Allama Iqbal Shayari Urdu -2: Top 10 Collection with Images

Allama Iqbal Shayari in Urdu : यह शायरियां लोगों की पसंदीदा शायारियों में से एक है. सारे जहां से अच्छा जिसे तराना ए हिंद कहा जाता है. यह शायरियां पढ़कर आपको एक शायर की गहरी भावनाओं का एहसास होगा.

Allama Iqbal Shayari in Urdu आपके सामने किसी तोहफे की तरह पेश है. जिसे आप सभी पढ़ना चाहोगे. आप इस खास पेशकश को अपने महबूब के साथ जरूर साझा करना चाहोगे. हमें यकीन है आप भी इन शायारियोंके चहेते है.

✤ शायरी सुनने के लिए ✤
♫ Player लोड होने दें ♫


इन अल्लामा इक़बाल शायरी को Anjali Gavali इनकी आवाज़ में सुनकर आप इनके शायरियों के कदरदान बन जाओगे!

खुद को कर बूलंद इतना की हर तकदीर सें पहलें
अल्लाह बदे से खुद पूछें बता तेंरी रजा* क्या हे

Khud ko kar buland itna ki har Taqdeer se pahle
Allah bande se khud pooche Bata Teri Raza kya hai

Allama Iqbal Shayari में यह बताया गया है की, दोस्तों हमें खुद को इतना मजबूत करना होगा इतना काबिल बनाना होगा कि हम जो हासिल करना चाहे वह हमें मिल जाए. जैसे हमें अपना भविष्य पहले ही मालूम हो जाए. खुदा हमारे साथ जो करेगा वह हमारी मर्जी नहीं होती. लेकिन हम इतने काबिल बन जाएगी हमारी मर्जी ही खुदा की मर्जी हो सकती है.

Allama Iqbal Shayari

अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल
लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे

Accha hain dil ke sath rahe paasban-e-akl
lekin kabhi kabhi ise tanha bhi chhod de

हमें हमेशा एक रक्षक की जरूरत होती है. जैसे मरीज को दवाई की हमेशा जरूरत होती है. लेकिन हालात कभी-कभी हमारे बस में नहीं होते. हम इस कदर दर्द में डूब जाते है कि हमें किसी भी चीज की फिक्र नहीं रहती है. हम बस अकेले रहना पसंद करते है. Allama Iqbal Shayari की मदत से आप समझोगे की, इसलिए हम इन दवाइयों से हमें सुरक्षा देने वाली चीजों से हम दूर हो जाते है. अपने अच्छे बुरे के बारे में सोचना छोड़ देते है.

Allama Iqbal Poetry

अनोखी वज़्अ’ है सारे ज़माने से निराले हैं
ये आशिक़ कौन सी बस्ती के या-रब रहने वाले हैं

Anokhi vajah hain sare jamane se nirale hain ye ashiq kaun si basti ke ya-rab rahane wale hain.

प्यार करने वाले लोग जमाने में बहुत कम मिलते हैं. इसीलिए उन्हें सबसे अलग भी समझा जाता है. जो लोग हमें प्यार करते हैं हमारे लिए वही हमारे भगवान होते हैं. हमारे माता पिता हमें सबसे ज्यादा प्यार करते हैं. Allama Iqbal Shayari में कुछ इस प्रकार से बताया गया है की, हम उनमें खुदा को देखते हैं. वैसे ही एक प्रेमिका के लिए उसका प्रेमी खुदा का रूप होता है. जिस प्रेमिका को उसका प्रेमी मिल जाता है उसे जैसे उसका खुदा मिल जाता है.

Allama Iqbal Shayari Image 2

Allama Iqbal Shaayri Urdu Image
Allama Iqbal Shaayri Urdu Image

Allama Iqbal Shayari in Urdu

माना कि तेरी दीद के क़ाबिल नहीं हूँ मैं
तू मेरा शौक़ देख मिरा इंतिज़ार देख

Mana ki teri deed ke kabil nahin Hun main tu Mera shauk dekh Mera intezar dekh.

कुछ लोग ऐसी चाहत करते हैं कि उस चाहत का दीदार भी उनके नसीब में नहीं होता. शायर किसी ऐसे ही आशिक का जिक्र करते हैं. जो कह रहा है कि वह अपनी प्रेमिका के दीदार के काबिल नहीं है. लेकिन उसमें सब्र बहुत है. जैसे वह उम्र भर उसके दीदार के लिए इंतजार करता रहेगा.

न पूछो मुझ से लज़्ज़त ख़ानमाँ-बर्बाद रहने की
नशेमन सैकड़ों मैं ने बना कर फूँक डाले हैं

Na pucho mujhse lajjat khanaman- barbad rahane ki nasheman sekadaun main ne bana kar funk dale hain.

Allama Iqbal Shayari in Hindi

दोस्तों बर्बाद होना कोई अच्छी बात नहीं है. जो बर्बाद हो जाता है वह इंसान इस दुख को जानता है. उसे पता है बर्बाद होना क्या होता है. हम भले ही उसे खुशकिस्मत कहे लेकिन वह अपने दर्द को जानता है. जो बर्बादी का अनुभव ले चुका है उसे हम अपने छोटे से दुख की कहानी सुनाएं तो उसे क्या दुख होगा. उसने हमसे कई ज्यादा दर्द सहा होता है.

