayari Sukun के इस मंच पर हम Javed Akhtar Poetry In Hindi लेकर आए हैं.

✤ शायरी सुनने के लिए ✤
♫ Player लोड होने दें ♫


जावेद अख्तर साहब की इन दर्द भरी शायरियों को Vrushali Suvarna Dnyandev इनकी आवाज में सुनकर उनकी लिखावट के कायल हो जाओगे!

जिनकी मदद से हम उन के आगे के कार्य के लिए उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएं देना चाहते हैं. हमें यकीन है कि आपके भी मन में इन Dard Shayari in Hindi को सुनकर कुछ इसी तरह की भावनाएं होगी. आप हमें कमेंट सेक्शन में फीडबैक देते हुए इसके बारे में जरूर बताएं. और साथ ही अपने दोस्तों और चहेते इंसानों के साथ इसे साझा करना बिल्कुल ना भूलें.

Dard Shayari in Hindi

हर ख़ुशी में कोई कमी सी है
हँसती आँखों में भी नमी सी है

दिन भी चुप चाप सर झुकाये था
रात की नब्ज़ भी थमी सी है

har khushi mein koi kami si hai
hansti aankhon mein bhi nami si hai..
din bhi chupchap sar jhukaye tha
raat ki nabj bhi thami si hai..

जावेद अख्तर साहब अपनी बेहतरीन शायरियों को बड़ी खूबी के साथ लिखते हैं. इस शायरी में वह कहते हैं कि उनके दिल में न जाने कोई गम छुपा है. क्योंकि उनकी हंसी भी आजकल कम नजर आ रही है. उनका दिन भी हमेशा की तरह खिल खिलाता हुआ नहीं निकलता है.

और रातों की तो बात ही ना पूछिए. क्योंकि उनकी आंखें रात भर कभी सुनती ही नहीं है. और यह गम भरी रातें भी जैसे कभी खत्म नहीं हो रही है. और इसीलिए तो आजकल उनका दिल भी कहीं लग नहीं रहा है. और मानो उनके इस जिंदगी को जैसे किसी की नजर ही लग गई हो.

जाते जाते वो मुझे अच्छी निशानी दे गया
उम्र भर दोहराऊँगा ऐसी कहानी दे गया

ख़ैर मैं प्यासा रहा पर उस ने इतना तो किया
मेरी पलकों की कतारों को वो पानी दे गया

jate jate wo mujhe achi nishani de gaya
umra bhar dorahunga aisi kahani de gaya
khair main pyasa raha per usne itna to kiya
meri palkon ki kataaron ko vah pani de gaya

Dard Shayari Hindi की मदद से जब प्रेमी अपने महबूब को याद करता है. तब उसके दिल में किस तरह के विचार होते हैं इसे जावेद अख्तर साहब बड़ी नजाकत के साथ लिखते हैं. अपने टूटे हुए जख्मी दिल के साथ कोई प्रेमी अपने प्यार को याद करता है.

Dard Shayari Image 2

Dard Shayari in Hindi
Dard Shayari in Hindi

तब उसे अपने महबूब ने दी हुई आखिरी निशानी याद आती है. और वह उसे ही देखते हुए अपने पलकों से आंसू बहा रहा होता है. वह कहता है कि जिस तरह से उसके दिलबर नहीं उसे तनहा कर दिया है. उसकी जिंदगी की सारी तमन्नाओं को जैसे चूर चूर कर दिया है. अपने इस अधूरे प्यार को वो हमेशा याद करता है. और अपनी ही दुख भरी कहानी बार-बार दोहराता रहता है.

दिल लगाना और,दिल तोड़ जाना
टूटकर चाहना ये नसीब ही था

दर्द ही रह गया है जिंदगी में
जाने नफरत का क्या फसाना था

Dard Shayari DP Image

तुम को देखा तो ये ख़याल आया
ज़िन्दगी धूप तुम घना साया

हम जिसे गुनगुना नहीं सकते
वक़्त ने ऐसा गीत क्यूँ गाया

tumko dekha to yeh khayal aaya
zindagi dhoop tum ghana saya
ham jise gunguna nahin sakte
waqt ne aisa geet kyon gaya

कोई अनजान प्रेमी अपने दिलबर से पहली बार मिलता है. उसके दिल में जैसे नहीं बाहर खिल जाती है. उसके मन का मन मयूरा जैसे नाचने लगता है. और उसका दिल भी जोरो जोरो से धड़कने लगता है. उसके मन में अब अपने प्यार के लिए नए-नए सपने और ख्याल आते रहते हैं.

