bewafa -2:इस sad shayari को पढ़कर बेवफ़ा को भी वफ़ा याद आएगी!

bewafa shayari : आप चाहे कितने भी प्यार में डूब चुके हो, आपने अपने चहेते के साथ चाहे कितनी भी कसमें खा ली हो, लेकिन एक बार आपके दिलो-दिमाग में बेवफाई का जहर घुल गया, तो फिर उसे उतारना बेहद मुश्किल हो जाता है.

बेवफाई में लोग अपने ही साथी की अच्छाइयों को छोड़ कर उसकी बुराइयों को याद करते रहते हैं. और न जाने किस-किसको उसके बारे में भला-बुरा, bewafa कहते जाते हैं. जिसे वो कभी अपनी जान से भी ज्यादा चाहते थे, कल वो ही उसकी बेवफाई के किस्से लोगों में आम कर देते हैं.

उसके साथी को दर्द इस बात का नहीं होता कि उसका यार, उसका दिलबर, उससे बेवफाई कर रहा है. या उसे धोखा दे रहा है. लेकिन दुख तो इस बात का होता है, कि वो उसकी अच्छाइयों को भी नजरअंदाज करते हुए लोगों को हमेशा उसकी बुराई की, bewafa होने की कहानियां सुनाता रहता है.

हम भी अक्सर देखते हैं कि लोगों को किसी की भी अच्छाई के बजाय बुराई ही रास आती है, पसंद आती है. लोग किसी की भी अच्छाई के बजाय बुराई तुरंत फैला देते हैं.

भरी महफिल में उनसे सवाल करे भी तो कैसे?

अगर आपने भी अपनी जान से ज्यादा प्यार किए हुए दिलबर से धोखा खाया है, तो आप इस बात से भलीभांति परिचित होते है. जब भी आप प्यार को लेकर चल रही, किसी भरी महफिल में बैठे लोगों को मोहब्बत की, आपने की हुई वफाओं की बातें सुना रहे होते है.

अगर तभी, आपसे रुख़सत, आपका bewafa साथी भी शामिल हो जाये, तो जैसे पूरी मेहफिल पर एक अनजान खामोशी छा जाती है. लोगों को उस खामोशी की बारे में पता नहीं होता. उसे तो बस आप ही जानते हैं और आपका bewafa साथी! 

लेकिन हालात भी तो देखिए कैसे होते हैं. आपका bewafa यार उस खामोशी की वजह लोगों को बता नहीं सकता और मजबूरन आप भी उनसे कह नहीं पाते. बस एक दूसरे की चुप्पी से ही पूरी महफिल बर्खास्त हो जाती है.

आप तो वक्त बेवक्त बस यही सोचते रहते हैं. इन्हीं ख्यालों में डूबे होते हैं, कि आखिर क्यों आपके साथी को आपसे बेवफा करनी पड़ी. आखिर क्यों इतना बड़ा कदम उसे उठाना पड़ा, क्या उसे कोई मजबूरी थी? या फिर किसी के दबाव में आकर उसने यह कदम उठाया है?

आपके दिलबर को सच्चा प्यार शायद रास नहीं आया…

आपने अपने महबूब से जब भी प्यार किया तो पूरे दिलो जान से, होशो हवास में किया. ना आप पर कोई मजबूरी थी और ना ही आपने किसी की बातों के बहकावे में आकर प्यार किया था. आपने तो बस अपने महबूब से नजरे मिलाई और दिल का सुकून मानो जैसे खो दिया. उन्हें देखते ही आपको उनसे प्यार हो गया.

और जब से आपको प्यार हुआ था. उनसे बात किए बगैर एक पल भी रह नहीं पाते थे. दुनिया की तमाम खुशियां आपको छोटी लगती थी.

उनकी भी कुछ यही हालत थी. वो भी रातों में सो नहीं पाते थे. उठते-बैठते, खाते-पीते बस आपका ही ऐतबार करते थे. आपका ही इंतजार करते थे. मगर अब ये किसकी नजर लग गई है, अल्लाह जाने! अब तो वो बेदर्दी, bewafa आपकी तरफ नजरें उठाकर देखता भी नहीं. जिस गली से वो पहले गुजरते थे, वहां पर एक अलग सी बहार खिल जाती थी. वो एक नई खुशबू बिखेरते जाते थे.

लेकिन अब तो उन्होंने उनके आने-जाने का रास्ता ही बदल दिया है. आज वही गलियां जैसे सुनसान सी लगने लगी है. आपके दिल का सारा आलम ही वीरान हो चुका है. आपका चहेता यार ही आपसे रूठ कर चला गया है, बेवफा हो गया है. अब उन गलियों का फिरसे खिलकर भी क्या फायदा?