उरूज-ए-आदम-ए-ख़ाकी से अंजुम सहमे जाते हैं कि
ये टूटा हुआ तारा मह-ए-कामिल न बन जाए

Uruj-e-aadam-e-khaki se Anjum sahame jaate hain ki yeh toota hua Tara mah-e-kamil n ban jaye

Allama Iqbal Shayari को पढ़कर आपको महसूस होगा की, आदम की धूल से तारे सहम जाते हैं कि उनमें से कोई टूटा हुआ तारा पूनम का चांद ना बन जाए. लेकिन जिसमें उभरने की शक्ति है वह मिट्टी से उभर कर चट्टान बन जाता है.

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं अभी
इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं

Sitaron se aage Jahan aur bhi hai abhi Ishq ke imtihan aur bhi hai

सितारों से आगे बहुत सी जहां होते हैं. जो हमारी सोच से परे है. हमारी सोच भी वहां तक पहुंच नहीं पाती. उसी प्रकार हमें प्यार में कई इम्तिहान देने पड़ते हैं. जिसके बारे में हम पहले नहीं सोच पाते. लेकिन हमें हमेशा हर इम्तिहान के लिए तैयार रहना पड़ता है. हमारी जिंदगी एक इम्तिहान है. जिसे हम अभी भी दे रहे हैं. ऐसा सोचिए कि इस जिंदगी में आने वाली इम्तिहान केवल एक एक प्रश्न है.

Allama Iqbal Shaheen Poetry

तू शाही है परवाज़ है काम तेरा
तिरे सामने आसमां और भी हैं

Tu shahi hain parwah hain kam tera
Tere samne aasman aur bhi hain

यदि हमारी उड़ान बाज की तरह है तो उड़ान भरना हमारा काम है. हमें हमारे सामने और आसमान दिखाई देगा. जिसमें उड़ान भरना हमारा काम है. मुझे ऐसा लगता है शायर हमें जिंदगी मेंऐसे ही उड़ान भरने की सलाह देना चाहते हैं. जो हमारा काम है उसे हमें करना चाहिए. तभी हमारी दृष्टि में हमारा भविष्य साफ दिखाई देगा.

तिरे इश्क़ की इंतिहा चाहता हूँ
मिरी सादगी देख क्या चाहता हूँ

Tere Ishq ki intiha chahta hun
Meri sadagi dekh kya chahta hu

शायर अपने इश्क की परीक्षा लेना चाहता है. उसमें सादगी भी इस प्रकार से भरी हुई है कि वह उम्र बीता देगा इश्क की परीक्षा देने के लिए.
अल्लामा इकबाल जी की शायरियां बड़ी ही खास है. जिस में हमें गहरा अर्थ छिपा मिलता है. हर कोई उसका मतलब अपनी समझ के अनुसार लेता है.

Allama Iqbal Shayari on Sharab

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है
मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी

Nasha pila ke girana to Sab ko ata hain
Maja to tab hain ki giraton ko tham le sakti

Allama Iqbal Shayari Image 3

Allama Iqbal Shaayri Urdu Status
Allama Iqbal Shaayri Urdu Status

दोस्तों किसी को गिराना बहुत आसान है. खासकर किसी को नशे की कोई भी चीज खिलाकर गिराना. लेकिन किसी का हाथ थामना बहुत मुश्किल है. गिरते हुए को बचाना खास बात होगी. हम गिरते हुए इंसान का हाथ थामकर उसे संभालते है तो यह बात बहुत अच्छी है. जो हमें एक अच्छा इंसान होने का सबूत देती है.

हमारी आजकी ये Allama Iqbal Shayari पोस्ट को सुनकर एवं पढ़कर अगर आपके कलेजे को ठंडक मिली हो, तो हमे निचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करना न भूलियेगा

शायरी सुकून की बेहतरीन शायरियों को अपने फेसबुक पर प्राप्त करने के लिए इस शायरी सुकून पेज को Like और Share जरूर करें


Allama Iqbal Shayari -1: Most Popular Collection in Hindi
Click above link to listen more


9 thoughts on “Allama Iqbal Shayari Urdu -2: Top 10 Collection with Images”

  1. Aapke shayari bolne ka andaaz achha laga esp the second one! Quite expressive explanation 👌🙂

  2. Superb!!
    Really nice presentation Anjali ji..
    Shayari padhne ka aapka Karara andaz bahut achha laga..
    Best wishes!!
    – Kalyani

  3. Anjali,

    Every time I hear your Shayari post’s recording, I feel like the teacher is telling me something. as a good student, I do listen to your recording with concentration & understand every word you speak.
    #PhilosophersVoice

  4. Apki awaaz mein jo नजाकत हैं वो दिल छू जाती हैं । 💓💓💓

  5. बहोत बढीया पेशकष अंजलीजी 😊👌👌👌
    💐💐💐💐🌺🌺🌺

  6. Bohot hi satik awaaz hai aapki anjali ji 💕💕😊👌jisse sunte hi har shabd Apne aap hi ehsaas batata hai 👌👌👌💕

Leave a Comment