और वह अपने महबूब की तारीफ में उसे जिंदगी के कड़ी धूप का साया भी कहता है. लेकिन जब जब उसका दिलबर उससे रूठ जाता है. तब उसके दिल में यह सवाल सताता है. कि आखिर जिंदगी नहीं इस तरह का खेल उससे क्यों किया. और जो नजमा वह कभी गा ही नहीं सकता है. वक्त उसे उसके लिए आखिर भेंट स्वरूप क्यों लाया है.

प्यार मुझ से जो किया तुम ने तो क्या पाओगी
मेरे हालात की आंधी में बिखर जाओगी

ख़्वाब क्यूँ देखूँ वो कल जिस पे मैं शर्मिन्दा हूँ
मैं जो शर्मिन्दा हुआ तुम भी तो शरमाओगी

pyar mujhse jo kiya tumne to kya paogi
mere raat ki aandhi mein bikhar jaaogi
khwab kyon dekho vah kal jis per main sharminda hun
main jo sharminda vah to tum bhi sharmaogi

Dard Shayari DP Image की मदद से अपने यार को प्यार की सच्चाई बताना चाहोगे. और आशिक अपने यार को जिस तरह से प्यार की सच्चाई बयां करना चाहता है. वह उससे इस सवाल का जवाब भी मांगता है. और खुद से अपना यार आखिर इतना प्यार क्यों करता है.

इस बात का जवाब वह उससे पाना चाहता है. और साथ ही यह नसीहत भी देता है कि वह उसे ऐसे सपने ना दिखाएं. जो शायद ही कभी सच हो पाएंगे. क्योंकि आशिक जो भी सपने देखता है. वह भी छोटे से होते हैं. और वह अपने जिंदगी को भी बहुत ज्यादा महत्व नहीं देता है. इसी वजह से वह पुराने सपनों को याद कर बहुत ज्यादा शर्मिंदा होता है.

Dard Shayari Photo

कत्थई आँखों वाली इक लड़की
एक ही बात पर बिगड़ती है

तुम मुझे क्यों नहीं मिले पहले
रोज़ ये कह के मुझ से लड़ती है

katthai aankhon wali ek ladki
ek hi baat par bigadti hai
tum mujhse mujhe kyon nahin mile pahle
roj ja kehke mujhse ladti hai

जावेद अख्तर साहब की नशीली शायरी को सुनकर तो आपको अपना महबूब जरूर याद आ जाएगा. वह बताना चाहते हैं कि किसी आशिक को उसकी कत्थई सी आंखों वाली दिलरुबा बहुत भाती है. लेकिन वह हमेशा ही अपने आशिक से बहुत ज्यादा लड़ाई करती रहती है.

और उसका कहना बस यही होता है कि आखिर वह उसे इतनी देर बाद क्यों मिला है? वह उसे इससे पहले ही क्यों नहीं मिला है. क्योंकि अगर वह उसे इससे पहले ही मिल जाता. तो उसकी जिंदगी शायद और भी आसान हो जाती थी. और उसे चाहने वाला इंसान हमेशा के लिए उसी के पास रहता.

इक पल गमों का दरिया, इक पल खुशी का दरिया
रूकता नहीं कभी भी, ये ज़िन्दगी का दरिया

आँखें थीं वो किसी की, या ख़्वाब की ज़ंजीरे
आवाज़ थी किसी की, या रागिनी का दरिया

ek pal gham ka dariya ek pal khushi ka dariya
rukta nahin kabhi bhi ye jindagi ka dariya
aankhein thi vah kisi ki yah khwab ki janjeeren
awaaz thi kisi ki ya ragani ka dariya

Dard Shayari Photo की मदद से आपको अपने यार को याद करने में आसानी होगी. और अगर आपको यह फोटो पसंद आ जाए. तो उसे आप डाउनलोड करते हुए अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर कर सकते हैं.