कल तक अपना मानने वाले, आज आपको जानते तक नहीं…

जब आप उनके दिल में बसते थे. जब वो आपको अपना मानते थे. आपकी हर एक बात को अपने दिल में बसा लेते थे. आपसे बेइंतहा प्यार करते थे, तब तक तो सब ठीक चल रहा था. आपके सपने जैसे सच हो रहे थे. वो भी उनके ख्यालों में बस आपको ही देखते थे. आप से पूरी तरह वफा निभा रहे थे.

लेकिन अचानक वक्त ने मानो जैसे करवट बदल ली. मौसम ने मानो जैसे अचानक से अपना रुख बदल दिया. कल तक जो आपको जानते थे. आप को ही अपना सब कुछ मानते थे. आज वो जानकर भी अनजान बन रहे है. आप को पहचानने से इंकार कर रहे है.

पहले तो आपको भी इस बात का ज्यादा गम नहीं हुआ. आपको तो लगा कि मोहब्बत में ऐसे कई सितम आएंगे, जिन्हें आपको सहना ही पड़ेगा. इसलिए आप उन्हें खुशी-खुशी सहते रहे. लेकिन आपको इस बात का अंदेशा तक नहीं था, कि इन मोहब्बत के सितम के पीछे बेवफाई की जड़ थी.

आपको अगर ये पता होता, तो आप शायद उनसे मोहब्बत ही ना करते. उनसे अपना दिल ही ना लगाते. जिनके लिए आपने यह जुल्मों सितम सहे थे, आज वही बेवफा, आपको बेखबर बना कर चला गया है.

आपकी दिल पर गुजरे इन जख्म भरे हालातों को समझते हुए हमने भी आपके लिए दर्द भरी शायरियां बनाई है. हमें यकीन है कि हमारी शायरियां आपके दिल के दर्द को कुछ हद तक कम करने में कामयाब रहेगी.

इन शायरियों की मदद से अगर आप अपने दर्द-ए-दिल अपने किसी अजीज से बांटना चाहो, तो आप अपने दोस्तों तक इन शायरियों को पहुंचा सकते है. इन्हें शेयर कर सकते हैं.


इन sad शायरियों को दर्द भरी आवाज में 🎧 सुनकर दिल को सुकून दिलाइये.

Use 🎧 for better SOUND EXPERIENCE -अच्छी साउंड क्वालिटी के लिए 🎧 का प्रयोग करें – Use 🎧 for better SOUND EXPERIENCE shayarisukun.com


best bewafa shayari status in hindi

सुना रहे थे महफ़िल में
वफाओ के किस्से..

उनकी शिरकत से
हम खामोश हो गए…

suna rahe the mehfil me
wafaon ke kisse..
unki shirkat se
hum khamosh ho gaye…

bewafa-2-sad-emotional-dard-bhari-shayari-in-hindi-1

bewafa shayari english

मैं ठीक से रह नहीं पाता
उनसे बात बिना किये..

उनका भी यही हाल है
लेकिन बेवफाई के लिए…

mai thik se rah nahi pata
unse baat bina kiye..
unka bhi yahi haal hai
lekin bewafai ke liye…


bewafa shayari photo status

बेदर्दी से जुल्म और
सितम सहते गए..

और आप बड़े आराम से
बेवफा बनते गए…!

bedardi se julm aur
sitam sahate gaye..
aur aap bade aaram se
bewafa bante gaye…!

bewafa-2-sad-emotional-dard-bhari-shayari-in-hindi-2

अगर यह शायरियां पढ़कर आपके बेदर्दी से जुल्मों-सितम सहने वाले दिल को आराम मिले, तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करते हुए हमें जरूर बताइएगा!

शायरी सुकून इस नायाब शायरियों के Telegram channel को अभी join करने के लिए शायरी सुकून या @shayarisukun सर्च करें और इस चैनल को अभी subscribe करें. आपको 24 घंटो के भीतर सेवा प्रदान की जायेगी.


शायरी सुकून की बेहतरीन शायरियों को अपने फेसबुक पर प्राप्त करने के लिए इस 👉🏼शायरी सुकून पेज को Like 👍🏼 और Share जरूर करें.


कुछ और दर्द भरी Quotes पढ़ने का मन हो रहा है, तो आप इस 👉🏼Sad Shayari 💔 कैटेगरी को पढ़ सकते हैं.

4 thoughts on “bewafa -2:इस sad shayari को पढ़कर बेवफ़ा को भी वफ़ा याद आएगी!”

Leave a Comment