जब भी कोई आशिक अपने यार के गम में डूबा हुआ होता है. तो उसे एक एक पल जैसे सालों जैसा लगता है. इसी वजह से उसे अपने दिलबर की याद बहुत तड़पाती रहती है. लेकिन उसके जिंदगी का बहता दरिया होता है. वह तो कभी नहीं रुकता है. क्योंकि जिंदगी का उसूल ही होता है हमेशा चलते रहना. फिर चाहे जिंदगी के साथ कोई हो या ना हो.

Dard Shayari In English

क्यों डरें ज़िन्दगी में क्या होगा
कुछ ना होगा तो तज़रूबा होगा

हँसती आँखों में झाँक कर देखो
कोई आँसू कहीं छुपा होगा

kyon daren jindagi mein kya hoga
kuch na hoga to tajurba hoga
hansti aankhon mein jhank kar dekho
koi aansu kahi chhupa hoga

कई सारे लोग अपनी जिंदगी के बारे में और भविष्य के बारे में बहुत ज्यादा चिंतित होते हैं. उन्हें अक्सर यह डर लगा रहता है कि मेरी जिंदगी में कल क्या होगा. या मेरा भविष्य किस तरह से होगा. वह अच्छा होगा या फिर अंधकारमय होगा. इसके बारे में वह जानने के लिए हमेशा ही बहुत ज्यादा उत्सुक रहते हैं.

लेकिन जावेद अख्तर साहब अपनी शायरी की मदद से उन सभी लोगों को नसीहत देना चाहते हैं. भी कहते हैं कि हमें कभी भी भविष्य के बारे में ज्यादा सोचना नहीं चाहिए. और ना ही अपने अतीत के बारे में हमें कोई विचार करना चाहिए. हमें तो बस अपना और तमा नहीं याद रखना चाहिए. और उसी में तहे दिल से जीना चाहिए.

आज मैंने अपना फिर सौदा किया
और फिर मैं दूर से देखा किया

ज़िन्दगी भर मेरे काम आए असूल
एक एक कर के मैं उन्हें बेचा किया

aaj maine apna fir sauda kiya
aur fir main dur se dekha kiya
jindagi bhar mere kaam aaye asul
ek ek karke main unhen becha kiya

Dard Shayari In English को सुनकर हर कोई अपनी जिंदगी के बारे में सोचना चाहेगा. और साथ ही अपनी जिंदगी के साथ वह सौदे भी करना चाहेगा. क्योंकि जिंदगी का उसूल होता है.

जब वह कुछ देती है तो कुछ ना कुछ लेती भी जरूर है. और इसी वजह से आपको अगर जिंदगी से खुशियां लेनी हो. तो अपने सारे गम उसे देने होंगे. कुछ इसी तरह का सौदा आशिक भी प्यार में करता रहता है. उसके उसूल जो जिंदगी भर उसके साथ रहे थे. उन्हें ही आज वह लोगों पर लुटाने के लिए तैयार है.

Dard Shayari

दुख के जंगल में फिरते हैं कब से मारे मारे लोग
जो होता है सह लेते हैं कैसे हैं बेचारे लोग

इस नगरी में क्यों मिलती है रोटी सपनों के बदले
जिन की नगरी है वो जानें हम ठहरे बँजारे लोग

dukh ke jungle mein rehte hain kab se mare mare log
jo hota hai sah lete hain kaise hain bechare log
is nagari mein kyon milati hai roti sapnon ke badle
jinki nagari hai vah jaane ham thehre banjare log

जावेद अख्तर साहब अपनी इस शायरी में मजबूरियों की बात करते हैं. और किस तरह से मजबूर हुए लोग अपनी जिंदगी बिताते हैं. उसके बारे में अपने विचार लिखते हैं. उन्हें लगता है कि गम की मजबूरी में फंसे लोग इस दुनिया में दरबदर भटकते रहते हैं. उनका ना कोई ठिकाना होता है और ना ही कोई रास्ता पता होता है.

और जो भी उनके साथ हो रहा होता है. उसे यह लोग बस खामोशी से सहन करते रहते हैं. उन्हें यह सवाल हमेशा सताते रहता है. आखिर इस माया की नगरी में उन्हें अपने सपनों को पूरा करने के बदले रोटी कैसे मिलती है? और इस बारे में यह लोग भी कुछ नहीं जानते हैं.

मुझ को यक़ीं है सच कहती थीं जो भी अम्मी कहती थीं
जब मेरे बचपन के दिन थे चाँद में परियाँ रहती थीं

एक ये दिन जब अपनों ने भी हम से नाता तोड़ लिया
एक वो दिन जब पेड़ की शाख़ें बोझ हमारा सहती थीं

mujhko yakin hai sach kahati thi jo bhi ammi kehti thi
jab mere bachpan ke din the chand mein pariyaan rahti thi
ek yah din jab apnon ne bhi humse nata tod liya
ek vah din jab ped ki shakhe bojh hamara sehti thi

Dard Shayari की मदद से आप अपने दिल पर जरूरी यकीन कर पाओगे. क्योंकि आपको अपनी भूले बिसरे तीन और बचपन के दिन ही याद आएंगे. आपको अपने मां की याद जरूर सताएगी. क्योंकि बचपन में और उसने ही आपको सच बोलना सिखाया था. और अच्छे संस्कार देते हुए बहुत सारी कहानियां भी सुनाई थी.

और इसी वजह से आप को आज उन सभी कहानियों की बहुत याद आ रही है. जिनमें सभी परियां किसी पेड़ के पीछे छुप जाती है. और एक आपका आज का तजुर्बा है. जब हर कोई आपसे रिश्ता जोड़ना नहीं बल्कि तोड़ना चाह रहा है. और दूसरी तरफ आपकी बचपन की यादें बहुत ही रोमांचक है. क्योंकि वहां पर आप जिस पेड़ की डाली पर चढ़ जाते थे. वह डाली भी आपका बोझ सहे लेती थी.

Dard Shayari Image -3

Dard Shayari DP Image
Dard Shayari DP Image

जावेद अख्तर साहब की लिखी हुई यह Dard Shayari -2 अगर आपके दिल को भा गई हो, तो हमें comment area में feedback देकर जरूर बताइये.

दर्द शायरी पर लिखी गयी हमारी ये पोस्ट भी आपको अच्छी लगेगी

  1. Dard Shayari in Hindi -1: Painful Quotes in Hindi Urdu
  2. Dard Shayari DP Image -3: Zakhmi Dil Ke Status Sharechat

इसी तरह से आप हमारे Telegram channel को भी join कर सकते हैं, ताकि आपको रोज नायाब शायरियां मिल सकें. इसके लिए अपने Telegram में सर्च करें शायरी सुकून या @shayarisukun और हमारे चैनल को तुरंत join करें. 24 घंटो के भीतर आपकी सेवा चालू होगी.

आपके Twitter पर हमारी हसीन शायरी अपडेट्स पाने के लिए हमारे शायरी सुकून केे अकाउन्ट को जरूर Follow करें.

इसी तरह और गम भरी शायरियोंके स्टेटस देखने के लिए यहाँ Sad Shayari क्लिक करें.

8 thoughts on “Dard Shayari -2 : Javed Akhtar Poetry in Hindi”

  1. क्या बात!! क्या बात!!
    .. बहुत खूब वृषाली मॅम!!
    मजा आ गया जावेद अख्तर साहब की शयारियां आप की आवाज में सून कर…
    बेहद खूबसुरत script.

    अनेक शुभकामनाएं!
    – कल्याणी

  2. क्या बात है वृषाली मॅम

    सचमुच शायरियों का सुकून दिलाने वाली आवाज़..

    बहोत ख़ूब😊👌👌

  3. Ma’am as always your voice is suitable and perfect with any kind of shayari and your way of expressed emotions through shayari so well ma’am liked it 😍😍💕👌

  4. Ma’am you’re having very sweet voice and you expressed also very beautifully and amazingly👌👌👌

    Regards,
    Sameera urf Manpreet

  5. बढीया पेशकष वृषाली मॅम
    🌺👌🌺👌💐👌💐👌

Leave a Comment